Breaking News देश राज्य होम

लखीमपुर खीरी : सीएचसी खमरिया में मनाया गया विश्व श्रवण दिवस

सीएचसी खमरिया में मनाया गया विश्व श्रवण दिवस ।

(रिपोर्ट : अनुपम मिश्रा)

राष्ट्रीय बधिरता बचाव एवं रोकथाम कार्यक्रम के अंतर्गत आयोजित हुआ कार्यक्रम

लखीमपुर-खीरी।आज दिनाँक 3 मार्च को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र खमरिया ब्लॉक ईसानगर में शासन के आदेशों के क्रम में एन0पी0पी 0सी0 डी 0कार्यक्रम के अंतर्गत विश्व श्रवण दिवस मनाया गया।यह कार्यक्रम राष्ट्रीय बधिरता एवं बचाव कार्यक्रम के अंतर्गत आयोजित किया गया।जिसमें सभी लोगों को कान के महत्व और श्रवण शक्ति के बारे में बताया गया।

कार्यक्रम के दौरान सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र अधीक्षक डॉ0 बी0के0 स्नेही ने बताया कि सरकार द्वारा राष्ट्रीय बधिरता कार्यक्रम चलाया जा रहा है जिसका मुख्य उद्देश्य बहरेपन के प्रति लोगों को जागरूक करना है। इस बार की थीम है ।” कान शरीर का नाजुक अंग ,इसमें ना करना तुम जंग । पर्दे पर अगर लग गई चोट, जीवन भर का लग जाएगा रोग ।” इसलिए हमें हमें अपने 2 कान की देखभाल करना चाहिए। क्योंकि श्रवण शक्ति एक ऐसा माध्यम है जिसके द्वारा दुनिया से हमारा संपर्क बनता है। कान रोग अथवा कर्ण कुरूपताये हमें बहरा बना सकती हैं या श्रवण क्षमता को कम कर सकती हैं। इसलिए कान के प्रति हमको लापरवाह नहीं होना चाहिए ।कान की देखभाल करना महत्वपूर्ण है ।कान हमारा सबसे महत्वपूर्ण अंग होता है ।कान में कभी भी नुकीली वस्तु नहीं डालना चाहिए। कान पर बच्चे या वयस्क को नहीं मारना चाहिए। कानों को तेज शोर से बचाएं ।कानों में गंदा पानी ना आने दें अगर कान में कुछ रिसाव हो या कम सुनाई दे तो तुरंत पास के अस्पताल में जाकर डॉक्टर को दिखाना चाहिए। कान बहने पर उसमें कुछ मत डालें।कान में पानी न जाने दे।और किसी तरह का तरल पदार्थ न डालें मबाद को साफ और नरम कपड़े से साफ करें। मबाद में बदबू होना या खून आना एक गंभीर लक्षण हो सकते हैं। जिससे बहरापन भी आ सकता है। ऐसी स्थिति में तत्काल डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए ।

इस दौरान डॉ0 स्नेही ने बताया कि हमे कभी भी गंदे पानी में तैरने और नहाने से खराब वातावरण में रहने से बचना चाहिए। कान में कभी भी नुकीली वस्तु नहीं डालना चाहिए। इससे कान का पर्दा भी फट सकता है।इससे कान में इंफेक्शन हो सकता है और धीरे-धीरे सुनाई देना कम पड़ सकता है।इस दौरान समस्त कर्मचारियों ने भाग लिया।