Breaking Newsदेशराज्यहोम

गोरखपुर : तेजी से बढ़ने लगा कोरोना का खतरा:4 महीने बाद मिले 24 घंटे में 19 पॉजिटिव केस मिले, 59 हुई एक्टिव केसों की संख्या

गोरखपुर में तेजी से बढ़ने लगा कोरोना का खतरा:4 महीने बाद मिले 24 घंटे में 19 पॉजिटिव केस मिले, 59 हुई एक्टिव केसों की संख्या

इंडिया नाऊ 24
तपन बोस
गोरखपुर

मंगलवार को कोविड संक्रमण की जांच में 24 घंटे में 19 लोगों की रिपोर्ट पाजिटिव आई है।

गोरखपुर में एक बार फिर कोराना संक्रमण का खतरा तेजी से बढ़ने लगा है। अचानक से बीते एक हफ्ते से संक्रमितों की संख्या अब बढ़ने लगी है। मंगलवार को कोविड संक्रमण की जांच में 4 महीने बाद 24 घंटे में 19 लोगों की रिपोर्ट पाजिटिव आई है। कुल पाजिटिव की संख्या अब बढ़कर 59 हो गई है। संक्रमितों में पिपरौली इलाके का एक 10 साल का बच्चा, बेतियाहाता का 16 साल का किशोर, सूर्यकुंड की एक ही परिवार की दो महिलाएं भी शामिल है। कोरोना की रफ्तार अचानक बढ़ने से स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप मच गया है लेकिन वहीं लोग बेखौफ हैं। अधिकांश लोग अभी भी मास्क नहीं लगा रहे हैं।

सीएमओ डा. आशुतोष कुमार दूबे ने बताया कि पहली लहर से लेकर अब तक 66951 लोग संक्रमित हो चुके हैं। 66016 लोगों ने कोरोना को मात दे दी है। 866 की मौत हो चुकी है। वहीं अदर स्टेट केसों की संख्या 10 है। जिले में जो 19 संक्रमित हुए हैं उनमें शहरी क्षेत्र के 13 और देहात के 6 लोग हें।

15 दिन में पहले सिर्फ 2 थे पॉजिटिव केस

इस समय जिले में 59 सक्रिय मरीज हैं, 15 दिन पूर्व इनकी संख्या मात्र दो थी। स्वास्थ्य विभाग का मानना है कि लापरवाहियां इसका कारण हैं। संक्रमण से बचने के लिए मास्क लगाना और शारीरिक दूरी का पालन जरूरी है। शासन के अनुसार 5500 जांच प्रतिदिन होनी चाहिए। यदि यह मानक पूरा हो तो संक्रमितों की संख्या और बढ़ सकती है। इससे पहले 17 फरवरी को 28 लोगों की रिपोर्ट पाजिटीव आई थी।

एक हफ्ते में मिले पॉजिटिव

12 जून- 01
13 जून- 00
14 जून- 04
15 जून- 03
16 जून- 07
17 जून- 05
18 जून- 13
19 जून- 05

अभी खत्म नहीं हुआ है कोरोना

CMO डा. आशुतोष कुमार दूबे ने कहा कि इधर संक्रमितों की संख्या कुछ बढ़ी है, लेकिन इससे ऐसा नहीं माना जाना चाहिए कि कोरोना संक्रमण बढ़ रहा है। संक्रमण अभी खत्म नहीं हुआ है। सावधानी व बचाव के नियमों का पालन करें। टीकाकरण की वजह से संक्रमितों में बहुत मामूली लक्षण हैं। उनका उपचार घर पर ही चल रहा है। विभाग की टीम लगातार निगरानी कर रही है।

18 जून को वैक्सीनेसन का यह रहा हाल

बात करें वैक्सीनेसन की तो रविवार के आंकड़ों के अनुसार 130 बूथ पर 542 को पहली डोज, 5593 को दूसरी डोज और 362 लोगों को तीसरी डोज लगाई गई। यानि कुल 6497 लोगों को कोरोना रोधी ​टीका लगा। वहीं बात करें 15 से 17 साल के किशोरों को तो 51 को पहली डोज और 405 को दूसरी डोज लगाई गई। इसके अलावा 12 से 14 साल के बच्चों में पहली डोज 375 को और दूसरी डोज 1455 को लगी। इसके अलावा मंगलवार को 121 बूथों पर 7440 लोगों को कोरोनारोधी ​टीका लगाया गया है।

1664 निगरानी समितियां सक्रिय

जिले में कोरोना संक्रमण के बढ़ते आंकड़ों को देखकर 1664 निगरानी समितियों और आरआरटी टीम को सक्रिय कर दिया गया है। निगरानी समितियां गांवों में संक्रमितों और बाहर से आने वालों की जानकारी जुटाएंगी। 42 आरआरटी योनि रैपिड रिस्पांस टीम लगी हुई हैं। शहरी क्षेत्र में 23 और ग्रामीण में 19 आरआरटी हैं।

शुरू होने जा रही जीनोम सिक्वेंसिंग

कोरोना के केस बढ़ने के साथ ही मेडिकल कॉलेज के आरएमआरसी यानि रीजनल मेडिकल रिसर्च सेंटर भी आगे की तैयारियों में जुट गया है। जल्द ही जीनोम सिक्वेंसिंग शुरू हो जाएगी। इसके लिए सैंपल कलेक्शन का काम शुरू हो चुका है। वहीं नई मशीनों का उद्धाटन भी करोन की तैयारी है। जीनोम सिक्वेंसिंग के लिए सैंपल रैंडमली लिया जा रहा है।संक्रमित की सीटी वैल्यू चेक की जा रही है। जीनोम सिक्वेंसिंग के लिए जिन ​सीक्वेंसर मशीनों को लैब में इंस्टाल किया जा चुका है।

ट्रायल के दौरान रैंडम सैंपल लिया जा रहा है जिससे 96 घंटे लग रहे हैं। इस मशीन को नेक्स्ट जनरेशन यानि एनजीएस कहते हैं।यह जर्मनी से आई है। इससे वायरस के नए वैरिएंट का पता लगाया जाता है। इसके अलावा साइटोकाइन मशीन है जिससे शरीर की प्रतिरोधक क्षमता पता लगाया जाता है। वहीं फ्लोसाइटोमैट्री मशीन से कोशिकाओं की जांच कर बीमारियों का पता लगाया जा सकेगा। सभी मशीने इंस्टाल हो चुकी हैं।जल्द ही सीएम योगी आदित्यनाथ इन मशीनों का इनॉगरेशन कर सकते हैं।

Related Articles

Back to top button