Breaking Newsदेशराज्यहोम

गोरखपुर : 2266 ग्राम सभाओं होगा ड्रोन सर्वेक्षण:DM बोले- 128 ग्राम सभाओं का ड्रोन सर्वेक्षण पूरा, 904 का चल रहा; बाकी 1362 ग्राम सभाओं का जल्द पूरा करें सर्वे

गोरखपुर के 2266 ग्राम सभाओं होगा ड्रोन सर्वेक्षण:DM बोले- 128 ग्राम सभाओं का ड्रोन सर्वेक्षण पूरा, 904 का चल रहा; बाकी 1362 ग्राम सभाओं का जल्द पूरा करें सर्वे

गोरखपुर33 मिनट पहले

DM शुक्रवार को अपने सभागार में जिले के अधिकारियों संग बैठक कर रहे थे।

गोरखपुर के DM विजय किरन आनंद ने कहा कि जिले में 22,66 ग्राम सभाओं में ड्रोन सर्वेक्षण होगा। इनमें से 904 ग्राम सभाओं में ड्रोन सर्वेक्षण का कार्य चल रहा है। जबकि 128 ग्राम सभाओं में सर्वेक्षण के काम पूरे हो चुके हैं। अभी 1362 ग्राम सभाओं में ड्रोन सर्वेक्षण कार्य होना बाकी है।

खत्म किए जा सकेंगे जमीनी विवाद

DM शुक्रवार को अपने सभागार में जिले के अधिकारियों संग बैठक कर रहे थे। उन्होंने कहा कि जिन 128 ग्राम सभाओं ड्रोन सर्वेक्षण का काम पूरा हो चुका है, उन्हें घरौनी जल्द ही वितरण किया जाएगा। DM ने अधिकारियों को निर्देशित किया कि ड्रोन सर्वेक्षण का काम जल्द से जल्द पूरा करने के लिए ड्रोन कैमरे बढ़ाया जाएं। जिससे अगस्त 2022 तक सर्वेक्षण का काम पूरा किया जा सके। ताकि ग्राम सभाओं में होने वाली छोटे- मोटे जमीनी विवाद को हमेशा के लिए खत्म किया जा सके।

DM ने तय की जिम्मेदारी

DM ने संबंधित अधिकारियों से कहा कि ड्रोन टीम चिन्हित ग्राम में सर्वे के लिए मौजूद होने से पहले चूना मार्किंग का काम हर हाल में पूरा किया जाए। क्योंकि गर्मियों के सीजन में ड्रोन फ्लाइंग सुबह ही शुरू किया जा सकेगा। इस दौरान लेखपाल सेक्रेटरी/ एडीओ पंचायत पूरी तरह जिम्मेदार होंगे। जबकि राजस्व टीम (लेखपाल/ग्राम सचिव और राजस्व निरीक्षक) ड्रोन सर्वे के दौरान प्राप्त मानचित्र -01 से ग्राम में किए जाने वाले काम और नक्शे में नम्बर दिए जाने का काम देखेंगे। इस काम को सकुशल कराने के लिए ग्राम सचिव पूरी तौर पर जिम्मेदार होंगे।

सभी का काम भी बांटा

DM ने कहा कि भौतिक स्थिति से संबंधित पड़ताल राजस्व निरीक्षक और लेखपाल, डाटा कलेक्शन- प्रारूप -05 की फीडिंग के लिए लेखपाल, ग्राम विकास अधिकारी/ग्राम सचिव रोजगार सेवक और पंचायत मित्र डाटा कलेक्शन का काम राजस्व दीन की ओर से किए जाने वाले नक्शे की पड़ताल और नंबरिंग का काम करेंगे। डाटा कलेक्शन जिम्मेदारी लेखपाल, ग्राम विकास अधिकारी/ग्राम सचिव की होगी।

ऑनलाईन फीडिंग- प्रारूप -05 का डाटा कलेक्शन के दौरान सहायक विकास अधिकारी पंचायत अपने ग्राम स्तर पर नियुक्त पंचायत सहायकों के माध्यम से फीडिंग का कार्य अपने- अपने लैपटॉप/कम्प्यूटर से तहसील कार्यालय में उपस्थित होकर समय पूरा करेंगे।

लेखपाल, पंचायत सहायकों की ओर से फीड किए गए डाटा की दोबारा जांच करके ग्राम को लॉक करवायेंगे। साथ ही ऑनलाइन डाटा फीडिंग की समस्त जिम्मेदारी एडीओ पंचायत की होगी।

खबरें और भी हैं…

Related Articles

Back to top button