Breaking Newsदेशराजनीतीराज्यहोम

गोरखपुर : सीएम योगी ने सुनी फरियाद, जनता दरबार में अधिकारियों को दिए जरूरी निर्देश

गोरखपुर में सीएम योगी ने सुनी फरियाद, जनता दरबार में अधिकारियों को दिए जरूरी निर्देश

Tapon Bose
India now24 Gorakhpur

गोरखनाथ मंदिर के हिंदू सेवाश्रम में लगे जनता दरबार में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अधिकारियों को निर्देशित किया कि गरीबों की जमीनों पर कब्जा करने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करें। कोई भू माफिया या अपराधी किसी की जमीन कब्जा न करने पाए। जनता दर्शन कार्यक्रम में रविवार को करीब 800 लोग अपनी समस्याएं लेकर पहुंचे थे। इनमें से केवल दो सौ लोगों से ही सीएम योगी ती मुलाकात हो पाई। बाकी लोगों की समस्याओं को अधिकारियों ने सुना और उनका प्रार्थना पत्र लिया।

गोरखपुर में जनता दर्शन में अपने जनता की समस्या सुन रहे थे। तभी उनकी नजर गोद में बैठी पांच माह की आरूही निवासी पिपराइच, गोरखपुर पर पड़ी।  मुख्यमंत्री ने बच्ची को खूब दुलार दिया, सिर पर हाथ फेरा तथा चाकलेट मंगाकर उसे दिया।

सीएम योगी के सामने अपनी समस्याएं रखने वालों में कई ने जमीन विवाद का मुद्दा उठाया। जनता दर्शन में बड़ी संख्या में जमीन-जायदाद और इलाज के मामले आए। मुख्यमंत्री ने जनता दर्शन में मौजूद अधिकारियों को जमीन की समस्या का समाधान जल्द से जल्द करने का निर्देश दिया। साथ ही इलाज के लिए धन की मांग लेकर आए लोगों पर विशेष ध्यान देने को कहा। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि आगे बढ़कर वह यह सुनिश्चित करें कि किसी भी व्यक्ति का इलाज धन के अभाव में रुकने न पाए।

रविवार सुबह हमेशा की तरह तड़के अपने आवास से निकलने के बाद योगी ने सबसे पहले गुरु गोरखनाथ के दरबार में हाजिरी लगाई। विधि-विधान के साथ वैदिक मंत्रोच्चार के बीच उनका दर्शन-पूजन किया। इसके बाद उन्होंने अपने गुरु ब्रह्मलीन महंत अवेद्यनाथ के समाधि स्थल पर जाकर शीश नवाया।

मंदिर परिसर के भ्रमण और गोसेवा के बाद वह हिंदू सेवाश्रम गए, जहां सुबह से ही अपनी समस्या बताने के लिए लोग उनका इंतजार कर रहे थे। वहां आए हर-एक के पास खुद पहुंचकर उनका प्रार्थना-पत्र लिया। प्रशासन से जुड़े मामलों का समस्यात्मक आवेदन पत्र उन्होंने जिलाधिकारी विजय किरन आनंद को दिया।

उनसे कहा कि समस्या का निस्तारण जल्द कराएं। इलाज के लिए धन मिलना सुनिश्चित होने की जिम्मेदारी भी उन्होंने जिलाधिकारी को ही दी। पुलिस के मामलों के निस्तारण के लिए एसएसपी विपिन ताड़ा को सहेजा।

Related Articles

Back to top button