देशब्रेकिंग न्यूज़राजनीतिराज्य

गुरुग्राम : बंधवाड़ी में कूड़े का नहीं मौत का पहाड़ है: राज बब्बर

रिपोर्टर इंडिया नाउ 24 सुरेंद्र गुरुग्राम

बंधवाड़ी में कूड़े का नहीं मौत का पहाड़ है: राज बब्बर

-बोले, आसपास के गांवोंं के लोग बीमार हो रहे, प्रशासन कहता है सब ठीक है

– एनजीटी के आदेशों का उल्लंघन हो रहा है । बँधवाड़ी में कूड़ा डालने की मना करने के बावजूद भी कूड़ा डाला जा रहा है फरीदाबाद का कूड़ा भी यहीं डाला जाता है

-अधिकारी, नेता , इको ग्रीन सभी मिल कर इसमें लिप्त हैं। पूर्व सांसद कांग्रेस के वरिष्ठ नेता

राज बब्बर ने शुक्रवार को बंधवाड़ी स्थित डंपिंग स्टेशन का दौरा किया। एक दिन पूर्व एक मजदूर की कूड़े के ढेर में दबकर मौत होने को उन्होंंने हत्या करार दिया। उन्होंने कहा कि मजूदरों के पास कोई सुरक्षा उपकरण नहीं उपलब्ध कराये जाते हैं। यहां खुलेआम उनकी जान को खतरे में डाला जा रहा है।

राज बब्बर ने कहा कि एक तरफ तो शहर कूड़े का घर बना हुआ है और दूसरी तरफ यहां के हालत बहुत बुरे हैं। बंधवाड़ी में यह कूड़े का नहीं मौत का पहाड़ है। यह यहां पर काम करने वाले मजदूरों को भी मौत दे रहा है और आसपास के गांव वाले भी मीथेन गैस से प्रभावित हैं । कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी का शिकार हो रहे हैं।

उन्होंने कहा कि यह अधिकारियों और नेताओं के करप्शन का भी पहाड़ है। जिस एजेंसी को यहां काम दिया गया, उसने सही तरीके से काम नहीं किया। सरकार ने इको ग्रीन एजेंसी को बर्खास्त करने का नाटक किया। सही मायने में तो सरकार, नेता और इको ग्रीन मिले हुए हैं। क्योंकि एक तरफ तो एजेंसी बर्खास्त की जाती है और तुरंत ही उसे स्टे मिल जाता है। यह सब दिखावा किया गया है। राज बब्बर ने कहा कि एनजीटी ने भी माना है कि यह डंपिंग साइट सही नहीं है। यहां पर करोड़ों की धांधली हुई है। नेता, अधिकारी इसमें शामिल हैं।

बँधवाड़ी गाँव जाकर उन्होंने गांव के सरपंच को साथ लेकर यहां पर विस्तार से जानकारी हासिल की। उन्हें बताया गया कि इस कूड़े के पहाड़ के कारण आसपास के कई गांवों का पानी जहरीला हो गया है। एनजीटी ने भी यहां के पानी को पीने लायक नहीं बताया है। फिर भी नगर निगम गुरुग्राम के कमिश्नर कह रहे हैं कि उन्होंने सेपंल चेक कराए हैं, रिपोर्ट सही आई है। यहां के पानी की क्वालिटी बहुत अधिक खराब हो चुकी है। उन्होंने कहा कि वे बंधवाड़ी और अन्य गांवों के लोगों से भी मुलाकात करेंगे। किसी भी स्तर पर अन्याय नहीं होने देना ही उनका उद्देश्य है। वे ग्रामीणों की इस समस्या का हल निकालवा कर ही रहेंगे। उन्होंने कहा कि अगर शुरू से ही कूड़ेे का मैनेजमेंट सही किया जाता तो आज यह पहाड़ नजर नहीं आता। उन्होंने कहा कि मज़दूर की मौत की जाँच हाई लेवल कमेटी से कराई जाये। क्योंकि यहां हर समय मजदूर मौत के साये में काम करते हैं। उनकी सुरक्षा के नाम पर कुछ प्रबंध नहीं हैं। राज बब्बर ने कहा कि हरियाणा सरकार ने लोगों की समस्याओं के समाधान के लिए प्रदेश में समाधान शिविर शुरू किए हैं। सरकार को चाहिए कि सबसे बड़ी इस समस्या का सबसे पहले समाधान किया जाए।इस मौके पर पूर्व प्रत्याशी शमसुदीन,राहुल राव,पकज डावर,महेश घोड़ारोप,जसविन्दर सिंह बिसला,नितीन भारद्वाज,प्रमोद सैनी आदि मौजूद रहे।

Himanshu Chaubey

Related Articles

Back to top button