Breaking News देश राजनीती राज्य होम

घरा नदी में समा गयी किसानों की सैकड़ों बीघा लहलहाती फसल

लखीमपुर- खीरीघा

घरा नदी में समा गयी किसानों की सैकड़ों बीघा लहलहाती फसल,।

ए. के. मिश्र
India now24
(संवाददाता)

धौरहरा। घाघरा नदी ने रामनगर बगहा में भूकटान तेज कर दिया है। किसानों की लहराती फसलों सहित उनकी जमीनें नदी में समाती चली जा रही हैं। बाढ़ खंड विभाग तमाशबीन बनकर रह गया है। एसडीएम की फटकार के बाद बाढ़ खंड ने बचाव कार्य तेज कर दिया।

विकासखंड रमिया बेहड़ के रामनगर बगहा में घाघरा नदी इन दिनों तबाही मचा रही है। नदी रामनगर बगहा निवासी मुनेजर लाल, इशाद अली, विश्राम, सोनेलाल, हिरई, कुसुमा देवी समेत दर्जनों किसानों की सौ एकड़ से अधिक कृषि योग्य भूमि फसलों सहित निगल चुकी है। 10 दिनों में गुलरिया तालुका अमेठी निवासी अनिल निगम, सुनील निगम, जगदीश जायसवाल, सुंदरलाल, विशंभर, विश्वनाथ, सालिकराम, कमलेश, आदेश निगम की करीब चार सौ बीघा जमीन की लहलहाती फसलें घाघरा नदी में समा चुकी है। नदी तेजी से कटान कर आगे बढ़ रही है। यदि यही स्थिति रही तो भू कटान कर रही नदी बस्तियों को उजाड़ देगी।
भू कटान की सूचना पर शनिवार को एसडीएम एस सुधाकरन रामनगर बगहा गांव पहुंचे। भू कटान देख बाढ़ खंड अधिकारी को फटकार लगाई। उनकी फटकार का असर भी दिखा। बाढ़ खंड एक्सईएन दिनेश कुमार ने तुरंत जेई बाढ़ खंड और ठेकेदारों को बुलाया। बचाव कार्य भी शुरू कराया। इससे पहले बाढ़ खंड का बचाव कार्य गुलरिया तालुका अमेठी के गांव घोसियाना में चल रहा था। एसडीएम ने बताया कि कहीं भी भू कटान के बचाव कार्य में लापरवाही हुई तो संबंधित अधिकारी के विरुद्ध कार्रवाई तय है। सभी कटान पीड़ितों को सरकारी सहायता जल्द ही दी जाएगी।
बोरियां डालकर बंबू कैरेट बना कटान रोकने का प्रयास किया जा रहा है। काफी हद तक कटान रुका भी है। फिर भी दैवीय आपदा के सामने ज्यादा उपाय नहीं चल पा रहा।
दिनेश कुमार
एक्सईएन(बाढ़ खंड विभाग शारदानगर)