Breaking News देश राजनीती राज्य होम

चित्रकूट – चित्रकूट के दोदिवसीय दौरे पर आए सीएम योगी आदित्यनाथ कल(शनिवार) सुबह भगवान कामदगिरि की करेंगे परिक्रमा

चित्रकूट

दिनाँक 14 09 2019 को पूर्वान्ह 6.20 बजे मुख्यमंत्री उत्तरप्रदेश साशन लखनऊ द्वारा कामदगिरी प्रमुख द्वार व 6.20 से 08 बजे तक कामदनाथ जी के दर्शन एवम परिक्रमा तथा रोपवे का उद्घाटन किया जाएगा इसी दौरान माननीय मुख्यमंत्री जी द्वारा पंचायत भवन के बगल में ग्राम प्रधानों व महिलाओं को प्लास्टिक पालीथिन पर रोकलागने के लिए जूट के थैले का वितरण कर प्रयोग करने का संदेश देंगे व स्वच्छता ही सेवा अभियान के अन्तर्गत परिक्रमा मार्ग पर माननीय मुख्यमंत्री जी द्वारा स्वयं झाड़ू लगाकर स्वच्छता का संदेश दिया जाएगा ।कृपया अनुरोध है कि समय से उक्त स्थल पर आयोजित सभी कार्यकर्मो में प्रतिभाग कर

चित्रकूट के दोदिवसीय दौरे पर आए सीएम योगी आदित्यनाथ कल(शनिवार) सुबह भगवान कामदगिरि की करेंगे परिक्रमा,सुबह 6:30 प्रारंभ करेंगे परिक्रमा, परिक्रमा के दौरान लक्ष्मण पहाड़ी रोपवे करेंगे उद्घाटन, सुबह8बजे तक पूरा होगा परिक्रमा, ग्राम प्रधानों व महिलाओं को प्लास्टिक पालीथिन उपयोग न करने के लिए जूट के थैले वितरण कर पालीथीन न उपयोग करने का देंगे संदेश, “स्वच्छता ही सेवा अभियान” के अन्तर्गत परिक्रमा मार्ग पर माननीय मुख्यमंत्री स्वयं झाड़ू लगाकर स्वच्छता का देंगे संदेश।

 

उत्तर प्रदेश में राज्य के पूर्व मुख्यमंत्रियों, मौजूदा सीएम और मंत्रियों का इनकम टैक्स सरकारी खजाने से भरा जाता है. इस कानून के अनुसार उत्तर प्रदेश सरकार अब अपने 19 मुख्यमंत्रियों जिनमें से 18 पूर्व मुख्यमंत्री हैं, के आयकर भरेगी. साथ ही सरकार करीब 1000 मंत्रियों का इनकम टैक्स भी जमा करेगी. यह मुख्यमंत्री समाजवादी पार्टी, बहुजन समाज पार्टी और बीजेपी समेत कांग्रेस पार्टी से रहे हैं.

जिन मुख्यमंत्रियों की तरफ से सरकार इनकम टैक्स जमा करेगी उनमें मुलायम सिंह यादव, अखिलेश यादव, मायावती,कल्याण सिंह, राजनाथ सिंह, नारायण दत्त तिवारी और योगी आदित्यनाथ का नाम शामिल है. मुख्यमंत्रियों के इनकम टैक्स को अदा करने का यह बिल मुख्यमंत्री विश्वनाथ प्रताप सिंह के समय में पास हुआ था.

मौजूदा समय में योगी आदित्यनाथ के सरकार के दौरान 2 साल में जितने भी मंत्री रहे हैं उनका इनकम टैक्स जो कि करीब 86 लाख रुपये है, उसे सरकार ने अदा किया है. अब बाकी पुरानी रकम जो कि मुख्यमंत्रियों और मंत्रियों के नाम से जमा होनी है, उसे भी सरकार अदा करेगी.

चार दशक पुराने कानून में कहा गया है कि राज्य के सीएम और मंत्री अपनी कम वेतन के कारण इनकम टैक्स नहीं भर सकते और वे गरीब हैं. साल 1981 में जब विश्वनाथ प्रताप सिंह उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री थे, उस वक्त यह कहते हुए बिल पास किया गया था कि ज्यादातर मंत्री और विधायक गरीब तबके से आते हैं. इसलिए जनता का प्रतिनिधि होने के नाते उनके इनकम टैक्स का भुगतान सरकारी खजाने से होना चाहिए.

मा0 मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ, दिनांक 13 सितम्बर 2019 को जनपद चित्रकूट में आचार्य रामभद्राचार्य से भेंट करते तथा राम मंदिर में पूजा अर्चना करते हुए।