Breaking News देश राजनीती राज्य होम

कानपुर – सीएसजेएमयू का 34वां दीक्षा समारोह सम्पन्न

वैन न्यूज एजेंसी
रिर्पोट पंकज ब्यूरो चीफ
कानपुर

सीएसजेएमयू का 34वां दीक्षा समारोह सम्पन्न

दीक्षा समारोह का राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने किया शुभारम्भ, पीएम के योग गुरू को मानद उपाधि

दीक्षा समारोह के दौरान मंत्र पर उपस्थित रहीं राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, उच्च शिक्षा राज्यमंत्री नीलिमा कटियार तथा कुलपति प्रो0 नीलिमा गुप्ता

दीक्षा समारोह में पहल बार प्राथमिक विधालय के बच्चे रहे मौजूद, मुख्य गेट पर फूलदेकर आगंतुको का किया स्वागत
55 मेधावियों को दिये गये पदक, 15 छा-छात्राओं को प्रदान की गयी पीएचडी की उपाधि।

कानपुर नगर, छत्रपति शाहू जी महाराज विश्वविधालय के 34वें दीक्षा समरोह में उस समय नारी शक्ति का अद्भुद नजारा देाने को मिला जब सीएसजेएमयू के दीक्षा समारोह के मंच पर राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, उच्च शिक्षा राज्यमंत्री नीलिमा कटियार तथा कुलपति प्रो0 नीलिमा गुप्ता विराममान रही। मुख्य अतिथ्ािि इंडियन काउंसिल आफ मेडिकल रिसर्च के पूर्व महानिदेशक पद्मभूषण प्रो0 निर्मल कुमार गांगुली भी उपस्थित रहे। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के योग गुरू पद्श्री अचआर नागेंद्र को मानद उपाधि से नवाजा गया। इस दौरान 55 मेघावियों को पदक प्रदान किये गये जिसमें 40 छात्राएं शामिल है साथ ही 15 छात्र-छात्राओ को पीएचडी की उपाधिक से अलंकृत किया गया, उपाधि प्राप्त करने में भी 12 छात्राये रहीं। समारोह में 1426 छात्र-छात्राओं को डिग्री प्रदान की गयी, जिसमेें भी छात्राओं की संख्या अधिक रही। समारोह में स्नातक, स्नातकोत्तर, पीएचडी के अलावा एमबीीएस, ड्राइंग, पेंटिंग, म्यूजिक, एमबीए व बीटेक सहित अन्य प्रोफेशनल कोस में 55 मेंघावियों को 84 स्वर्ण, रजत व कांस्य पदक दिए गये।
पूर्व प्रस्तावित कार्यक्रम के अंतर्गत राज्यपाल आनंदीबेन पटेल का हेलीकाॅप्टर बुधवार की सुबह कानपुर नगर पहुंचा। हेलीकाॅप्टर से उतरने के बाद राजयपाल छत्रपति शाहू जी महाराज विश्वविधालय के सभागार पहुंची जहां 34वें दीक्षा, समारोह का आयोजन किया गया था। राज्यपाल आनंदीबेन द्वारा दीप प्रज्जवलित कर 34वें दीक्षा समारोह का शुभारंभ कियागया। इस दौरान मंच पर मुख्य अतिथि प्रदम्भूषण प्रो0 एनके गांगुली, विशिष्ठ अतिथि उच्च शिक्षा राज्यंत्री नीलिमा कटियार भी उपस्थित रहीं। राज्यपाल पटेल द्वारा विश्वविधालय में 6 करोड की लागत से बने स्विमिंग पूल का उद्घाटन किया गया। राज्यपाल के सामने बच्चों ने तैराकी का भी प्रदर्शन किया तो उन्होने छात्रो की प्रतिभा को सराहा। डीपीएस कल्याणपुर के 12वीं के छात्र मयंक टेकचंदानी की तैराी देखकर उन्होने प्रशंसा की। इसके साथ उन्होने स्विमिंग पूल परिसर में एक पीपल का पौधा भी रोपा। इस दौरान कुलपति प्रो0 नीलिमा गुप्ता, कललाजी वैदिक विश्विधालय निंबाहेरा चित्तौडगढ के कुलपति प्रो0 अशोक कुमार, पूर्व प्रति कुलपति प्रो0 आरसी कटियार, कुलसचिव विनोद कुमार सिंह, परीक्षा नियंत्रक अनिल कुमार यादव, वितत अधिकारी धीरेन्द्र तिवारी, अकादमिक अधिष्ठाता प्रो0 संजय स्वर्णकार भी मौजूद रहे।

यह मिले पदक
कानपुर विश्वविधालय के 34वे दीक्षा समारोह में कुलापति स्वर्ण पदक चिकित्सा संकाय में सर्वश्रेष्ठ विधार्थी के लिए देविना जुनेजा, एमबीबीएस(27.77 फीसदी अंक), लाला लक्ष्मीपत सिंहानिया सवर्झा पदक विश्वविधालय में एमबीबीएस परीक्षा में अधिकतम अंक प्राप्त करने के लिए देविका जुनेजा (72.77), श्री रामचंद्र मुसददी स्वर्ण पदक मेडिकल साइंस संकाय की सर्वश्रष्ेठ छात्रा के लिए देविका जुनेजा (72.77 फीसदी अंक) डा0 बीएन भल्ला स्वर्ण पदक एमबीबीएस फाइनल प्रोफेशनलपरीक्षा पहले ही प्रयास में उत्तीर्ण करने के लिए साक्षी त्यागी( 74.11 फीसदी अंक), महेश चंद्र श्रीवास्तव स्मारक स्वर्ण पदक परीक्षा में फार्मोकोलाॅजी विषय में सर्वोच्च अंक प्राप्त करने के लिए साम्या सिंह (75.33 फीसदी अंक), शीमिका अग्रवाल (75.33 फीसदी अंक) तथा शुभांगी मिश्रा (75.33 फीसदी अंक) को अवार्ड से नवाजा गया।

विश्वविधालय प्रशासन ने भंजवाई छात्र-छात्राओं पर लाठियां
कानपुर विश्वविधालय के दीक्षान्त समारोह में जहां राज्यपाल पधारी हुई थी वहीं विश्वविधालय के सभागार के बाहर बीएड के छात्र-छात्राओं ने जमकर हंगामा किया। छात्रों ने विश्विधालय प्रशासन पर डिग्री में वसूली का आरोप लगाया। हंगामा कर रहे सभी छात्र-छात्राएं सत्र 2016-18 के है। हंगामे ंकी सूचना पाते ही मौके पर विवि प्रबंधन ओर प्रश्ज्ञासनिक अधिकारी मौके पर पहुंच गये और छात्र-छात्राओं को समझाने तथा शांत कराने का प्रयास किया लेकिन जब छात्र नही माने तो वहां मौजूद पुलिस ने बलप्रयोग करते हुए लाठियां भांजकर सब सबको खदेडा। इस दौरान अफरा-तफरी का माहौल बना रहा। छात्र-छात्राओं ने बताया कि डिग्रकी देने में विश्विधालय के अधिकारियों द्वारा छात्रो को परेशान किया जाता है और वसूली की जाती है। छात्रो ने कहा आज विवि में जब राज्यपाल उपस्थित है तो उन्हे भी इस बात से अवगत होना चाहिये कि यहां क्या चल रहा है। छात्रों ने बताया कि विश्विधालय में डिग्री में संशोधन कराने पर 900रू0 की मांग की जाती है। छात्रो द्वारा असमर्थता जताने पर डिग्री देने के लिए परेशान किया जाता है।

उत्तरी के लिए जमा कराये गये 200 रू0, वापसी में 50 काटे

विश्व विधालय प्रबंधन द्वारा दीक्षान्त समारोह के दौरान सिर्फ उन्ही बच्चों को आडोटोरियम में प्रवेश दिया गया जिनके पास उत्तरी थी। छात्रो ने बताया कि गले में पहनाई जाने वाली पीले कलर की जिसे उत्तरी कहा जाता है उसे देने के लिए विश्विधालय प्रशासन ने छात्रो से 200 रू0 जमा कराये, इतना ही नही जब उत्तरी वापस की जाती है तो 50 रू0 काट लिया जाता है। अधिकारियों द्वारा कहा जाता है कि उत्तरी की साफ सफाई के लिए 50 रू0 लिये जाते है। जबकि छात्रो का कहना है कि जो कोर्स उनके द्वारा किया जाता है उसमें हजारो रू0 कराये जाते है लेकिन एक उत्तरी का पैसा भी छात्रो से लिया जाता है और यह बात शायत राज्यपाल को नही पता।

डिग्री में अंकित हुए गलत नाम
दीक्षान्त समारोह में छात्र-छात्राओं को जो डिग्री दी गयी उसमें कई छात्र-छात्राओं के नाम गलत अंकित है जिससे छा़त्रो में रोष है। छात्रो ने बताया कि यह गलती विश्वविधायल प्रशासन की है। जब फार्म भरते समय सही नाम लिखा गया तक डिग्री में गलत नाम क्यांे चढाया गया यह लापरवाही ही है। छात्रो ने बताया कि विश्विधालय के प्रशासन की लापरवाही और लगती का खामयाजा छात्र-छात्राओं को उठाना पडेगा और डिग्री में अंकित गलत नाम को ठीक कराने के लिए दर्जनो बार विश्वविधालय के चक्कर काटने होगे।