Breaking News देश राजनीती राज्य होम

मेरठ – मेरठ विकास प्राधिकरण में जोनल अधिकारी व अभियंता का लाखों में हुआ सेटिंग का खेल

मेरठ विकास प्राधिकरण में जोनल अधिकारी व अभियंता का लाखों में हुआ सेटिंग का खेल

मेरठ विकास प्राधिकरण के जॉन ए सेक्टर 2 संजीव तिवारी से मिलकर लाखों रुपए का दुआ सेटिंग का खेल फोटो में आप शटर जो कि विनोद सिंघल की है इस पर सील लगी हुई थी जिसको ₹100000 लेकर सटल रंग लगवा दिए गए इसके अलावा भी इन सभी निर्माणों से ₹100000 की धनराशि वसूली गई और निर्माण को बढ़ावा दे दिया गया संजीव तिवारी एक ऐसे अभियंता है जो कि उत्तर प्रदेश सरकार को बराबर धोखा दे रहे हैं आपके सामने यह 15 अवैध निर्माण है जिसमें ना तो आज तक कोई चालान हुआ है और ना ही कोई कार्रवाई इसमें जोनल अधिकारी नोडल अधिकारी अभियंता संजीव तिवारी व मेट्रो की मिलीभगत से क्षेत्र में बहुत बड़ा खेल हुआ है इसमें जो पिलर खड़े हैं वह विशन चौक ब्रहमपुरी गोयल रोडी बदरपुर वाले के हैं जो 500 गज में निर्माण चल रहा है बताया जाता है कि संजीव तिवारी यहां से भी ढाई लाख रुपए ले जा चुके हैं ऐसा ही एक निर्माण अग्रवाल कॉलोनी में कारखाना पूरा तैयार हो गया और यहां से भी ₹500000 संजीव तिवारी डकार गए हैं एक तरफ तो मेरठ विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष दावेदारी कर रहे हैं कि कंपाउंडिंग कंपाउंडिंग लेकिन कंपाउंडिंग आए कहां से जब हर जॉन के अंदर सेटिंग का खेल चलता है और खुद भी मेरठ विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष जहां पर अवैध निर्माण चल रहा है उसी के पास में गणपति पूजन के लिए गए क्या वह अवैध निर्माण को अभय दान देने के लिए वहां पर उपाध्यक्ष महोदय अभय दान देने गए थे वहीं एक निवासी नवीन भोला है उसका भी निर्माण दिल भी चुंगी पर है जहां से मेरठ विकास प्राधिकरण को लाखों रुपए की कंपाउंडिंग आ सकती है लेकिन मेरठ विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष ने मां पर जाकर दिखा दिया कि कोई बात नहीं अवैध निर्माण करो मेरी कोई शक्ति नहीं है यह मेरठ के अंदर जो मेरठ विकास प्राधिकरण के अंदर जो उपाध्यक्ष महोदय शक्ति दिखा रहे हैं एक दिखावा है क्योंकि वह उत्तर प्रदेश सरकार के स्वच्छ एवं भ्रष्टाचार मुक्त पर पलीता लगा चुके हैं ऐसे में तो मेरठ विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष की संपत्ति की जांच होनी चाहिए और सभी अभियंताओं की भी संपत्ति की जांच होनी चाहिए जो उत्तर प्रदेश सरकार के शासनादेश मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आदेश को पलीता लगा रहे हैं।

मेरठ से ब्यूरो चीफ बीके गुप्ता