Breaking News देश राज्य होम

 प्रदेश के वन मंत्री राव नरबीर सिंह ने पौधारोपण कर गुरूग्राम जिला के सकतपुर में की सिटी फोरेस्ट बनाने की शुरूआत

 प्रदेश के वन मंत्री राव नरबीर सिंह ने पौधारोपण कर गुरूग्राम जिला के सकतपुर में की सिटी फोरेस्ट बनाने की शुरूआत

– सिटी फोरेस्ट में सीवरेज के शोधित पानी से विकसित की जाएंगी झीलें, लेपर्ड सफारी बनाने का भी किया जाएगा प्रयास।
– सिटी फोरेस्ट में कंपनियां सीएसआर के तहत करवाएंगी काम, कंपनियां का मिल रहा है भारी सहयोग।
-लगभग 1000 एकड़ भूमि पर विकसित होगा सिटी फोरेस्ट।

रिपोर्टर योगेश गुरूग्राम India Now24

गुरूग्राम । हरियाणा के लोक निर्माण तथा वन मंत्री राव नरबीर सिंह ने आज गुरूग्राम जिला में सिटी फोरेस्ट बनाने की शुरूआत गांव सकतपुर के निकट पौधारोपण करके की। यह सिटी फोरेस्ट सकतपुर, गैरतपुर बास  तथा शिकोहपुर की लगभग एक हजार एकड़ भूमि में विकसित किया जाएगा।
गांव सकतपुर में आयोजित इस कार्यक्रम में लोक निर्माण एवं वन मंत्री राव नरबीर सिंह तथा आस पास के गांवो के सैंकड़ों लोगों ने भाग लिया और पौधारोपण किया। आज गुरूग्राम के अलावा प्रदेश के अन्य जिलों मे भी सघन पौधारोपण अभियान चलाया गया ताकि जन साधारण को पर्यावरण संरक्षण के लिए प्रेरित किया जा सके। इस अवसर पर लोक निर्माण मंत्री ने उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि गुरूग्राम जिला में बढ़ते प्रदूषण के स्तर को देखते हुए सिटी फोरेस्ट की स्थापना की जा रही है।
उन्होंने कहा कि सिटी फोरेस्ट विकसित करने के लिए गुरूग्राम महानगर विकास प्राधिकरण(जीएमडीए) द्वारा सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट (एसटीपी) ट्रीटीड पानी को यहां तक लाया जाएगा ताकि उसका इस्तेमाल पेड़-पौधों के रख-रखाव तथा पानी के प्राकृतिक स्त्रोत विकसित करने मे किया जा सके। उन्होंने बताया कि बहरामपुर एसटीपी से रोजाना 17 करोड़ लीटर पानी को शोधित किया जाता है जिसमें से केवल 80 से 90 लाख लीटर पानी को शोधित कर इस्तेमाल किया जाता है। उन्होंने कहा कि शेष 16 करोड़ लीटर पानी की बर्बादी हो रही है। उन्होंने कहा कि जीएमडीए द्वारा इस पानी को सिटी फोरेस्ट तक लाने की दिशा में काम किया जा रहा है जिसका उपयोग यहां पर बनाई जाने वाली झीलों में किया जाएगा।
उन्होंने कहा कि सिटी फोरेस्ट में लेपर्ड सफारी बनाने के लिए भी प्रयास किये जा रहे हैं। मंत्री ने कहा कि वे जल्द ही इटावा जाएंगे और वहां पर बनाई गई लायन सफारी को देखेंगे जिसके बाद यहां लेपर्ड सफारी बनाने की दिशा में काम किया जाएगा। वन मंत्री ने कहा कि सिटी फोरेस्ट में पौधारोपण करने सहित विभिन्न प्रकार की गतिविधियां भी होंगी ताकि लोग यहां भ्रमण के लिए आ सकें और प्रकृति से जुड़ सकें। उन्होंने कहा कि सिटी फोरेस्ट को विकसित करने के लिए काॅरपोरेट जगत की कंपनियों का सहयोग लिया जा रहा है और काफी कंपनियों ने सिटी फोरेस्ट में पौधारोपण करने के लिए रूचि  दिखाई है। उन्होंने कहा कि हम ऐसी कंपनियों का स्वागत करते है। कपनियों को सिटी फोरेस्ट में स्थान आंबटित किए जाएंगे जहां पर वे पौधारोपण के साथ साथ पर्यावरण संरक्षण के लिए अन्य गतिविधियां भी चला सकती हैं। उन्होंने विश्वास दिलाया कि सिटी फोरेस्ट विकसित होने के बाद यहां भारी संख्या में लोग घूमने के लिए आएंगे और प्रकृति का आनंद उठाएंगे।
उन्होंने कहा कि गुरूग्राम जिला में प्रदूषण का स्तर दिन-प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है। प्रदूषण के स्तर को नीचे लाने के लिए जरूरी है कि हम अधिक से अधिक पौधारोपण करें और पर्यावरण संरक्षण में अपना योगदान दें। उन्होंने कहा कि हमे अपने दादा-दादी , माता -पिता या भाई-बहन के जन्मदिवस या उनकी याद में एक पेड़ अवश्य लगाना चाहिए और उसकी देखभाल करनी चाहिए। उन्होंने लोगों से अपील करते हुए कहा कि वे पाॅलीथिन का बहिष्कार करें और सामान लाने के लिए कपड़े या जूट के थैलों का प्रयोग करें। उन्होंने कहा कि पर्यावरण संरक्षण के लिए आज हमे एकजुट होकर प्रयास करने होंगे तभी हम आने वाली पीढ़ी को स्वच्छ व निर्मल वातावरण दे सकते हैं।
कार्यक्रम में वन मंडल अधिकारी सुभाष यादव ने बताया कि सिटी फोरेस्ट विकसित करने के लिए गांव सकतपुर, गैरतपुर बास, शिकोहपुर, नौरंगपुर की जमीन पर विकसित किया जाएगा। उन्होंने बताया कि सिटी फोरेस्ट में एडवेंचर जोन, नेचर ट्रेल, बांस कुंज, औषधीय पौधों का गार्डन, सिवरेज के शोधित पानी से झीले व पौधों की सिंचाई तथा वन क्षेत्र विकसित किया जाएगा। उन्होंने बताया कि वन विभाग द्वारा सिटी फोरेस्ट में इस साल 50 हजार पौधे लगाए जाएंगे।
आज आयोजित कार्यक्रम में पैनासोनिक कंपनी से ऋतु भोज , डेल कंपनी तथा अन्य कंपनियों के प्रतिनिधि उपस्थित थे। इस अवसर पर सरपंच राव प्रीतम सिंह, हाकम खान, दयाराम, गजराज पंच, चंद्रशेखर पंच , वजीरपुर के सरपंच शेर सिंह चैहान, पार्षद राकेश यादव, कुलदीप यादव तथा ब्रहम यादव सहित कई गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।