Breaking News देश बिज़नेस राजनीती राज्य होम

लोहा व्यापारी की पत्नि न्याय के लिए पहुंची एसएसपी की चैखट पर

वैन इन्टरनेशनल न्यूज एजेंसी
रिर्पोट पंकज ब्यूरो चीफ
कानपुर

लोहा व्यापारी की पत्नि न्याय के लिए पहुंची एसएसपी की चैखट पर
कहा नन्द व नन्दोईयो ने षडयंत्र कर की पति की हत्या, जांच कर दोषियो को सजा देने की मांग
बताया पति की पहली पत्नी की भी हुई थी हत्या, सास-ससुर गये थे जेल
बताया नन्दोई उसे बनाकर रखना चाहता था रखैल, जूतो पर सिर रखवाकर पति के सामने मंगवाई थी माफी

कानपुर नगर, एक लडकी जो शादी के बाद सपने संजोय अपने ससुराल आयी और अपने नये जीवन की शुरूआत नये साथी के साथ की। उसने कभी यह भी नही सोंचा था कि जल्द ही उसकी खुशियो में आग लग जायेगी और आग लगाने वाले अपने ही होंगे। शादी के कुछ ही दिन बाद शुरूहुई यातनाओ का न तो वह विरोध कर सकी और न ही उसके पति। दिन गुजरते गये और बात बढती गयी। पैसों के लालची रिश्तेदारो ने सास-ससुर के साथ मिलकर एक एसा षडयंत्र रचा कि कुछ ही पल से सब समाप्त हो गया। पति की संदिग्ध परिस्थितयों में हत्या कर दी गयी। हद तब हुई जब पति की मौत के बाद पत्नी को कमरे में बंद कर पति के जरूरी कागजात और उसके जवर ले लिये गये और पति को जहर देकर मारने का आरोप लगाया गया।
मूल रूप से रसूला बाद की रहने वाली सपना गुप्ता पत्नि जितेन्द्र गुप्ता ने बताया कि वह निर्धन परिवार से है उसके माता-पिता वृद्ध व बीमार रहते है। मजबूरी के चलते उन्होने 46/70 हटिया निवासी सुरेन्द्र कुमार गुप्ता के पुत्र जितेन्द्र जो लोहे के व्यापारी से, शादी तय कर दी यह जानते हुए कि जितेन्द्र की पहली पत्नी मर चुकी है। बताया उसके सीधे और सरल स्वभाव के थे लेकिन घर पर तीन ननद विनीता पति मोहित निवासी रानीघाट, शीलू पति आशीष निवासी औरैया तथा रानू पति अमित निवासी मनीराम बगिया का आना जाना लगा रहता था। कहा मेरे पति अच्छा कमाते थे सो तीने बहनोई उनसे आये दिन पैसा मांगते थे। सास ससुर भी बहनोइयों का सर्पोट करते थे तो मजबूरन पति को पैसा देना पडता था। एक दिन पैसा देने पर मना करने पर बहनोई मोहित तथा आशीष, सास ऊषा गुप्ता व ससुर के साथ नंदो ने पति को मारा, विरोध करने पर पत्नि को भी पीटा। इतना ही नही बहनोई मोहित ने कहा पत्नि तू जितेन्द्र की है लेकिन मै तुझे रखैल बनाकर रंखूगा। बताया बहनोई ने पैरो से जूता उतारा और मुझे जूते पर सिर रखकर माफी मांगनी पडी लेकिन सास ससुर ने कोई विरोध नही किया। उत्पीडन का यह क्रम चलता रहा। पति ने अगल मकान खरीने की बात कह कई बार पत्नी को संतावना दी।पीडिता ने बताया बीते 6 माह से मोहित उसके पति की दुकान में जबरन बैठने लगा था। ससुर का कहना था कि काम ज्यादा है इस लिए मोहित मदद के लिए बैठता है। वहीं मोहित ने स्व0 जीतेन्द्र की गाडी बिकवा दी। पत्नी ने बताया कि जिस दिन पति की हत्या हुई उस दिन उन्होने बताया था कि वह बीसी का पैसा उठाने जा रहे है लेकिन उनकी मौत की खबर उन्हे मिली। बताया पति के अंतिम संस्कार के बाद ससुराल वालों ने उसे कमरे में बंद कर पति के सभी कागजात व जेवर रख लिये पूंछने पर मार-पीट की। किसी प्रकार अपने रिश्तेदारो को बताया तब महिला मण्डल की कुछ महिलाओ ने पीडिता को ससुराल से निकाला और थाने ले गयी तथा प्रार्थना पत्र देकर उसे मायके भेज दिया। वहीं ससुराल वालो ने उल्टा बहू पर बेटे को जहर देकर मारने का आरोप लगाया। पीडिता ने कहा की उसके पति की हत्या उसके नन्दोई मोहित व अति ने मिलकर षडयंत के साथ की है। पीडिता ने सोमवार को एसएसपी को प्रार्थना पत्र देकर मामले की जांच तथा दोषियो को सजा देने की मांग की तथा बताया कि पूर्व में उनके पति की पहली पत्नी को भी ससुरालियों ने मार दिया था तथा उसके ससुर व सास को जेल भी हुयी थी। एसएसपी द्वारा कोतवाली में मामला दर्ज करने का निर्देश दिया गया जहां पीडिता के बयान दर्ज किये गये।
सीओ ने की अभद्रता
जहां कोतवाली प्रभारी ने मामला समझते हुए पीडिता के बयान लिए वहीं सीओ राजेश पाण्डे जिन्हे एसएसपी द्वारा निर्देश किये गये थे उन्होने कहा वह कल्यानपुर में है। जब वह कोतवाली आये तो उन्होने पीडिता से अभद्रता से बात की उन्होने कहा ममला उन्हे पता है और तुम्हारी एक ढाई वर्ष की बेटी भी है, तथा रिपोर्ट दर्ज नही की। कहा चार-पांच दिन बाद जांच करायेगे।