Breaking News देश राज्य

 रजिस्टेªशन मंे दिक्कत होने पर टोलफ्री नंबर 1800-180-0023 पर करें संपर्क- डा. जे गणेश

 रजिस्टेªशन मंे दिक्कत होने पर टोलफ्री नंबर 1800-180-0023 पर करें संपर्क- डा. जे गणेश

रिपोर्टर योगेश गुरूग्राम India Now24

हरियाणा राज्य कृषि विपणन बोर्ड के मुख्य प्रशासक डा. जे गणेशन ने इस मौके पर बताया कि जो किसान आढ़ती के माध्यम से फसल खरीदते व बेचते हैं, वे फसल की बिक्री के समय अनाजमण्डी के गेट पर आने के बाद भी आढ़ती का नाम बदल सकते हैं। यह जरूरी नहीं है कि रजिस्टेªशन के समय जिस आढ़ती का नाम पोर्टल पर भरा गया, फसल उसी को बेचनी है। डा. गणेशन ने बताया कि रजिस्टेªशन कार्य में कठिनाई आने पर कोई भी व्यक्ति टोल फ्री नंबर 1800-180-0023 पर फोन करके जानकारी हासिल कर सकता है।
– सरसों उत्पादक किसानों को रजिस्टेªशन का है अनुभव-एसीएस सुधीर राजपाल।
कृषि विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव सुधीर राजपाल फरीदाबाद से इस बैठक में शामिल हुए, जिन्होंने बताया कि प्रदेश में सरसों उत्पादक ढाई लाख किसानों को रजिस्टेªशन प्रक्रिया का ज्ञान है क्योंकि उन्होंने पहले भी अपनी फसल का रजिस्टेªशन करवाया था। उन्होंने बताया कि सन्  2011 की जनगणना के अनुसार प्रदेश में लगभग 16 लाख किसान हैं।
– कृषि भूमि की ई-गिरदावरी अनिवार्य-एसीएस नवराज संधु।
राजस्व विभाग की अतिरिक्त मुख्य सचिव नवराज संधु ने बैठक में बताया कि इस बार से जमीन की ई-गिरदावरी अनिवार्य होगी और इसके लिए पटवारियों को टेबलेट दिए गए हैं। उन्होंने स्पष्ट किया कि ई-गिरदावरी के अलावा दूसरी गिरदावरी नहीं होगी और ई-गिरदावरी का कार्य भी 5 अगस्त से शुरू करके 5 सितंबर तक खत्म करना है। उन्होंने कहा कि जिन पटवारियों को ई-गिरदावरी करनी नहीं आती उनके लिए 10 जुलाई से 22 जुलाई तक प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित करवाए जाएंगे।
-ये रहे उपस्थित।
इस अवसर पर गुरूग्राम में उपायुक्त अमित खत्री, अतिरिक्त उपायुक्त मोहम्मद इमरान रजा, कृषि उपनिदेशक आत्माराम गोदारा, गुरूग्राम उतरी के एसडीएम जितेंद्र कुमार, सोहना की एसडीएम डा. चिनार चहल, पटौदी के एसडीएम प्रदीप अहलावत, एनआईसी के सूचना विज्ञान अधिकारी विभू कपूर, सिंचाई विभाग के अधीक्षण अभियंता डा. शिव सिंह रावत भी उपस्थित थे।