Breaking News देश राज्य होम

गुरूग्राम । बादशाहपुर ड्रैन की क्षमता को बढ़ाकर 1800 क्यूसिक किया

बादशाहपुर ड्रैन की क्षमता को बढ़ाकर 1800 क्यूसिक किया

रिपोर्टर योगेश गुरूग्राम India Now24

गुरूग्राम । आगामी मानसून के मौसम में गुरुग्राम जिला में जलभराव की समस्या ना हो, इसके लिए जिला प्रशासन द्वारा नगर निगम तथा गुरुग्राम महानगर विकास प्राधिकरण (जी एम डी ए) के साथ मिलकर  तैयारियां की जा रही है। हीरो होंडा चैक पर पानी भरने से रोकने के लिए बादशाहपुर ड्रैन की क्षमता को बढ़ाकर 1800 क्यूसिक किया गया है जिसका काम अंतिम चरण में चल रहा है और आगामी 30 जून तक इस कार्य को पूरा कर लिया जाएगा।
यह जानकारी आज गुरूग्राम के उपायुक्त अमित खत्री ने हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल को वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से दी। मुख्यमंत्री आज वीडियों काॅन्फें्रसिंग के माध्यम से बाढ़ से बचाव कार्यों की तैयारियों की समीक्षा रहे थे। मुख्यमंत्री ने वीडियो कान्फ्रेंसिंग में उपायुक्त से विशेष तौर पर बादशाहपुर ड्रैन  के बारे में पूछा जिस पर उपायुक्त ने बताया कि जब गुरूग्राम जिला में महाजाम लगा था, उस समय बादशाहपुर ड्रैन की क्षमता 500 क्यूसिक की थी जिसे बढ़ाकर 1200 क्यूसिक कर दिया गया। अब इसकी क्षमता को 1200 क्यूसिक से बढ़ाकर 1800 क्यूसिक किया जा रहा है जिसका काम अंतिम चरण मे हैं। मानसून आने से पूर्व यह काम पूरा कर लिया जाएगा।
उपायुक्त ने बताया कि हीरो होंडा चैक पर जलभराव रोकने के लिए  जिला प्रशासन ने जी एम डी ए और एन एच एआई  के साथ मिलकर विशेष इंतजाम किए हैं। हीरो होंडा चैक पर अंडरपास में जलभराव रोकने के लिए पंप सेटों के स्विच पैनल बाहर लगवाए गए है क्योंकि पिछली बार ये पैनल डूबने से पंप चल नही पाए थे।इसके अलावा, अतिरिक्त पंप सेटों की व्यवस्था पावर बैकअप के साथ भी की गई है। जिला में बरसाती पानी की निकासी के लिए बने नालों व ड्रैनों की सफाई का काम लगभग पूरा हो चुका हैं। जिला में रेन वाटर हारवेस्टिंग सिस्टमों की भी चालू हालत सुनिश्चित की जा रही है। उन्होंने बताया कि जिला के 30 ऐसे स्थानों पर जिला प्रशासन का विशेष ध्यान रहेगा जहां पर जलभराव होने की संभावना रहती है। उन्होंने बताया कि पिछले वर्ष जिन क्षेत्रों में बरसात के समय जल भराव हुआ था, वहां इस बार वैसी स्थिति ना बने, इसके लिए विशेष प्लान तैयार कर पानी निकासी के पुख्ता प्रबंध किए गए हैं।
मुख्यमंत्री ने कहा कि मंडलायुक्त बाढ़ से बचाव कार्यों की तैयारियों की नियमित रूप से समीक्षा करते रहें ताकि लोगों को जलभराव की समस्या से ना जूझना पड़े। उन्होंने गर्मी के मौसम के लिए भी तैयारियां करने के आदेश सभी उपायुक्तों को दिए हैं और कहा कि प्रदेश में गर्म हवाएं चल रही हैं, इस दौरान पेयजल आपूर्ति व्यवस्था प्रभावित ना हो, यह ध्यान रखें।
बैठक में गुरूग्राम के नवनियुक्त मंडलायुक्त अशोक सांगवान, नगर निगम के एडिश्नल म्युनिसिपल कमिश्नर वाई एस गुप्ता, नगर निगम के चीफ इंजीनियर एन डी वशिष्ठ, गुरूग्राम महानगर विकास प्राधिकरण के चीफ इंजीनियर ललित अरोड़ा सहित कई अधिकारीगण उपस्थित थे।