Breaking News देश राज्य होम

गुरुग्राम। सेना के शौर्य के नाम पर सत्तासीन हुई बीजेपी, बेनकाब !

सेना के शौर्य के नाम पर सत्तासीन हुई बीजेपी, बेनकाब !

कार्यकर्ताओं पर बरसा रहे फूल, एएन 32 के सैनिकों को भूले
तीन वायु सैनिक हरियाणा के फरीदाबाद, पलवल व गोहाना के
एएन 32 के 13 जांबांज वायु सैनिक आये देश के काम 

रिपोर्टर योगेश गुरूग्राम India Now24

गुरुग्राम। सैनिक और सेना के शौर्य के नाम पर सत्तासीन हुई बीजेपी एवं पार्टी नेता बेनकाब हो गए हैं। चुनाव और वोट लेनें से पहले तक मंच से सेना, सैनिक, अर्ध सैनिक बल सहित इनका गुणगान करने वाली सत्ताधारी पार्टी और इसके नेताओं को एएन 32 में सवार वायु सैनिक जो कि अपना फर्ज अदा करते  हुए देश के काम आये, याद नहीं आए।
सूबे में दस के दम के बाद में और विधानसभा चुनाव से पहले मिशन 75 के लिए कार्यकर्ता अभिनंदन के लिए तूफानी दौरे पर निकले सूबे की सरकार के मुखिया से लेकर पार्टी के पदाधिकारी व अन्य नेता जीत के जश्न में ऐसे डूबे हैं कि, देश के काम आने वाले जांबांज वायु सैनिकों के सम्मान में बोलने के लिए दो शब्द का भी टोटा बना हुआ है। लापता एएन 32 प्लेन के दो दिन पहले मलबा मिलने के साथ ही सैनिकों के परिजनों ने भी हिम्मत नहीं छोड़ी और भरोसा जताया कि, सभी सैनिक सही सलामत लौट आएंगे। एक दिन पहले ही पुष्टि की गई कि प्लेन में सवार सभी सैनिक अंतिम सांस तक अपना फर्ज निभाते हुए देश के लिए काम आये। एएन 32 में हरियाणा के फरीदाबाद के राजेश, पलवल के आशीष और सोनिपत के पंकज भी सवार थे, परिजनों को अंतिम समय तक इनके सकुशल लौटने की उम्मीद बनी रही , न ही उम्मीद को छोड़ा। लेकिन सभी 13 सवार सैनिको के नहीं रहने की पुष्टि के बाद इनके परिजनों को भी गहरा सदमा लगा है।
सूबे की सरकार के मुखिया, पार्टी नेता और पदाधिकारी सहित तमाम कार्यकर्ता लोकसभा चुनाव में दस की दस जीत का जश्न मनाने में मगन हैं और सरकार के मुखिया कार्यकर्ताओं संग फूलों की होली मना रहे हैं। अपने संबोंधन में अभी तक किसी भी कार्यक्रम के मंच से देश के काम आने वाले जांबांंज वायु सैनिकों के सम्मान में दो शब्द तक नहीं कहे गए । विपक्ष भी सत्तापक्ष के चुनाव के बाद में सेना, सैनिको और शौर्य पर चुप्पी को लेकर चुटकी लेने लगा है कि, सेना, सैनिक और शौर्य के शोर में वोट बटोरने के बाद अब शायद सेना, सैनिक और शौर्य भी बेमानी हो गया है। हां गुरुवार सायं को ही सांसद एवं मोदी मंत्रीमंडल में वजीर राव इंद्रजीत सिंह की तरफ से शोसल मीडिया पर उन्होने अपनी संवेदना अवश्य पोस्ट की है। इससे इतर अन्य किसी नेता अज्ञेर पदाधिकारी का काई भी कैसा भी संवेदना भरा संदेश तक न सुना गसा न ही देखा गया है।