Breaking News देश राजनीती राज्य होम

बेलरायां लखीमपुर खीरी – अधिकारियों की लापरवाही के कारण चीनी मिल बेलरायां ने अधिक इडैंट से पर्ची निकाल देने से पूरा रोड करीब 5 किलोमीटर जाम

अधिकारियों की लापरवाही के कारण चीनी मिल बेलरायां ने अधिक इडैंट से पर्ची निकाल देने से पूरा रोड करीब 5 किलोमीटर जाम

बेलरायां चीनी मिल प्रशासन की लापरवाही के चलते किसान को परेशानीयों का सामना करना पड़ता है व इसी कमाऊं खाऊं रवैया के चलते चीनी मिल हर वर्ष करोड़ों का घटना होता है निघासन लखीमपुर खीरी बेलरायां,सरयू सहकारी चीनी मील बेलरायां के उच्च अधिकारियों की लापरवाही के कारण बेलरायां चीनी मिल में भीड़ अधिक होने के कारण किसानों की परेशानी को उबारने का नाम नही ले रहे हैं
अधिकारियों की लापरवाही के कारण चीनी मिल बेलरायां ने अधिक इडैंट से पर्ची निकाल देने से पूरा रोड करीब 5 किलोमीटर जाम है जिससे दोनों तरफ जाम होने के कारण आम जन मानस ऐसी ताप्ती धूप में परेशान हो रहा है जिसमें बेलापरसुआ,कड़िया डांगा ,गंगानगर आदि करीब सैकड़ो गांवो का आवागमन बाधित है जिसको देखने वाला कोई भी मील कर्मचारी व इतनी अधिक गर्मी मे बीमार होने की स्थिति मे तहसील व जिला निघासन,लखीमपुर भी नही जा सकते हैं जिससे उचित इलाज हो सके जहाँ एक ओर आम जनमानस परेशान हैं तो वहीँ दूसरी ओर किसानों का भी दुःख दर्द कम नही है जो किसानों के सामने झलकता नजर आ रहा है इस भंयकर तपती धूप मे गन्ना भी सूख रहा है जिसके चलते किसानों का भी नुकसान के साथ चीनी मिल का भी नुकसान हो रहा है वहीं किसानों ने बताया कि करीब 10 दिनों से जाम बिल्कुल कम नही हो रही इतनी जाम होने के बाद भी चीनी मील प्रशासन का दिल जरा भी नही पसीजता जो कि एक ही कांटा चलाये जा रहे हैं यदि दूसरा कांटा भी चलाये तो जाम न होगी तथा किसानों ने यह भी बताया की अधिक जाम होने के कारण किसान आपस मे जल्बाजी के चक्कर मे बेड़ा ट्रेक्टर ट्राली लगा देते है जिसके चलते अधिकांस ट्रेक्टर ट्राली आपस मे टकरा कर टूट जाती है जिससे किसानों में आपस मे विवाद होने लग जाता है लेकिन किसानों को शांत कराने वाला कोई कर्मचारी नही होता है, जिससे किसानों के आपस मे सम्बन्ध खराब हो जाते है व विवाद चर्म सीमा पे पहुच जाता है जबकि अधिकांस समय मील बीच बीच मे बन्द हो जाती है जिससे रोड पर जाम की स्थित बानी रहती है मील प्रसासन का कोई भी गार्ड रोड पर नही जाता हैं जिससे जाम पर काबू पाया जा सके।

जसवन्त कुमार वर्मा, निघासन लखीमपुर खीरी,इडिया नाउ 24