देश राजनीती राज्य होम

बूथ लूटने वाले मनीष ग्रोवर हाऊस अरेस्ट , मतदान खत्म होने तक नहीं निकल सकेंगे घर से बाहर

रोहतक(हरियाणा)बयूरो संजय पांचाल

मनीष के दो साथी रमेश लुहार व दो अन्य गुंडे गिरफ्तार , गुंडों से हथियार , गोलियां व लाठियां बरामद. बिना नंबर प्लेट की चार गाड़ियां भी इंपाऊंड. राजनीतिक दलों की राज्यपाल से ग्रोवर को फौरन बर्खास्त करने की मांग. हाऊट अरेस्ट होने वाला ग्रोवर हरियाणा का पहला मंत्री

रोहतक । हरियाणा के सहकारिता मंत्री और रोहतक के विधायक मनीष ग्रोवर बुरी तरह विवाद में फंस गये हैं । उन पर रमेश लुहार नाम के गैंगस्टर की मदद से रोहतक शहर के बूथ नंबर 143 को लूटने और जबरदस्ती मतदान कराने के आरोप लगे हैं । चुनाव आयोग ने बूथ कैपचरिंग की इस शिकायत को सही पाते हुए मंत्री मनीष ग्रोवर को हाऊस अरेस्ट किये जाने का आदेश दिया । आदेश के मुताबिक मनीष ग्रोवर मतदान समाप्त होने तक घर से बाहर नहीं निकल सकेंगे और न ही किसी तरह की गतिविधियों में भाग ही ले पाएंगे । इसके साथ ही मनीष ग्रोवर के साथ बूथ कैप्चर करने वाले गैंगस्टर रमेश लुहार और उसके दो साथियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है । रमेश लुहार गांव बोहर का निवासी बताया जाता है । वीडियोज में रमेश लुहार मंत्री मनीष ग्रोवर के साथ बूथ के भीतर साफ दिखाई दे रहा है ।

पता चला है कि पुलिस ने गुंडों की बिना नंबर प्लेट की चार गाड़ियों को भी इंपाऊंड किया हैं । इन गाड़ियों से कई हथियार , गोलियां व बड़ी संख्या में लाठियां भी बरामद हुई हैं । ऐसा लगता है कि मनीष ग्रोवर पूरी तैयारी के साथ बूथ कैप्चर करने पहुंचे थे ।

मनीष ग्रोवर आज दोपहर से पहले ही दलबल सहित झज्जर रोड़ पर स्थित भारत टेक कन्या स्कूल में स्थित बूथ नंबर 143 पर पहुंचे और चुनाव अधिकारियों के पास कुर्सी डाल कर बैठ गये । उनके साथ उनकी सुरक्षा में तैनात पुलिस कर्मियों के अलावा गैंगस्टर रमेश लुहार व उसके कुछ गुंडे भी थे । मनीष ग्रोवर ने कई मतदाताओं को हड़काते हुए कहा कि सोच समझ कर वोट देना , बाद में तुम्हें ही भुगतना पड़ेगा । गुंडों ने कुछ मतदाताओं के स्थान पर खुद ही ईवीएम के बटन दबाने शुरू कर दिये । इस पर बूथ एजेंटस नें एतराज किया तो उन्हें भी हड़काया गया । किसी ने कांग्रेस नेताओं को सूचना दे दी कि मनीष ग्रोवर ने बूथ पर कब्जा कर लिया है । सूचना मिलने पर रोहतक के पूर्व विधायक एवं कांग्रेस नेता बीबी बत्रा जिला रोहतक बार एसोसिएशन के प्रधान लोकेंद्र सिंह फौगाट और कुछ अन्य कार्यकर्त्ताओं के साथ इस बूथ पर पहुंचे तो मनीष ग्रोवर को वहां बैठा देखकर उनके पांवों तले से जमीन निकल गई ।

बीबी बत्रा ने वहां पहुंचते ही मनीष ग्रोवर को कहा कि आप का यहां क्या काम है ? आप फौरन बूथ से बाहर चलिए । इस पर मनीष ग्रोवर बीबी बत्रा से बोले कि तू कौन होता है मुझे बाहर निकालने वाला ? बीबी बत्रा ने कहा कि तू यहां नहीं बैठ सकता । यहां सिर्फ कैंडीडेट बैठ सकता है या उसका एजेंट या फिर मतदाता ही बूथ में प्रवेश कर सकता है ? तू न तो कैंडीडेट है , न ही एजेंट है और न ही इस बूथ पर तुम्हारा वोट है । मनीष ग्रोवर ने कहा कि मैं अरविंद शर्मा का एजेंट हूं और यहां रह सकता हूं । इस पर बीबी बत्रा ने मनीष ग्रोवर को एजेंट होने का प्रपत्र दिखाने को कहा । मगर मनीष ग्रोवर बजाए शर्मिंदा होने के अपनी धौंस दिखाने लगे । उन्होंने बीबी बत्रा को धक्का देने की कोशिश की । इस पर लोकेंद्र फौगाट बीच में आ गए और उन्होंने मनीष ग्रोवर को मर्यादा में रहने की चेतावनी दी । इस दौरान तू-तू मैं-मैं तथा गरमा-गरमी काफी बढ़ गई । इसी बीच किसी ने मनीष ग्रोवर के साथ हाथापाई कर दी । स्थिति बिगड़ती देख कर सुरक्षा कर्मियों और गैंगस्टर रमेश लुहार के गुर्गों ने मनीष ग्रोवर को अपने घेरे में ले लिया । जब मनीष ग्रोवर के साथ धक्का-मुक्की होने लगी तो गैंगस्टर रमेश लुहार बीच में आ गया और लोकेंद्र फौगाट को जान से मारने की धमकी देने लगा । बाद में सुरक्षा कर्मियों और रमेश लुहार व उसके गुर्गों ने किसी तरह मनीष ग्रोवर को वहां से बाहर निकाला ।

बूथ नंबर 143 पर काफी देर तक हंगामा होता रहा । हंगामे की सूचना मिलने पर बड़ी संख्या में पुलिस बल मौके पर पहुंचा । इस बीच एकत्र काठ मंडी के सैंकड़ों मतदाताओं ने उस समय “मनीष ग्रोवर मुर्दाबाद” के नारे लगाने शुरू कर दिये , जब ग्रोवर कार में बैठ कर जा रहे थे । कांग्रेस नेताओं ने मौके पर पहुंचे डीएसपी ताहिर हुसैन को बताया कि मनीष ग्रोवर के साथ आये गुंडों की गाड़ियों में हथियार हैं । डीएसपी ताहिर हुसैन ने मंत्री मनीष ग्रोवर के साथ चल रहे गैंगस्टर रमेश लुहार और उसके दो गुर्गों को फौरन हिरासत में ले लिया और उनकी तीन गाड़ियों को भी अपने कब्जे में ले लिया । सभी गाड़ियां गलत नंबर प्लेट की थीं । गाड़ियों की तलाशी ली गई तो उनमें से हथियार , गोलियां व लाठियां बरामद हुईं । रमेश लुहार के कई गुर्गे भीड़ का फायदा उठाकर मौके से फरार हो गये ।

आज के इस घटनाक्रम के बाद इस मतदान केंद्र पर काफी देर तक मतदान बंद रहा और मामला शांत होने के बाद ही दोबारा मतदान शुरू हो सका । घटनाक्रम को लेकर अनेक राजनीतिक दलों ने मनीष ग्रोवर की हरकत को घोर लोकतंत्र विरोधी बताया है तथा कहा है कि यह घटना लोकतंत्र के नाम पर कलंक है । कांग्रेस , इनेलो , जजपा और आम आदमी पार्टी के नेताओं ने एक स्वर में मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर से इस घटना के दोषी मनीष ग्रोवर को फौरन मंत्री पद से हटाने की मांग की है । साथ ही हरियाणा के गवर्नर से मनीष ग्रोवर को पद से बर्खास्त करने और लोकतंत्र व संविधान की गरिमा को बचाने की गुहार लगाई है ।

काठ मंडी में खड़े जनता कालोनी के दर्जनों मतदाताओं ने कहा कि मनीष ग्रोवर ने फिर से शहर का माहौल खराब करने तथा आपसी भाईचारा बिगाड़ने की ओच्छी कोशिश की है । आज की घटना से साफ हो गया है कि मनीष ग्रोवर गलत व असामाजिक तत्वों का सहारा लेकर राजनीति का गंदा खेल खेल रहा है ।