Breaking News देश राज्य होम

नमो के गिनाये काम और सेना का गुणगान का गुणगान

नमो के गिनाये काम और सेना का गुणगान का गुणगान
वन रैंक-वन पेंशन वादा पूरा, फिर वोट पर भी हक हमारा
40 वर्ष से आपकी है स्पोर्ट 36 बिरादरी से ही मिलें वोट

रिपोर्टर योगेश गुरूग्राम India Now24

गुरुग्राम। देश में नमो की लहर के बीच एक बार फिर से बीजेपी की टिकट पर सवार होकर अहीरवाल के कद्दावर नेता और मोदी के वजीर राव इंद्रजीत सिंह ने लीक से हटकर, पीएम मोदी सरकार के काम गिनवाकर अपने लिए अपने ही राजनीजिक गढ़ पटौदी और फर्रूखनगर में अवाम के बीच कहा कि, 40 वर्ष से आप लोगों का स्पोर्ट है, तो बस बार 36 बिरादरी (मेवात)से भी वोट मिलने चाहिये। पटौदी और फर्रूखनगर में अपने चुनाव कार्यालय का उद्घाटन करते हुए राव ने जीत की हैट्रिक पर निशाना लगाते कहा कि, नरेंद्र भाई मोदी ने अपने मंत्रियों से कहा था कि, काम-काज पर रोजाना सफाई नहीं देनी। पांच वर्ष के बाद जनता के सामने अपना रिपोर्ट कार्ड रखेंगे। जनता ही फिर से हमारी सरकार भी बनवाएगी। इस मौके पर साथ में एमएलए बिमला चौधरी सहित अनेक समर्थक/कार्यकर्ता भी मौजूद रहे।
उन्होंने कहा कि आज लंबी-चौड़ी बात नहीं, केवल तीन-चार सवाल और फैसला आवाम को ही करना है। राव  बोले कि मोदी पांच वर्ष पहले रेवाड़ी आये, वन रैंक-वन पेंशन का वादा किया, इसी इलाके (दक्षिणी हीरयाणा) गुरुग्राम, रेवाड़ी, झज्जर से ही सबसे अधिक (बैल्ट) सेना/सुरक्षाबल में काम करने वालों के साथ ही सबसे अधिक एक्स सर्विसमैन हैं। मोदी ने 2016 में (साढ़े आठ हजार करोड़ के साथ) वादा पूरा किया और आज प्रति वर्ष मोदी सरकार साढ़े बारह हजार करोड़ बतौर पेंशन दे रही है। राव ने कांग्रेस पर हमला करते कहा कि, मोदी सरकार से पहले की कांग्रेस सरकार के वित्तमंत्री ने महज एक सौ करोड़ रूपए का ही बजट इस काम के लिए रखा था। और सवाल किया कि अब वोट किसको दोगे? तो जवाब मिला कि वोट मोदी को ही देंगे।
राव इंद्रजीत ने फिर कहा कि, पाक और चीन से युद्ध हुए, कारगिल युद्ध भी हुआ। आजादी के बाद में पहली बार किसी दुश्मन देश में घुस कर सेना आतंकियों को मार कर आई। उन्होंने फिर से सवाल किया कि, क्या मोदी को वोट मिलना चाहिये या नहीं देना चाहिये। लोगों ने एक सुर में कहा कि वोट फोर मोदी-वोट फोर मोदी। राव ने माना कि मेवात में आशानुरूप काम नहीं हो सके, लेकिन आज मेवात से भी एक ही आवाज आ रही है कि, वोट मोदी को ही देंगे। उन्होंने कहा कि इसका कारण है कि, नौकारी में पारदर्शिता। मेवात में हाल ही में कुल 12 में से 9 नौकरी योग्यता के दम पर मिली हैं। ऐसा किसी भी सरकार में पहली गार हुआ और यही वजह है कि मेवात के अब सरकार की नीति को ध्यान में रख मोदी को वोट भी देगा।
36 बिरादरी की वोट का हकदार 
राव ने पुन: दोहराया कि वे भारत सरकार के नुमांइदे और मोदी के वजीर के तौर पर लोगों के बीच बीजेपी के द्वारा टिकट देकर भेजे गए हैं, आपसे और पूर्वर्जो के साथ 40 साल पुराना सफर रहा है, आपने जो ताकत दी, उसका अपने स्वार्थ के लिए इस्तेमाल किया है तो मेरे को वोट ना देना और यदि आपके हक-हकूक के लिए दी मुझे मिली ताकत का प्रयोग किया तो, इस बार 35 नहीं, पूरी 36 बिरादरी की वोट का हकदार हूं या नहीं? उन्होंने भरोसा दिलाया कि मोदी सरकार बनेगी और गुरुग्राम शहर के जैसा ही गांव-गांव में विकास भी कराया जाएगा।
जन प्रतिनिधियों को भी राव ने साधा
यहां मीडिया के सवालों का सीधा जवाब देने से बचते हुए, मोदी के कार्यकाल की कही जा रही बातों को आगे बढ़ाते राव ने कहा कि, अब सरकार बनने के बाद में उनका पहला काम होगा कि, 1973-74 एक्ट में सुधार कराना। अससे फायदा यह होगा कि , चुने हुए नुमांइदों को अपने क्षेत्र में विकास के लिए अफसरशाही के आगे नहीं गिड़गिड़ाना पड़ेगा। यह संसोधन पंजांब, यूूपी, राजस्थान में लागू किया जा चुका है। राव ने कहा कि संसोधन के बाद चने प्रतिनिधियों के अधिकार/ताकत बढ़ेगी और संबंधित अधिकारियों की रिपोर्ट भी वहीं तैयार कर सकेगें। संसोधन के बाद सम्मान जनक पेंशन के भी हकदार बनेंगे।
धर्मबीर और कौशिक को भी जीताना है
राव इंद्रजीत सिंह ने कहा कि इस बार एक चिंता और है, पिछली बार मौसम ठंडा था और इस मतदान के समय तापमान ज्यादा होगा। इसलिए भरपूर प्रयास करे कि खेत खलिहान, ढ़ाणियों में रहने वालों, बुजुर्गो, महिलाओं को मतदान के लिए बूथ तक लेकर पहुंच सके। उन्होंने कहा कि पूरे लोकसभा क्षेत्र के लोगों में चुनाव को लेकर उत्साह है, परंतू यह उत्साह वोट में बदले तो सबसे ज्यादा वोटों से जीत मिल सकेगी। उन्होंने बताया कि देश में नरेंद्र भाई मोदी के नेतृत्व में प्रचंड बहुमत के साथ बीजेपी की बनने जा रही है। सभी पार्टी कार्यकर्ता अपने आप को राव इंद्रजीत सिंह व नरेंद्र मोदी समझे और पूरे उत्साह के साथ बीजेपी की सरकार बनाने में मदद करे। उन्होंने कहा कि उनके कंधों पर जम्मेवारी ज्यादा है, बीजेपी प्रत्याशी चौधरी धर्मबीर, रमेश कौशिक को भी जितना है। अगर वह सीटें नहीं निकली तो बनी हुई मजबूती कमजोरी में बदल जायेगी। इस लिए वह अपने लोस क्षेत्र में ज्यादा समय नहीं दे पायेंगे।