Breaking News देश राज्य होम

मलेरिया और डेंगू की रोकथाम के उपायों के बारे में लोगों को जागरूक करने के उद्देश्य को लेकर उपायुक्त से मलेरिया वर्किंग कमेटी की बैठक आयोजित 

मलेरिया और डेंगू की रोकथाम के उपायों के बारे में लोगों को जागरूक करने के उद्देश्य को लेकर उपायुक्त से मलेरिया वर्किंग कमेटी की बैठक आयोजित 

रिपोर्टर योगेश गुरूग्राम India Now24

गुरूग्राम । गुरूग्राम जिला में मलेरिया और डेंगू की रोकथाम के उपायों के बारे में अभी से लोगों को जागरूक करने के उद्देश्य को लेकर आज उपायुक्त अमित खत्री की अध्यक्षता में उनके कार्यालय में जिला स्तरीय मलेरिया वर्किंग कमेटी की बैठक आयोजित की गई।

बैठक में उपायुक्त श्री खत्री ने कहा कि पिछले वर्ष जिन लोगों के परिसरों में मच्छर के लारवा पाए गए थे, ऐसे 1050 लोगों को नगर निगम द्वारा नोटिस जारी किए गए थे परंतु इस बार नगर निगम नोटिस के अलावा जुर्माना भी लगाएगा। जुर्माना लगाने का प्रावधान इस बार नगर निगम के सदन की बैठक में पहले ही पारित किया जा चुका है। श्री खत्री ने जिलावासियों से अपील की है कि वे अपने घरों, दुकानों, परिसरों के अंदर व बाहर मच्छर ना पनपने दें। इसके लिए ऐसी व्यवस्था करें कि परिसरों के अंदर या बाहर पानी इक्कट्ठा ना हों और यदि किसी कारणवश पानी को इक्कट्ठा होने से नहीं रोक सकते तो स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों से परामर्श करके उस पानी पर तेल की बंूदे डाल दंे जिससे कि पानी पर तेल की पतली सतह आ जाएगी, जो मच्छर पनपने नहीं देगी।

उन्हांेने स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि आम जनता को जागरूक करने के लिए स्कूलों में पढने वाले विद्यार्थियों की मदद ली जाए। उन्हें प्रातःकालीन प्रार्थना सभा में मच्छर व डेंगू की रोकथाम के उपायों के बारे में बताया जाए ताकि वे अपने घरों में जाकर अपने परिजनों को उन उपायों के बारे में बता सके। श्री खत्री ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्र में पंचायती राज संस्थाओं को भी मच्छर पनपने से रोकने के उपायों के बारे में जिला विकास एवं पंचायत अधिकारी कार्यालय के सहयोग से जागरूक किया जाएगा। इसके अलावा, पंचायत विभाग ग्रामीण क्षेत्रों में सूखे ट्यूबवैलो को भरवाना सुनिश्चित करेगा ताकि उनमें पानी खड़ा ना हो। शहरी क्षेत्र में नगर निगम के सहयोग से यह कार्य किया जाएगा। उन्होंने यह भी कहा कि हरियाणा राज्य परिवहन डिपो में पडे़ टायरों आदि वस्तुओं में बरसात के दिनों में पानी खड़ा ना रहे, इसके लिए परिवहन डिपों के महाप्रबंधक को आदेश दिए जाएंगे।

उपायुक्त ने कहा कि स्वास्थ्य विभाग की आशा वर्कर तथा महिला एवं बाल विकास विभाग की आंगनवाड़ी कार्यकर्ता भी अपने-अपने कार्यक्षेत्रों में लोगों को जागरूक करेंगी। उन्होंने कहा कि पिछले वर्ष जिन क्षेत्रों में मलेरिया या डेंगू का प्रकोप ज्यादा रहा है, उन पर ये कार्यकर्ता तथा वर्कर ज्यादा फोकस करेंगी ताकि उन क्षेत्रों में जलभराव की स्थिति पर काबू पाते हुए मच्छर पनपने को रोका जा सके। सिविल सर्जन डा. बी के राजौरा ने बताया कि मत्स्य विभाग के सहयोग से जोहड़ो, तालाबों तथा जलाशयों में गंबुजिया मछली के बीज डाले जाएंगे। यह मछली मच्छर के लारवा को खा जाती है। उपायुक्त ने कहा कि मलेरिया तथा डेंगू की रोकथाम के लिए सभी विभाग आपसी तालमेल के साथ काम करेंगे और स्वास्थ्य विभाग को अपना पूरा सहयोग देंगे।

बैठक में नगर निगम के सिविल सर्जन डा. ब्रह्मदीप संधु ने बताया कि नगर निगम गंबुजिया मछली के बीज तैयार करने की हैचरी बनाने को तैयार है, इसमें मत्स्य विभाग के अधिकारियों से तकनीकि परामर्श लिया जाएगा। उन्होंने बताया कि नगर निगम के पास 20 फोगिंग मशीन हैं। इस पर उपायुक्त श्री खत्री ने कहा कि नगर निगम अपने सभी 35 वार्डों में प्रत्येक में एक फोगिंग मशीन उपलब्ध करवाए तथा 4 अतिरिक्त मशीने वाहन पर लगी हों। उन्होंने कहा कि शहरी क्षेत्र में मच्छर मारने के लिए लारवीसाईड नगर निगम उपलब्ध करवाएगा तथा ग्रामीण क्षेत्र में यह कार्य सिविल सर्जन कार्यालय द्वारा किया जाएगा।

श्री सर्जन डा. राजौरा ने बताया कि गुरूग्राम जिला में पिछले वर्ष डेंगू के 93 केस तथा मलेरिया के 30 केस आए थे।

बैठक में सिविल सर्जन डा. बी के राजौरा, नगर निगम के सिविल सर्जन डा. ब्रह्मदीप संधु, उप सिविल सर्जन डा. जय भगवान जाटयान, डा. विजय तथा महिला एवं बाल विकास विभाग की जिला परियोजना अधिकारी डा. सुनैना भी उपस्थित थे।