देश राजनीती राज्य होम

मलिन बस्तियो की भूमिं पर गडी भू-माफियाओं की निगाहे

वैन इन्टरनेशनल न्यू्ज एजेंसी
रिर्पोट पंकज ब्यूरो चीफ
कानपुर

मलिन बस्तियो की भूमिं पर गडी भू-माफियाओं की निगाहे
केडीए की अर्जित जमीन, जहां केडीए ने बोर्ड लगा रखा है, भूमाफिया बताता है अपनी जगह
केडीए के दस्तावेजों में अर्जित भूमि का ऊंचे दामों पर बेंच रहा भूमाफिया शुभम वर्मा
छब्बा लाल का अहाता 1962 की धारा 3 के तहत पहले घोषित किया जा चुका मलिन बस्ती, हो चुका प्रकाशन

कानपुर नगर, शहर में भूमाफियाओं का बोल-बाला बढता ही जा रहा है। खाली पडी, गरीब, किसान, मजबूर लोगों की जमीनो को दाम से या दबंगयी से हथियाकर महंगे दामों में व्यवसायीकरण का खेल खेला जा रहा है। आये दिन अधिकारियों के कार्यालय में जमीन सम्बन्धित विवाद आते है और मबजूब व लाचार लोग अपनी व्यथा बताते है। इतना ही नही शहर की खाली पडी भूमि के साथ घोषित मलिन बस्तियों में भी भूमाफियाओं की निगहे लगी हुई है और यह भूमाफिया एसी जमीनो को हथियाने के लिए विभागयी सांठ-गांठ कर हर कला अपनाने में लगे है।
इसी प्रकार अहाता संख्या 86/266, छब्बा लाल का अहाता, रायपुरवा, जी0टी0 रोड एक बहुत बडा अहता है जिसमें लगभग 89 प्लाट है एवं यहां लगभग 93 लोग अध्यासित होकर अपने परिवार सहित रहते थे। इस अहाते को गजट उत्तर प्रदेश मलिन बस्ती सुधार एवं निपटान अधिनियम 1962 की धारा 3 के अंतर्गत पहले ही मलिन बस्ती घोषित भी किया जा चुका है, जिसका धारा 7(1) के तहत गजट मलिन बसती का प्रकाषन भी किया जा चुका है। बताया जाता है कि नगर में होने के कारण यह अहाता करोडो की सम्पत्ति है और यहां अब भूमाफिया सक्रीय हो गये है। अहाते के निवासियों का आरोप है कि भूमाफिया शैलेन्द्र कुमार वर्मा पुत्र स्व0 साहबदीन वर्मा व सुखरानी वर्मा आदि केडी व नगर निगम से सांठ-गांठ कर इस अहाता को एक छोटा सा प्लाट दिखाते हुए तथा उसके अवशेष हिस्से को मकान नम्बर 86/296, रायपुरवा, जीटी रोड दर्शाकर उसपर रह रहे किरायेदारों को प्रताडित कर खाली करा लिया और अब ऊंचे दामों पर बेंच रहे है। नरेन्द्र शर्मा ने बताया 93 लोग अध्यासित है जिनमें 30 लोगो ंको केडीए से पट्टा दिया जा चुका है बांकी 63 अध्यासियों को मकान नं0 नगर निगम के बाबृओं से सांठ गांठ कर बदल दिये गये है। भूमाफिया शैलेन्द्र ने अहाते में दो बडे गेट लगा दिये है, जिससे अहाते में रहने वालो को परेशानी उठानी पड रही है। नरेन्द्र शर्मा पुत्र स्व0 कैलाश चन्द्र शर्मा ने बताया भूमाफिया शुभम् वर्मा हमारा तथा अन्य निवासियों के मकान पर कब्जा करना चाहता है और विरोध करने पर मार-पीट करता है। यह अहाता केडीए की अर्जित भूमि है और यहां केडीऐ ने अर्जित भूमि का बोर्ड भी लगा रखा है लेकिन भूमाफिया शुभम वर्मा सरकारी भूमि को अपना बताता है।