देश राजनीती राज्य होम

पारदर्शिता एवं व्हीडियोग्राफी के साथ टीमें कार्य करें – कलेक्टर

पारदर्शिता एवं व्हीडियोग्राफी के साथ टीमें कार्य करें – कलेक्टर

व्यय निगरानी के तहत गठित टीमों को दिया गया प्रशिक्षण

सतना – कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी डॉ. सतेन्द्र सिंह ने व्यय निगरानी अंतर्गत गठित टीमों के प्रमुख से साफ शब्दों में कहासाहूरकि लोकसभा निर्वाचन-2019 की आदर्श आचरण संहिता लागू होते ही व्यय निगरानी हेतु गठित एफ.एस.टी. एवं एस.एस.टी. टीमें पारदर्शिता एवं व्हीडियोग्राफी के साथ कार्य करें। निर्वाचन प्रक्रिया के दौरान सभी व्यय निगरानी टीमें सजगता एवं गंभीरता से अपना कार्य सम्पादित करना सुनिश्चित करेंगी। कलेक्टर द्वारा ली गई व्यय निगरानी टीमों के प्रमुखों की बैठक में मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत श्री साकेत मालवीय, अपर कलेक्टर श्री आई.जे.खलखो, डिप्टी कलेक्टर सुश्री संस्कृति शर्मा, श्रीमती साधना परस्ते, प्रबंधक ई-गवर्नेश श्री योगेश तिवारी, समेत अनुविभागीय अधिकारी राजस्व तथा व्यय निगरानी टीमों के लेखा अधिकारी, एफ.एस.टी., एवं एस.एस.टी. टीमों के टीम प्रमुख और पुलिस अधिकारी उपस्थित थे।

कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी ने टीम प्रमुखों एवं पुलिस अधिकारियों से कहा कि आदर्श आचरण संहिता के मुताबिक सभी को अपना कार्य करना होगा। चुनाव के दौरान सीमावर्ती जिलों के नाकों पर विशेष ध्यान देना होगा कि चुनाव में अतिरिक्त धन या मदि्रा अथवा अन्य सामग्री के आलबा आवा-जाही न हो। उन्होंने कहा कि निर्वाचन प्रक्रिया के दौरान ना सिर्फ निर्वाचन मशीनरी की निष्पक्षता रहे, बल्कि कार्य करने में व्यवहार में भी यह निष्पक्षता दिखाई देना चाहिए। कलेक्टर ने कहा कि सभी टीमों के पदाधिकारी अपना मोबाईल 24 घण्टे चालू रखे तथा सुरक्षित और सर्तकता पूर्वक कार्य संपादित करें।

कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी ने पुलिस अधिकारियो से कहा कि सीमावर्ती जिलों की सीमा पर बनाए गए नाकों पर निष्पक्षता के साथ उनके द्वारा कार्रवाई की जानी चाहिए। वाहनों की तलाशी ली जाए, किन्तु संयम एवं सतर्कता के साथ। उन्होंने कहा कि व्यय निगरानी टीमों के प्रमुख एवं पुलिस अधिकारी अपनी ड्यिूटी के सम्बंध में भारत निर्वाचन आयोग द्वारा जारी दिशा निर्देशों का भलीभांति अध्ययन कर लें और दिशा निर्देशों के अनुरूप ही अपने-अपने कर्तव्यों का निर्वहन करें।

मुख्य प्रशिक्षक डॉ. बी.के. गुप्ता ने व्यय निगरानी टीम प्रमुखों एवं पुलिस अधिकारियों से कहा कि व्यय निगरानी की सभी टीमों के कार्यो की नियमित मॉनिटरिंग की जाएगी। उन्होंने कहा कि यह सुनिश्चित करना संबंधित टीम का दायित्व है कि आदर्श आचरण संहिता का यदि कहीं उलंघन होता है तो संबंधित के खिलाफ कार्रवाई करे। अगर कोई किसी मतदाता को धन का प्रलोभन दे रहा है या किसी पक्ष को वोट देने के लिए उत्प्रेरित कर रहा है, तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जानी चाहिए।

उन्होंने कहा कि सीमावर्ती राज्यों की सीमा पर आने वाले वाहनों की चेकिंग के लिए पुलिस अधिकारी तैनात रहंगे। अगर कहीं से वाहन में धन आने या मदिरा आने की सूचना मिलती है तो आप उसको कवर करेंगें। वाहन में ले जा रहे धन के बारे में पुलिस अधिकारी का संतुष्ट होना आवश्यक है कि वह धन राशि विवाह के लिए या किसी बच्चे के शिक्षा संस्थान में एडमिशन या चुनाव खर्च के लिए ले जायी जा रही है। श्री गुप्ता ने व्यय निगरानी टीमों के प्रमुखों एवं पुलिस अधिकारियों को उनके कर्तव्यों के बारे में विविध प्रकार की उपयोगी जानकारी दी। आयकर अधिकारी श्रीमती मीनाक्षी अम्मा ने भी प्रशिक्षण दिया।

रिपोर्ट बृजेश साहू 

India now24