Breaking News देश राजनीती राज्य होम

 5600 एकड़ कृषिभूमि का फेसला करे सरकार, नही तो होगा चुनाव बहिष्कार : किसान

 5600 एकड़ कृषिभूमि का फेसला करे सरकार, नही तो होगा चुनाव बहिष्कार : किसान

-किसानों के समर्थन में परिवर्तन संघ ने किया आन्दोलन का ऐलान

रिपोर्टर योगेश गुरूग्राम India Now24

गुडगाँव : गुरुग्राम जिले के नजफ़गढ़ ड्रेन के साथ किसानों की जलमग्न 5600 एकड़ कृषि योग्य भूमि का सरकार फरवरी में लगने वाली चुनाव आचार सहिंता से पहले जल्द फेसला करे नही तो प्रभावित किसान तथा आस-पास में लगते गांव के लोग भाजपा सरकार का चुनाव में बहिष्कार करेगी उक्त बातें किसानों तथा परिवर्तन संघ के अध्यक्ष राकेश दोल्ताबाद ने आज गुरुग्राम के होटल डीडीआर में आयोजित प्रेसवार्ता के दौरान बोलते हुए कही उन्होंने कहा कि 27 फरवरी से आम चुनावों के लिए आचार सहिंता लग सकती है जिसके बाद भूमि अधिग्रहण करने तथा बाँध बनाने की प्रकिया लम्बे समय के लिए अटक जायेगी राकेश ने कहा कि अब तक सरकार ने जो कदम उठाये उसके लिए वह सरकार का आभार प्रकट करते है, लेकिन पिछले कुछ समय से इस मामले को आगे बढ़ाने में सरकार अब तक धीमी प्रकिया से काम कर रही है जिसकी वजह से मामला पूरी तरह से अब दब चूका है अब सरकार की मंशा किसानो के हक में गलत नजर आ रही है उन्होंने कहा कि सरकार चार मुख्य बिंदुओ को ध्यान में रखते हुए जल्द कार्य करे अन्यथा इसका नुकशान चुनावों में भाजपा को होने वाला है

 प्रेसवार्ता में किसानों तथा राकेश ने मांग करते हुए पहली शर्ते रखते हुए कहा कि भूमि अधिग्रहण की प्रकिया को आचार सहिता लगने से पहले पूरा करें वही दूसरी शर्ते में कहा कि इस प्रकिया के दौरान यदि कोई कानूनी बाधा आती है, तो सरकार उसे विशेष विधेयक लाकर दूर करने का कार्य करे तीसरी शर्ते रखते हुए उन्होंने कहा  कि यदि विधानसभा में समय नही मिलता है तो सरकार ऑडीनेश लाकर किसानों की समस्यां को दूर करने का कार्य करे चौथी शर्त रखते हुए कहा कि सरकार इस काम को चुनाव से पहले भूमि अधिग्रहण की पूरी प्रकिया को पूरा करे वही उन्होंने साफ़ कर दिया कि यदि सरकार इन बिन्दुओं पर काम नही करती है तो केवल गुड़गांव ही नही बल्कि पुरे हरियाणा के किसान इस बार आम चुनावों में भाजपा का बहिष्कार करते हुए वोट की चोट से अपना विरोध जताने का कार्य करेगे परिवर्तन संघ ने भी किसानों की मांगे नही मानने पर आन्दोलन की चेतावनी देते हुए सरकार को खामियाजा भुगतने की बातें कही है