Breaking News देश राजनीती राज्य होम

ओले से फसल खराबे की मिलेगी पाई-पाई: बिमला चौधरी

ओले से फसल खराबे की मिलेगी पाई-पाई: बिमला चौधरी
माजरा गांव में पहुंचकर किसानों को दिलाया भरोसा
फसल खराबे की रिपोर्ट आते ही मिलेगा मुआवजा

 

रिपोर्टर योगेश गुरूग्राम India Now24

गुरुग्राम ।  ये राम जी भी कब रूठ जाये, किसी को कुछ नहीं पता चलता। कुदरत के आगे किसी का बस नहीं। किसान अपना भी और बाकी सभी लोगों का पेट भरता है, खेत में फसल उगाता है और राम जी से भी कहता है कि, राम जी फसल अच्छी हो, मोटे बढिय़ा दाने भी बने जिससे दो पैसे की आमदनी भी हो सके। लेकिन राम जी पर, कुदरत पर किसी का जोर नहीं है, किसी ने भी सपने में नहीं सोचा होगा कि, बरसात कम और ओले ज्यादा गिर सकते हैं। खासतौर से हमारे इलाके के बारे में तो एेसा सोचा भी नहीं जा सकता। लेकिन सूबे में बीजेपी सरकार किसानों की सच्ची हितैषी और हमदर्द है। किसानों की फसल में जो भी नुकसान ओले के कारण हुआ, उसका बहुत ही अफसोस है। ओले गिरने से खराब हुई फसल के मुआवजा की पीडि़त किसानों को पाई-पाई मिलेगी। यह बात पटौदी की एमएलए बिमला चौधरी ने गांव माजरा में फसल की गिरदावरी सहित मुआवजा की मांग को लेकर धरने पर बैठे किसानों से कही।

गुरुवार को हुई जबरदस्त ओलावृष्टि के कारण सबसे अधिक नुकसान सरसों और विभिन्न सब्जी की फसलों में ही हुआ है। अगेती सरसों की फसल पर फूल और फली दाोनों ही लगी हुई हैं। भारी भरककम और ताबड़तोड़ ओले गिरने से सरसों  के फूल और फली पर बड़ी मार पड़ी है। गोभी, मटर, टमाटर, घिया, बैंगन, चप्पल कद्दू , पालक सहित अन्य सब्जी के फल ओले की चोट भी सहन नहीं कर सके। इधर अन्य जानकारी के मुताबिक राजस्व विभाग के द्वारा गिरदावरी का काम शुरू कर दिया गया है।
एमएलए बिमला चौधरी ने कहा कि, करीब पांच वर्ष पहले भी ओले-बरसात से किसानों की फसल में बहुत भारी नुकसान हुआ था,  लेकिन सभी पीडि़त किसानों को नुकसान के मुताबिक मुआवजा भी पटौदी हलके में ही सबसे पहले दिलाया गया था। किसान सभी के लिए अन्नदाता है और जो भी फसल का नुकसान है उसकी सरकार से  भरपाई कराई जाएगी। उन्होंने किसानों से कहा कि, किसानों को अपनी फसल का बीमा भी जरूर कराना चाहिये, फसल बीमा हर लिहाज से किसानों के हित में ही है। फसल बीमा में ज्यादा रकम भी नहीं लगती और कैसा भी नुकसान फसल में हो जाने पर किसान अपने नुकसान का क्लेम कर सकता है। एमएलए बिमला चौधरी ने विभिन्न गांवों में पहुंचकर सरसों, गेंहू और सब्जी की फसलों में हुए नुकसान का भी जायजा लिया।