Breaking News देश राज्य होम

ओलावृष्टि से सरसों और गेंहू की फसल हुई खराब किसान हुए परेशान

ओलावृष्टि से सरसों और गेंहू की फसल हुई खराब किसान हुए परेशान

रिपोर्टर योगेश गुरूग्राम India Now24

सोहना। सोहना खंड के करीब दो दर्जन गांवों में गुरूवार को हुई ओलावृष्टि से सरसों और गेंहू की फसल को नुकसान नहीं हुआ। क्षेत्र के किसानों ने शुक्रवार की सुबह अपनी फसल का जायजा लेने के बाद चैन की सास ली।

दोपहर बाद हुई बरसात से जहां गेंहू की फसल के लिए सोना बनकर बरसी है। वहीं किसानों ने 10 से 12 घंटे का लंबा इंतजार करने के बाद चैन की सास ली। क्योकि गुरूवार को हुई बरसात के साथ खंड के करीब दो दर्जन गांवों में ओलावृष्टि हुई। लेकिन अधिक मात्रा में नहीं थी। उसके बावजूद किसान पूरी रात चैन की नींद नहीं सौ पाएं थे। क्सोकि उन्हे अपने खेतों में खड़ी सरसो की फसल की सुरक्षा को लेकर रात भी चिंता लगी हुई थी। शुक्रवार की सुबह जैसे ही सूरज निकला। किसानों ने अपने खेतों की और कूच करना आरंभ कर दिया था। शुक्रवा की सुबह लगभग 10 बजे तक किसानों ने अपनी सरसो की फसल का मौका मुआयना कर लिया था। लेकिन सरसो की सफल मंे ओलावृष्टि से कोई नुकसान नजर नहीं आया।

कौनकौन से गांवों में हुई ओलावृष्टि

सोहना के गांव सिलानी, हाजिपुर, खूटपूरी, जोहलाका, सतलाका, भोगपुर, मंडी, घंघौला, सरमथला, लोहसिंघानी, विधवाका, किरनकी खेड़ली, टोलनी, सिलानी का  नंगला आदि गांव शामिल है।

क्या कहना है किसानों का

गांव हाजिपुर निवासी किसान मेहनचंद ने बताया कि ओलावृष्टि हुई थी। लेकिन वह अधिक मात्रा में नहीं थी। जिससे सरसो, गेंहू व सब्जियों की फसल को केाई नुकसान नहीं हुआ। गांव मानूवास निवासी किसान रिंकू यादव ने बताया कि गेंहू की फसल के लिए बरसात सोना बनकर बरसी है। इस बरसात के बाद से गेंहू की फसल में एक या दो बार ही पानी लगेगा।

क्या कहना है कृषि विभाग अधिकारियों का

कृषि विभाग के खंड अधिकारी डाॅक्टर सुरेन्द्र कुमार ने बताया कि सरसो और गेंहू की फसल में नुकसान की जानकारी दो से तीन में मालूम होगा। क्योकि गेंहू का ओलावृष्टि से टूटा पोैधा सूखा दिखाई देगा और सरसो की फैली धूप निकलने पर फट जाएगी। उन्होने बताया कि सरसो में 10 से 15 फीसदी नुकसान होने की संभावना है।