Breaking News देश राज्य होम

बैकों में हो शिकायत पुस्तक और लोकपाल की जानकारी: आरएस अमर

बैकों में हो शिकायत पुस्तक और लोकपाल की जानकारी: आरएस अमर
बैंक/अधिकारी की मनमानी पर लगाम के लिए ही है बैंकिंगलोकपाल 
30 दिन में बैंक समस्या का हल न करे तो लोकपाल को दे शिकायत
पीडि़त उपभोक्ता को एक लाख रूपए के मुआवजे का भी प्रावधान
लोकपाल ने लोगो को बताए वित्तीय धोखाधड़ी से बचने के तरीके

 

रिपोर्टर योगेश गुरूग्राम India Now24

गुरुग्राम ।  रिर्जव बैंक आफ इंडिया की गाइड लाइन के मुताबिक सभी बैंकों में शिकायत पुस्तक के साथ साथ ही बैकिंग लोकपाल का पता/मेल आईडी/फोन नंबर होना आवश्यक है। विभिन्न बैंकों सहित फाईनेंस कंपनियों के उपभोक्ताओं के हितों की रक्षा और समस्याओं के समाधान/बैंक के द्वारा अनाचश्यक परेशान किया जाने जैसे मसलों की बैंक लोकपाल के द्वारा सुनवाई की जाती है और शिकायत सही मिलने पर संबंधित बैंक/अधिकारी पर सख्त कार्यवाही भी की जाती है। यदि कोई भी बैंक 30 दिन में बैंक के किसी भी प्रकार के कार्य, चैक क्लीयर, आरटीजीएस, रकम ट्रांसफर, गलत/अनुचित व्यवहार करना या अन्य बैंक संबंधित कार्य नहीं करे तो इसकी शिकायत बैकिंग लोकपाल के पास की जाए। यह जानकारी पटौदी में एक्सिस बैंक के द्वारा आयोजित बैंक उपभोक्ता जागरूकता कार्यक्रम के दौरान भारतीय रिर्जव बैंक दिल्ली क्षेत्र के लोकपाल आरएस अमर ने दी है । 

उन्होंने बताया कि उपभोक्ता अपने बैंक खाते एवं एटीएम संबंधित जानकारी किसी को न दें तथा कोई अपराध होने पर समय रहते बैंक की शाखा को तुरंत सूचित करें। आरएस अमर एक्सिस बैंक के तत्वावधान में खंड विकास कार्यालय पटौदी में आयोजित एक जागरूकता कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में बोल रहे थे।
उन्होंने कहा कि हर बैंक में अलग से लोकपाल बनाए गए हैं। बैंक से संबंधित शिकायत का यदि बैंक समाधान नहीं करता तो वे रिर्जव बैंक के लोकपाल को इसकी शिकायत भेज सकते हैं। शिकायत मिलने पर उनका शिकायत नम्बर दिया जाएगा तथा वे आन लाईन ट्रेस भी कर सकते हैं कि उसकी जांच की स्थिति क्या है। यह भी जानकारी दी कि, शिकायत सही मिलने पर पीडि़त बैंक उपभोक्ता को एक लाख रूपए तक का मुआवजा का भी प्रवधान है। उन्होंने कहा कि यदि कोई अधिक ब्याज देने का प्रलोभन दे अथवा कहे कि उनका इनाम निकला है तो उनके झांसे में न आएं एवं पुलिस को सूचना दें। एटीएम में जाते समय उस समय एटीएम के अंदर और कोई नहीं होना चाहिए। यदि कार्यप्रणाली न आती हो तो अपने किसी विश्वस्त को ही साथ लेकर जाएं।
उन्होंने बताया कि धोखाधड़ी संबंधी समस्याओं का समाधान न करने वाले बैंकों पर जुर्माना भी लगाया जाता है। उन्होंने जनप्रतिनिधियों से अपील की कि इसको लेकर वे लोगों में जागरूकता पैदा करें। इस अवसर पर एक्सिज बैंक की कस्टोमर सर्विस हैड़ तन्नु मल्होत्रा, बृजलाल सिंह, हरभजन कुमार, प्रशांत खंडूरी, पटौदी बैँक शाखा प्रबंधक रविंद्रजीत सिंह, एफएलसी कोसंलर पुण्यपाल तथा पालिका सचिव सुशील भुक्कल ने भी अपने विचार रखे तथा सीडीपीओ मंजू श्योराण, नगरपालिका प्रधान चंद्रभान सहगल, सरपंच पति सतनारायण मिर्जापुर, अनिल भारती, पूर्व पालिका उप प्रधान राधे शाम मक्कड़, जर्मन सैनी,  किसान नेता राव मान सिंह, अशोक शर्मा, हरभगवान खुराना, पीएल वर्मा, सुखबीर तंवर, जसमीत सिंह, अशोक कुमार तथा नीरज भारद्वाज सहित अनेक गणमान्य लोग, पंच सरपंच एवं पार्षद उपस्थित थे।