आर्टिकल देश राज्य होम

बेहतर निगरानी से कम हो सकता है मधुमेह का बोझ  

बेहतर निगरानी से कम हो सकता है मधुमेह का बोझ
 

रिपोर्टर योगेश गुरूग्राम India Now24

नई दिल्ली। दवा के क्षेत्र में हाल ही में जो प्रगति मधुमेह बीमारी के लिए हुई है, वह क्रांतिकारी है और इसमें कोई दो राय नहीं कि यह बेहतर उपचार विधियों की एक विस्तृत श्रृंखला खोलती है। मधुमेह रोगियों के लिए अन्य इंजेक्शन योग्य दवाओं के संदर्भ में डॉक्टर अनेजा ने कहा, हाल ही में जब तक हम सभी इंसुलिन से प्रभावित थे, तब तक हम इंसुलिन के अलावा प्राकृतिक हार्मोन की नकल करते थे। दरअसल, इन हार्मोनों की अलग-अलग भूमिकाएं और अतिरिक्त लाभ हैं। नए चेंजेज के संदर्भ में, पिछले एक दशक में बाजारों में नए प्रकार के इंसुलिन की बाढ़ सी देखी गई है। ये इंजेक्शन इंसुलिन के रूपांतर हैं।  

 
डॉ पंकज अनेजा, वरिष्ठ सलाहकार – मधुमेह और मेटाबोलिक रोग, मैक्स सुपर स्पेशलिटी  हॉस्पिटल, शालीमार बाग का कहना है   “यदि पिछले दो दशकों में मधुमेह रोगियों की संख्या में वृद्धि देखी गई है, तो इसमें कोई दो राय नहीं कि यह बीमारी को लेकर बेहतर समझ, बेहतर दवाओं और नए उपचार के क्षेत्र में कुछ रोमांचक प्रगति के कारण हुई है,’ डॉक्टर पंकज ने ये बातें कहीं, और साथ ही यह भी कहा, ‘वास्तव में, इंजेक्शन योग्य और मौखिक विरोधी मधुमेह दवाओं के रूप में उपलब्ध नई दवाएं सुरक्षित हैं और इस बीमारी पर बेहतर नियंत्रण रख रही हैं।’
 
यह जागरूकता या आवश्यक संसाधनों की कमी के लिए है जो कि उन्हें हृदय रोगों (सीवीडी), मधुमेह संबंधी रेटिनोपैथी, धमनी रोग, मधुमेह संबंधी नेफ्रोपैथी और अन्य न्यूरोलॉजिकल बीमारियों जैसे जटिलताओं से जूझने वाले अन्य जीवन से जोड़ता है।  डॉक्टर अनेजा ने आगे जानकारी दी, ‘दवाओं के इन नए वर्ग का उद्देश्य है इंसुलिन उत्पादन और इंसुलिन प्रतिरोध को और, और कम करना।
 
डॉ अजय अग्रवाल, सीनियर कंसलटेंट, एंडोक्रिनोलॉजी, सरोज सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल, दिल्ली ने आगे ने भी मधुमेह पर अपनी बात रखी, ‘अतीत में, इंसुलिन थेरेपी को अंतिम उपाय के रूप में इस्तेमाल किया जाता था, लेकिन इन दिनों इसे अक्सर इसके लाभों के कारण पहले चरण में ही निर्धारित किया जाता है। वास्तव में, यह उन लोगों के अस्तित्व के लिए होना चाहिए जिनके अग्न्याशय इंसुलिन बनाना बंद कर देते हैं। टाइप 2 मधुमेह रोगियों में लगभग 40-60 प्रतिशत जीवित रहने के लिए इंसुलिन का उपयोग हमेशा करते हैं।’  
 
केवल यही नहीं, यकृत द्वारा ग्लूकोज के उत्पादन को कम करना या आंत द्वारा कार्बोहाइड्रेट के अवशोषण को धीमा करना भी इसका एक अहम उद्देश्य है। इसके अलावा, इस बात का भी हमें ध्यान रखना होगा कि इनमें से अधिकांश दवाएं सामान्य रक्त शर्करा के स्तर को बहाल करने के लिए पर्याप्त प्रभावी हैं, और इनका बीमारी की प्रगति पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता है।’  
 
सिरिंज के अलावा, एक इंसुलिन पेन इंजेक्टर है, जो एक उपकरण है, जो स्याही पेन के समान दिखता है, सिवाय इसके कि कारतूस को इंसुलिन से भरा होना चाहिए। इसके अलावा, इंसुलिन का एक पूरी तरह से अलग रूप है, जो मानव इंसुलिन है हाल की उन्नति है। यह तेजी से काम करने वाला इंसुलिन है, जो एक मरीज को तुरंत राहत देने के लिए काम कर सकता है। इंसुलिन उपचार में उन्नति से कई मधुमेह रोगियों को लाभ होता है, विशेष रूप से टाइप 2 वाले लोगों में। टाइप 2 मधुमेह के साथ नए निदान वाले रोगियों में, अल्पकालिक इंसुलिन का उपयोग फायदेमंद साबित हो सकता है, लेकिन इसके लिए संतुलित आहार, परहेज और नियमित व्यायाम करना बेहद जरूरी है।