Breaking News देश राजनीती राज्य होम

मुआवजा माफी की गेंद खट्टर के पाले में डाली

मुआवजा माफी की गेंद खट्टर के पाले में डाली
पटौदी एमएलए बिमला का राव इंद्रजीत व सीएम को पत्र
377 किसानों को पौने दो करोड़ लौटाने के जारी नोटिस

 

रिपोर्टर योगेश गुरूग्राम India Now24

पटौदी/गुरुग्राम।  सीएम खट्टर का पटौदी के गांव लोकरा में आना, आयोजकों द्वारा कथित रूप से एमएलए बिमला को न बुलाना… अब केंद्र में मंत्री राव इंद्रजीत सिंह समर्थक एमएलए बिमला और सूबे की सरकार सहित सीएम खट्टर के बीच कथित ‘तकरार’ कका रूप लेता दिखाई देने लगा है। सीएम के बेहद नजदीक मंत्री नरबीर के द्वारा फर्रूखनगर में बाइपास के उद्घाटन के बाद में अपने निर्वाचन क्षेत्र पटौदी के ग्रामींण दौरे पर पहुंची एमएलए बिमला चौधरी के संज्ञान में किसानों के द्वारा यह मामला संज्ञान में लाया गया कि, अब 3 वर्ष के बाद में सरकार ने मुआवजा लौटाने के नोटिस भेजकर आगाह किया है कि मुआवजा लौटाओं नहीं तो किसानों की जमीन कुर्क की जाएगी। इसके बाद में एमएलए बिमला ने भी सीधे-सीधे अपनी ही सरकार और सरकार के मुखिया को चुनौती दे डाली कि, कोई किसान मुआवजा मत लौटाईयो-मैं देखूंगी कौन जमीन की कुर्की करेगा। यह तो थी सरकार और एमएलए बिमला के बीच में जुबानी जंग की बानगी।

अब राव इंद्रजीत सिंह की विश्वसनीय और जिला सहित पटौदी की पहली चुनी महिला एमएलए बिमला चौधरी ने , पटौदी/फर्रूनगर क्षेत्र के प्रभावित किसानों के मुआवजे को माफ करने का पत्र लिखकर, खट्टर सरकार के किसान हितैषी होने के दावे के मुताबिक गेंद अपने ही सीएम खट्टर और सूबे की सरकार के पाले में डाल छोड़ी है। एेसे में मुआवजा माफ नहीं होता है तो एमएलए इसके लिए बीजेपी, सूबे की सरकार और सीएम खट्टर की ही तवाबदेही से बचने का कोई मौका हाथ से नहीं निकलने देगी। दूसरा पहलू यह भी है कि चुनाव में प्रभावित किसानों सहित अन्य ग्रामींणों का समर्थन जुटाने की जुगत में सूबे की सरकार ने किसानों को कोई राहत प्रदान करने की पहल की तो भी इसका सारा श्रेय एमएलए बिमला स्वयं सहित अपने राजनीतिक आका राव इंद्रजीत सिंह के खाते में लाने से कोई भी मौका नहीं छोडऩे वाली है।
गौर तलब है कि, वर्ष 2015 में पटौदी/फर्रूखनगर क्षेत्र में भारी ओलावृष्टि के कारण सैंकड़ों किसानों की फसले बर्बाद हो जाने के बाद विशेष गिरदावरी कराने पर पीडि़त/प्रभावित किसानों को एमएलए बिमला की पहल पर सबसे पहले केंद्र में मंत्री राव इंद्रजीत सिंह के हाथों ही मुआवजा दिलाया गया था। अब जब चुनाव सिर पर आ चुके हैं और इलाके के करीब 377 किसानों को एक करोड़ 76 लाख रूपए जो कि मुआवजा के रूप में दिया गया, लौटाने के शासन/प्रशासन के द्वारा नोटिस जारी किये जा चुके हैं। इसके साथ ही चेतावनी भी दी गई है कि, पैसा नहीं लौटाने पर संबंधित किसान की जमीन कुर्क कर दी जाएगी। एमएलए बिमला चौधरी ने केंद्रीयमंत्री राव इंद्रजीत सिंह और सूबे के सीएम खट्टर को पत्र लिखकर पीडि़त/प्रभावित किसानों का मुआवजा माफ किया जाने की मांग की है।