Breaking News देश बिज़नेस राज्य होम

हरियाणा के प्रत्येक जिले में खुलेगा हर खादी स्टोर : गार्गी कक्कड़ 

हरियाणा के प्रत्येक जिले में खुलेगा हर खादी स्टोर : गार्गी कक्कड़ 

रिपोर्टर योगेश गुरूग्राम India Now24

गुरुग्राम । हरियाणा खादी एवं ग्रामोद्योग बोर्ड अब प्रदेश के प्रत्येक जिला में ‘हर खादी ‘ नाम से अपने स्टोर खोलेगा और फरवरी-2019 में बोर्ड की 50वीं सालगिरह पर गुरूग्राम सहित प्रदेश के अन्य जिलों में लगभग 10 स्टोर खोलने का लक्ष्य रखा गया है।

इस बारे में जानकारी आज बोर्ड की चेयर पर्सन गार्गी कक्कड़  ने गुरूग्राम के लोक निर्माण विश्राम गृह  मीडिया प्रतिनिधियों से बातचीत करते हुए दी। उन्होंने कहा कि हरियाणा प्रदेश में ग्रामोद्योग को बढावा देने के लिए हरियाणा खादी एवं ग्राम उद्योग बोर्ड प्रयासरत है और इसके लिए बोर्ड से जुडे़ ग्रामोद्योगांे में तैयार उत्पाद खरीदकर बोर्ड अपने स्टोर के माध्यम से जनता तक पहुंचाएगा। इस प्रकार का प्रदेश मंे पहला स्टोर 1 नवंबर 2018 को पंचकुला में खोला जा चुका है। उन्होंने कहा कि गुरूग्राम, सिरसा, धारूहेड़ा, नारनौल आदि स्थानों पर ‘हर खादी‘ स्टोर खोलने के लिए आवेदन प्राप्त हुए हैं। इन स्थानों सहित कुछ अन्य स्थानों को मिलाकर 10 स्टोर फरवरी 2019 में खोले जाएंगे।

उन्होंने कहा कि बोर्ड की प्रदेश में हर 5 किलोमीटर पर एक ‘हर खादी‘ स्टोर खोलने की योजना है। ‘हर खादी‘ ब्रांड के स्टोर पर हरियाणा के ग्रामोद्योग में बने उत्पाद जैसे रेडिमेड वस्त्र, कपड़ा, मसालें, काॅसमेटिक वस्तुएं, पर्स, बैल्ट, जूते, एलोयवेरा, देसी व आयुर्वेदिक दवाएं तथा अन्य रोजमर्रा की जरूरतों की वस्तुएं मिलेगी। श्रीमति कक्कड़ ने कहा कि इन स्टोरो पर गुणवत्ता टैस्टेड एफएसएसआई प्रमाणित उत्पाद ही बेचे जाएंगे। उन्होंने कहा कि इन स्टोरो पर हरियाणा में बनी बेहतरीन खादी मुहैया करवाने का प्रयास रहेगा।

कक्कड़ ने कहा कि हरियाणा खादी एवं ग्राम उद्योग बोर्ड द्वारा ग्रामोद्योग से जुड़ा रोजगार शुरू करने के लिए पुरूषों को 25 प्रतिशत तथा महिलाओं को 35 प्रतिशत सबसिडी दी जाती है। आरक्षित श्रेणियों के मामले में पुरूषों और महिलाओं दोनों को ही 35 प्रतिशत सबसिडी मिलती है। बोर्ड द्वारा 20 हजार रूपए से लेकर 25 लाख रूप्ए तक का ऋण दिया जाता है। उन्होंने बताया कि पिछले डेढ़ वर्ष में बोर्ड द्वारा प्रदेश के 1500 लोगांे को ग्रामोद्योग में रोजगार शुरू करने में मदद की गई है। उन्होंने यह भी बताया कि खादी बोर्ड द्वारा कुछ विभागों के साथ एमओयू पर भी हस्ताक्षर किए जाएंगे और ‘हर खादी‘ स्टोर में खादी मित्र का काउंटर भी होगा।

एक सवाल के जवाब में श्रीमति कक्कड़ ने कहा कि ‘हर खादी‘ स्टोर में वस्तुएं खादी की अन्य दुकानों से सस्ती मिलेंगी क्योंकि ये वस्तुएं हरियाणा में ही निर्मित होंगी जबकि अन्य दुकानदारों को दूसरे प्रदेशों से वस्तुएं मंगवाने में माल भाड़ा अतिरिक्त लगेगा। उन्होंने यह भी कहा कि बोर्ड के स्टोर पर डैनिम से बने वस्त्र भी उपलब्ध होंगे। उन्होंने कहा कि बोर्ड प्रदेश की जेलों में अपनी सजा काट रहे कैदियों से खादी उत्पाद बनवाने के लिए भी प्रयासरत हैं और इसके लिए जेलों में जाकर जेल अधीक्षकों से विचार-विमर्श किया जा रहा है। इसी कड़ी मंे आज वे जिला की भौंडसी जेल में भी गई थी। उन्होंने कहा कि हरियाणा के खादी एवं ग्रामोद्योग बोर्ड के उद्देश्यों को पूर्ण करने और प्रदेश में लोगों के बीच खादी के बारे में जागरूकता लाने के लिए स्कूलों, काॅलेजों और विश्विद्यालयों में कार्यक्रम आयोजित करने का निर्णय लिया गया है ताकि खादी पहनने के बारे मंे चर्चा हो। इन कार्यक्रमों मंे विद्यार्थियों को खादी उत्पादों को पहनने के लाभ और इन वस्तुओं को बढावा देने के लिए प्रेरित किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि हरियाणा खादी एवं ग्रामोद्योग बोर्ड पिछले काफी समय से निस्क्रिय  अवस्था में था और उन्होंने चेयर पर्सन का पदभार संभालने के बाद बोर्ड की गतिविधियों का अध्ययन करके इसे पुनः पटरी पर लाने का काम किया है। श्रीमति कक्कड़ ने कहा कि पिछले 50 वर्षों में बोर्ड द्वारा प्रदेश में कहीं भी अपना एक भी स्टोर नहीं खोला गया। उन्होंने यह भी कहा कि इस बोर्ड के पहले चेयरमैन चैधरी देवीलाल थे और उसके बाद गुलजारी लाल नंदा, घनश्याम दास गोयल, वरिष्ठ भाजपा नेता सीताराम सिंगला जैसी हस्तियां इसके चेयरमैन रह चुके हैं। श्रीमति कक्कड़ ने कहा कि वे बोर्ड की 23वीं चेयर पर्सन हैं।