Breaking News देश राज्य होम

रेप के आरोप से चार कर्मचारी हुए बरी दो साल से थे, भौडसी जेल में

रेप के आरोप से चार कर्मचारी हुए बरी दो साल से थे, भौडसी जेल में

रिपोर्टर योगेश गुरूग्राम India Now24

बंधवाड़ी गाँव, गुरुग्राम मे स्थित “दी अर्थ सेवियर्स फ़ाउंडेशन” NGO के गुरुकुल मे रहने वाली एक मानसिक रूप से बीमार महिला ने दो साल पहले NGO के कर्मचारियो पर यौन शोषण का झूठा आरोप लगाया था जिस वजह से NGO के तीन कर्मचारी और एक मानसिक रूप से बीमार व्यक्ति को गिरफ्तार करके भोंडसी जेल मे भेज दिया गया था । आज गुरुग्राम जिले में विशेष अदालत की सेशन न्यायधीश कुमारी रजनी यादव  ने एक अभूतपूर्ण निर्णय लेते हुए चारों कर्मचारियों को बरी कर दिया ।

इस वजह से NGO गुरुकुल बंधवाड़ी मे रहने वाले सभी 450 वृद्ध और मानसिक रूप से बीमार लोग और सभी कर्मचारी खुशी से झूम उठे । NGO में काम करने वाली चालीस समाज सेवक महिलाएँ स्वयं भोंडसी जेल में इन चारों कर्मचारियों को लेने के लिए गई ।
 
NGO के संस्थापक रवि कालरा ने बताया की उन्हे न्यायपालिका और पुलिस विभाग पर पूरा विश्वास और आस्था थी किNGO संस्था को न्याय व इंसाफ मिलेगा । NGO के अनुसार गुरुग्राम कोर्ट के चार अति वरिष्ठ वकील  अंजू रावत नेगी, डा. सुजान सिंह यादव और  अर्चना चौहान और  कुलभूषण भारद्वाज ने अपनी फीस लिए बिना दो साल मे जी जान से NGO संस्था के पक्ष में केस लड़ा और नतिजन न्यायपालिका से इंसाफ दिलवाते हुए चारों कर्मचारियों को बरी करवा दिया गया ।
गौरतलब है कि दी अर्थ सेवियर्स फ़ाउंडेशन NGO पिछले ग्यारह वर्षो से पुलिस विभाग, न्यायपालिका, सरकारी अस्पताल व समाज कल्याण विभाग को निशुल्क सेवाएँ देते हुए मानसिक रूप से बिमार, वृद्ध, बेघर व ऐसे लोग जिन्हे कीड़े पड़े रहते है उन्हे बंधवाड़ी गाँव में रहना, खाना, दवा व रोज़मर्रा की सभी सुविधाएं निशुल्क प्रदान करती है