देश राज्य होम

सिरे नहीं चढ़ पा रहा बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ अभियान

सिरे नहीं चढ़ पा रहा बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ अभियान

रिपोर्टर योगेश गुरूग्राम India Now24

नूंह। बेटी बचाओ-बेटी पढाओ अभियान क्षेत्र में सिरे नहीं चढ पा रहा है। दहेज के लिए बेटियों की बली चढाई जा रही है। ऐसा ही 1 मामला गांव सालाका में घटित हुआ। गांव सालाका की 1 विवाहिता को विवाह में दहेज कम मिलने के कारण उसके ससुराल वालों ने जान से मार दिया। पुलिस ने मृतका के पिता की शिकायत पर मृतका के पति, सास, ससुर व ननद के खिलाफ विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी।
जिला नूंह के गांव ढेकली निवासी हारून ने पुलिस को दी गई शिकायत में बताया कि उसकी बडी लडकी सुमैया की शादी करीब डेढ साल पहले गांव सालाका निवासी हबीब से मुस्लिम रीति रिवाज अनुसार की थी। उसने अपनी हैस्यित अनुसार विवाह में दान दहेज दिया, लेकिन उस दान दहेज से लडकी के ससुराल वाले खुश नहीं हुए। लडकी को आए दिन परेशान करने लगे और लडकी की सास जायदा, ससुर कासम व ननद साहरूना आए दिन उसकी लडकी को ताने मारते रहते और कहते कि दहेज में कुछ भी नहीं लेकर आई। उससे कहते कि तू अपने पिता से कह दहेज में कुछ ओर देना है तो दो वरना वह उसे नहीं रखेंगे। उसकी लडकी को कहते तेरे बाप ने हमारे बेटे को लूट लिया। सुमैया को मारपीट कर 2 बार घर से भगा दिया। उसका घर खराब न हो, उसे डेढ लाख रूपए देकर ससुराल भेज दिया। लेकिन उस से भी उनकी पूर्ति नहीं हुई और गत 24 अक्टूबर को दोपहर 2 बजे के लगभग उसकी लडकी सुमैया का फोन आया कि बाप आज उसका पति हबीब, ससुर कासम, सास जायदा, ननद सहरूना उसके साथ मारपीट कर रहे हैं और उसे जान से मारना चाहते हैं। जिस पर गांव सालाका से फोन आया कि जैकम की लडाई ज्यादा हो गई हैं और जिस पर वह गांव सालाका पहुंचे तो उसकी लडकी सुमैया को उसके ससुराल वालों ने मारकर लिटाया हुआ था। इन दहेज के लोभियों ने उसकी लडकी की शादी में ज्यादा दान दहेज न मिलने के कारण लडकी को मार दिया। पुलिस ने मृतका के पिता की शिकायत पर उक्त लोगों के खिलाफ विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज कर लिया है।