देश राज्य होम

हरियाणा रोडवेज की हड़ताल दो दिन के लिए बढी

हरियाणा रोडवेज की हड़ताल दो दिन के लिए बढी

रिपोर्टर योगेश गुरूग्राम India Now24

सरकार की हठधर्मी व तानाशाही रवैये के चलते हरियाणा रोडवेज की हड़ताल आज तीसरे दिन में प्रवेश कर गई। दो दिन तक सरकार की तरफ से बातचीत का कोई प्रस्ताव न आने के कारण रोडवेज यूनियनों की तालमेल कमेटी ने कल शाम हड़ताल को दो दिन के लिए बढ़ा दिया था।

गुड़गाँव में प्रशासन के निर्देशानुसार रोडवेज कर्मी बस डीपो से 300 मिटर की दूरी पर शामियाना लगा कर शांतिपूर्वक तरीके से अपना रोष प्रकट कर रहे थे। आज आल हरियाणा पावर कार्पोरेशन, एच एस वी पी, सर्व कर्मचारी संघ, सी आई टी यू व अन्य यूनियनों के साथी पहले की तरह आज साथी भारी संख्या में रोडवेज कर्मियों के समर्थन में धरना स्थल पर पहुंचे। अन्य कर्मचारी संगठनों का वहाँ पहुँचना शायद खट्टर सरकार को नागवार गुज़रा और एकाएक भरी संख्या में पुलिस बल भेज कर विभिन्न संगठनों के 50 के लगभग साथियों को गिरफ्तार कर लिया तथा उनका टेंट व शामियाना भी वहाँ से उखाड़ दिया।

खट्टर सरकार की इस दमनकारी कार्यवाही के विरोध में गुड़गांव में केंद्रीय ट्रेड यूनियनों की राज्य स्तरीय बैठक हुई। बैठक में सरकार की बर्बर कार्यवाही की निंदा की गई। बैठक में फैसला लिया गया कि कल प्रदेश भर में सभी ट्रेड यूनियन व कर्मचारी संगठन प्रतिरोध कार्यवाही करेंगे व राज्य के मुख्यमंत्री व परिवहन मंत्री का पुतला दहन करेंगे।

सरकार की इस दमानात्मक कार्यवाही के खिलाफ एक अन्य बैठक में सी आई टी यू, जनवादी महिला समिति, आंगनवाड़ी वर्कर्ज एंड हेल्पर्ज यूनियन, आशा, मिड डे मील, भवन निर्माण कामगार यूनियन, वन मजदूर यूनियन, द्रोण रेहड़ी पटड़ी फेरी कमेटी व सर्व कर्मचारी संघ ने फैसला लिया कि कल दशहरा के दिन रावण के रूप में खट्टर सरकार को पुतला दहन किया जाएगा।

ज्ञात रहे कि गुड़गाँव में गिरफ्ताइयों के बाद हड़ताल को और मजबूती मिली है। सरकार द्वारा गिरफ्तार करने की प्रकिया अभी भी जारी है। बस डिपो से बसों कि आवा जाही बंद हो गई है।

बैठक में मौजूद सीआईटीयू के राज्याध्यक्ष कामरेड सतवीर सिंह, ज़िला सचिव राजेन्द्र सरोहा, कोषाध्यक्ष एस एल प्रजापति, जनवादी महिला समिति कि राज्य उपप्रधान व ज़िला सचिव कामरेड उषा सरोहा, सर्व कर्मचारी संघ के ज़िला प्रधान कंवर लाल यादव, राज्य उपप्रधान ओमवीर शर्मा, ज़िला सचिव संजय सैनी, रोडवेज कर्मचारी दयानन्द यादव, आशा वर्कर्ज यूनियन कि ज़िला प्रधान मीरा, द्रोण रेहड़ी पटडी फेरी कमेटी के अशोक सिंह, रोहतास कुमार  आदि ने बात रखते हुये सरकार को चेताया कि रोडवेज के कर्मचारी अकेले नहीं हैं, अगर दमन का रास्ता अपनाया तो पूरे हरियाणा में सीटू और सर्व कर्मचारी संघ से संबंधित लाखों मजदूर एवं कर्मचारी हड़ताल कर के आंदोलन में कूद पड़ेंगे।  उन्होने मांग कि कि रोडवेज के कर्मचारियों पर ईएसएमए के तहत बनाए गए झूठे मुकदमे वापिस लिए जाये, प्राइवेट परमिट रद्द किए जाए, 14 हजार नई बस खरीदी जाए ताकि प्रदेश के 70 हजार बेरोजगार घूम रहे नोजवानो को रोजगार मिले वहीं आम जनता को बेहतरीन परिवहन कि सुविधा प्राप्त हो सके