देश राज्य होम

स्मार्ट पुलिस के बेतूके बोल, हत्या के आरोपी गिरफ्तार हुए तो क्या मिलेगा

स्मार्ट पुलिस के बेतूके बोल, हत्या के आरोपी गिरफ्तार हुए तो क्या मिलेगा
मृतक रोहित के पिता से हुई थी जांच अधिकारी की फोन पर बात
28 सितंबर को हुई थी रोहित के साथ मारपीट 
इलाज के दौरान हुई रोहित की मौत 
कुल 15 आरोपी नामजद, 6 अभी फरार 

 

रिपोर्टर योगेश गुरूग्राम India Now24

गुरुग्राम। साइबरसिटी की देवीलाल कॉलोनी में रोहित के हत्यारे अभी भी खुल्लेआम घुम रहे हंै। वहीं पुलिस उन्हे गिरफ्तार करने की बजाए पीड़ित परिवार को ही बेतूके बोल बोल रही है। इसकी एक आॅडयो क्लिप वायरल हुई जिसमें पुलिस का जांच अधिकारी कह रहा बाकी आरोपियों को गिरफ्तार करने से तुम्हें क्या मिलेगा। बतादें कि 28 सितम्बरको 15 युवकों ने रोहित का अपहरण कर लिया और मारपीट की थी। इस मारपीट में घायल रोहित की मौत हो गई थी।

साइबरसिटी की स्मार्ट पुलिस एक तरफ तो सेवा, सुरक्षा और सहयोग का नारा देती है तो दूसरी तरफ पीडित परिवार के साथ पुलिस असहयोग का रवैया जाहिर करता है कि पुलिस बेतूके शब्द बोलकर पीड़ित को ही परेशान करती है। बता दें कि देवी लाल कॉलोनी में रहने वाले रोहित को 28 सितंबर को करीब 15 युवकों ने अपहरण कर लिया था। उसके बाद उसको पीट पीटकर अधमरा कर उसे फेंककर फरार हो गए थे। रोहित को अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां उसकी इलाज के दौरान मौत हो गई। इसकी शिकायत पुलिस को दी गई।
रोहित के पिता बिल्लू राम ने आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए जांच अधिकारी से फोन पर बात की तो वह भी अधिकारी की बात सुन कर सहम गया। फोन बिल्लुराम ने बताया कि रोहित के हत्यारे खुलेआम घूम रहे हैं। मुख्य आरोपी को तो फोन भी आॅन है उसे आप गिरफ्तार कर लें। जांच अधिकारी को मृतक रोहित के पिता ने आॅडियो भी सुनाया कि किस तरह से वे बात कर रहे हैं। इस पर पुलिस को सांत्वना देनी चाहिए थी लेकिन उलटा जांच अधिकारी ने कहा 9 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया  और बाकि  6 आरोपी गिरफ्तार भी हो गए तो उससे उसे क्या मिल जाएगा।
रोहित के पिता और गुरुग्राम पुलिस के आईओ नेतानंद के बीच हुई बातचीत के अंश
बिल्लू राम- अभी बागड़ी अरेस्ट नहीं हुआ उसका फोन चालू है।
जांच अधिकारी नेतानंद- या बिल्लू तुझे बताया तो था मैने
बिल्लू राम- उसका नंबर ये है
नेता नंद आईओ -उसका नंबर बताओ
बिल्लू राम – टेंनशन तो है अभी आरोपी गिरफ्तारी ही नहीं हुआ है जो मुख्यआरोपी है वह खुलेआम घूम रहा है
आईओ नेतानंद- यार एक बात बता जो 9 गिरफ्तार हुए है उससे तुम्हे क्या मिला है और .6 और गिरफ्तार हो जाएंगे तो क्या हो जाएगा। 
बिल्लू- वो तो ठीक ये मुख्यआरोपी फरार है
नेतानंद – पुलिस का काम गिरफ्तारी का है वो भी हो जाएंगे, यार क्यो बेकार की बात कर रहे हो
बिल्लू राम- जब गिरफ्तार हो जाएंगे फिर तो बाद की बात है, पहले गिरफ्तार तो हो
नेतानंद- बिल्लू सारे गिरफ्तार हो गए तो जब के हो जायेगा….ये बता 
यह हमारी साइबर सिटी के पुलिस के बोल। पुलिस के स्मार्ट जवान जो आरोपियों की गिरफ्तारी की बात तो करते है लेकिन गिरफ्तारी से किसी पीडित परिवार को क्या फायदा होगा क्या नहीं ये भी साफ तौर पर इस ऑडियों में सुना जा सकता है। एक तरफ जहां पुलिस को आरोपियों को गिरफ्तार कर उन्हे सलाखों के पीछे पहुंचाना चाहिए था वही पुलिस यह कहती है कि वो गिरफ्तार हो भी गए तो फायदा होगा। क्या उनको इंसाफ मिल जाएगा। इस बात से तो अंदाजा लगाया जा सकता है कि अपराध करने के बाद आरोपी खु्ल्ले आम घुमते रहे पुलिस उन्हे गिरफ्तार करे या ना करे उससे कोई फर्क नही पड़ता। पुलिस जी तो अपना काम अपने ही हिसाब से करेंगी। बता दें कि इस मामले में कुल 15 आरोपियों को नामजद किया है लेकिन जिसमें से 9 आरोपियों को गिरफ्तार किया और 6 अभी भी फरार हैं।
इस संबंध में एसीपी शमशेर सिंह ने बताया कि पुलिस इस मामले की जांच करेगी। उन्होंने बताया कि अगर पुलिस अधिकारी दोषी पाया गया तो उसके खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने बताया कि बाकी आरोपियों को भी जल्द गिरफ्तार कर लिया जाएगा। पुलिस को अगर आॅडियो मिली तो आॅडियो की जांच होगी।