Breaking News देश राज्य होम

सार्वजनिक उपकरणों की बिक्री और निजीकरण व निगमीकरण पर तुरंत रोक लगाए

सार्वजनिक उपकरणों की बिक्री और निजीकरण व निगमीकरण पर तुरंत रोक लगाए
असंगठित क्षेत्र के मजदूरों विशेष रूप से प्रवासी मजदूरों की समस्याओं का समाधान।
लबिंत मजदूरी व प्राथमिक वेतन भत्ते आदि का भुगतान।
बढ़ती बेरोजगारी और रोजगार छीनना।
श्रम कानूनों का निलंबन और राज्यों में काम के घंटे का बढाया जाना।

ब्यूरो चीफ योगेश गुरूग्राम India Now24

गुरुग्राम  भारतीय मजदूर संघ के आहवान पर सरकार जगाओं सप्ताह के सातवे और अंतिम दिन सार्वजनिक क्षेत्र जिसमें सार्वजनिक क्षेत्र उपक्रम जैसे भेल, एनटीपीसी, कोल, माईनिंग, पोर्ट, शिपयार्ड और समुंद्री कर्मचारी आते ने के प्रतिनिधियों ने गुरूग्राम के जिला उपायुक्त के माध्यम से प्रधानमंत्री के नाम ज्ञापन सौपकर  प्रदर्शन किया। आज के प्रदर्शन की अध्यक्षता शिक्षा विभाग की युनियन के जिला अध्यक्ष राजेश कुमार ने की।
भारतीय मजदूर संघ हरियाणा के प्रदेश मंत्री व जिला गुरूग्राम विभाग के सह प्रभारी और पिछले सात दिनों के कार्यकर्ताओं का मार्गदर्शन कर रहे विरेन्द्र शर्मा ने कहा कि भारतीय मजदूर संघ के आहवान पर देश भर में पिछले सात दिनों से अलग अलग युनियनों के माध्यम से केन्द्र सरकार और राज्य सरकारों के सम्मुख कर्मचारियों व मजदूर साथियों की समस्याओं को रखने के लिए सरकार जगाओं सप्ताह का आयोजन किया गया। जिसमें गुरूग्राम से सात दिनों में हजारों कार्यकत्ताओं ने प्रदर्शन कर हरियाणा सरकार और केन्द्र सरकार को जगाने का काम किया है।
एनटीपीसी कर्मचारी संघ के महामंत्री अशोक शर्मा ने कहा कि  केन्द्र सरकार द्वारा सार्वजनिक उपक्रमों की बिक्री पर तुरंत रोक लगानी चाहिए। अशोक शर्मा ने कहा कि सरकार ने लॉकडाउन के दौरान कर्मचारियों को हो रही परेशानियों के समाधान के लिए सभी जिलों में नोडल अधिकारियों की नियुक्ति की, लेकिन जिन भी कर्मचारियों ने अपनी परेशानी नोडल अधिकारी के सम्मुख रखी, सराकर ने उन कर्मचारियों को ही नौकरी से निकाल दिया। आज सारा देश सफाई कर्मचारियों को कोरोना योद्वा मानकर उनको सम्मानित कर रहा है, लेकिन केन्द्र सरकार ने एनटीपीसी फरीदाबाद में कार्यरत तीन कर्मचारियों का रोजगार छिनकर सभी कर्मचारियों को यह संदेश देने का काम किया है कि केन्द्र सरकार केवल और केवल पंूजीपतियों का हित करना चाहती है, उसे कर्मचारियों की कोई परवाह नही है।
अनुबंधित श्रमिक संघ आईजीएसटीपीएस झाड़ली के महामंत्री समशेर सिंह ने कहा कि  हरियाणा सरकार और केन्द्र सरकार कर्मचारियों के शोषण के लिए किसी भी हद तक जा सकती है। उन्होने कहा कि झाड़ली पावर प्लांट सुचारू रूप से 2009 से चल रहा है, वहां जितने भी अनुबंधित कर्मचारी कार्यरत है, उन्हे पक्का किया जाएं, सभी के पास 11 वर्षो का भी अनुभव है।
इस अवसर पर भारतीय मजदूर संघ के जिला अध्यक्ष बालकिशन हुडडा ने जिला मंत्री के माध्यम से संदेश भेजकर उपस्थित सभी युनियनों के कार्यकर्ताओं व पदाधिकारियों को सफल आयोजन के लिए बधाई दी और साथ ही साथ सरकार से मांग रखी कि भारतीय मजदूर संघ देश का सबसे बड़ा श्रमिक संगठन है, और कर्मचारियों  के काफी समय से लंबिंत मामलों  को सरकार के सम्मुख उठाया है, उन सभी मांगों को जल्द से जल्द पूरा करके सरकार कर्मचारी हितैषी सरकार होने का संदेश सभी कर्मचारियों को देने का काम करे, अन्यथा अब भी सरकार ने अपनी कुंभकरण की नींद को नही छोडा तो वो दिन दुर नही जब कर्मचारी सरकार को उसकी कुर्सी सं टांग पकड़ कर नीचे गिराने का काम करेंगे।
शिक्षा विभाग की युनियन के जिला अध्यक्ष एवं आज के कार्यकर्म की अध्यक्षता कर रहे राजेश कुमार ने कहा कि सरकार कच्चे कर्मचारियों की छटनी करने की जगह उन्हे स्थायी रोजगार उपलब्ध करवाने का काम करे। साथ ही उन्होने कार्यकर्म के समापन की घोषणा की।
इस अवसर पर भारतीय मजदूर संघ जिला गुरूग्राम की कार्यकारिणी के सभी पदाधिकारिगण, भारतीय प्राईवेट ट्रांसपोर्ट मजदूर महासंघ के महामंत्री योगेश शर्मा, भवन सन्निर्माण कामगार संघ हरियाणा जिला अध्यक्ष जयदेव कोटड़ा,  सप्ताह भर के आयोजित कार्यकर्म के जिला संयोजक सुरेश मलिक, सह संयोजक एवं हरियाणा राज्य परिवहन कर्मचारी संघ के प्रदेश उपाध्यक्ष समय सिंह, हरियाणा दवा प्रतिनिधी एसोसिएशन के मंत्री रमन सिंह, हरियाणा ऑटों चालक संघ के प्रदेश अध्यक्ष हेमंत शर्मा, प्रदेश कार्यालय मंत्री हेमराज, हुडडा कर्मचारी संघ के जिला अध्यक्ष संजीव यादव, इल्किटीªकल युनियन के  प्रधान युद्ववीर सिंह, वजरी, केदार, राजेन्द्र, आन्नद, राजकुमार, हॉकर जनकल्याण संघ के जिला अध्यक्ष किशनलाल शर्मा, शिक्षा विभाग युनियन  के जिला मंत्री महेश कुमार, मुकेश, दिनेश, घरेलु कामगार संघ हरियाणा की जिला अध्यक्ष रेखा, रमा, सुमन देवी, हरियाणा धोबी व प्रैस श्रमिक संघ के जिला अध्यक्ष अशोक माथुर, भारतीय मजदूर संघ के जिला मीडिया प्रभारी दीपचन्द निमरानिया,, संजय कोहर, इन्द्रजीत गाबा सोनू, उमाशंकर, राजकिशोर, मनीष दिवाकर, अरविन्द, अजीत, रवित शर्मा, धर्मेन्द्र  सहित भारतीय मजदूर संघ से सम्बंिन्धत युनियनों के पदाधिकारियो और कार्यकर्ताओं ने भाग लिया।