Breaking News देश राज्य होम

शहीद हुए 40 जवानों के परिवारों को सम्मानित किया गया

शहीद हुए 40 जवानों के परिवारों को सम्मानित किया गया
-योग एवं व्यायाम प्रचार समिति  द्वारा शहीदी दिवस कार्यक्रम
-वतन के दुश्मनों से रात दिन जूझंती वर्दी, सभी से प्रश्न केवल एक यह पूछती वर्दी।
-पुराने सूट नेताओं के बिकते है करोड़ो में, पड़ी मिलती क्यों कचरे में लहू भीगती वर्दी।

रिपोर्टर योगेश गुरूग्राम India Now24

गुरुग्राम।  यह पंक्तियां कवि दिनेश रधुवंशी ने भगत सिंह, सुखदेव थापड़ और शिवराम राजगुरु को शहीदी दिवस के मौके पर भव्य श्रद्धाजंलि सभा में व्यक्त की। 23 मार्च 1931 को तीन युवा क्रांतिकारियों भगत सिंह, सुखदेव थापड़ और शिवराम राजगुरु को ब्रिटिश शासन द्वारा फांसी पर लटकाया गया था। जिससे पूरे भारतवर्ष, विशेषकर युवावर्ग में एक जबरदस्त देशभक्ति सहित क्रांति की लहर उत्पन्न हो गई थी।
इन शहीदों के सम्मान में योग एवं व्यायाम प्रचार समिति के द्वारा आयोजित शहीदी दिवस का कार्यक्रम खांडसा रोड़ स्थित सेक्टर-10ए मार्केट के विशाल मैदान में किया गया। जिसमें गुरुग्राम, झज्जर, रेवाड़ी तथा मेवात के 40 शहीद हुए जवानों के परिवारों को सम्मानित किया गया। सम्मानित हुए प्रत्येक परिवार को एक एलईडी, एक जूस मिक्सर और ग्यारह हजार रुपये राशि भेंट कर सम्मान दिया गया।
स्वार्थ छोड़ देशहित में काम करें
कार्यक्रम में शहीद चन्द्रशेखर आजाद के पौत्र अमित आजाद ने अपने सम्बोधन में कहा कि देश की आजादी हजारों-लाखों लोगों की कुर्बानी से प्राप्त हुई है। देश के प्रत्येक नागरिक को अपना स्वयं का स्वार्थ छोडक़र समाज व देश की सेवा में कार्य करना चाहिए।  इस अवसर पर महावीर इंटरनेशनल विद्यालय के बच्चों ने आजादी में विशेष योगदान देने वाले शहीदों – भगत सिंह, सुखदेव थापड़, शिवराम राजगुरु चन्द्रशेखर आजाद, सुभाष चन्द्र बोस, महात्मा गांधी, महाराणा प्रताप सिंह, झांसी की रानी लक्ष्मी बाई और मंगल पांडे आदि की वेशभूषाओं में सभी श्रोताओं और अतिथिओं का मन मोह लिया।
 
सारा माहौल देशभक्ति से ओतप्रोत
कवि सम्मेलन में वेद प्रकाश वेद, सौरव जैन सुमन, शालिनी सरगम और मनोज चैहान आदि ने देशभक्ति और पुलवामा से सम्बन्धित घटना पर काव्यपाठ करके सारा माहौल देशभक्ति से ओतप्रोत कर दिया। कार्यक्रम में केन्द्रीय इस्पात मंत्री चौधरी बिरेन्द्र सिंह मुख्य अतिथि और सासंद चौधरी धर्मवीर सिंह के पुत्र मोहित सिंह ने शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की। चुनाव आचार संहिता के लागू होने के कारण मंत्री चैधरी बिरेन्द्र सिंह ने शहीदों के परिवारों को अपने हाथों से सम्मनित नहीं किया और न ही इस अवसर पर भाषण द्वारा अपने विचार व्यक्त किए।
पुष्प्प और दीपों  द्वारा श्रद्धाजंलि अर्पित की 
नवीन गोयल, एडवोकेट अभय जैन, प्रवीण अग्रवाल, अजय अग्रवाल, सतीश तायल, समता सिंगला, के एल चुग, जे एस महरवाल, कमाण्डर उदयवीर यादव, सुधीर सिंगला, अनिल आर्य, पीसी जैन, कृष्ण मुरारी, डी पी गोयल, मनीष सिंघल, सुदर्शन अग्रवाल, वीपी यादव, दीपक गुप्ता, नवल सिंह, राजेश मंगला, विधि मंगला, वी के त्रिपाठी, नीरज गुप्ता, हरविन्दर, शिवानी जैन आदि गणमान्य व्यक्तियों ने कार्यक्रम को एक एेतिहासिक रुप देने के लिए अलग-अलग जिम्मेवारी पूर्ण कर विशेष योगदान दिया। इस अवसर पर स्टेज के पास तीनों शहीदों  – भगत सिंह, सुखदेव थाप? और शिवराम राजगुरु के चित्रों पर पुष्प्प और दीपों के द्वारा श्रद्धाजंलि अर्पित की गई।