Breaking News देश राजनीती राज्य होम

वाराणसी – कोरोना संक्रमण को देखते हुए मणिकर्णिका घाट से राजघाट तक चली मन चंगा तो कठौती में गंगा की मुहिम।

कोरोना संक्रमण को देखते हुए मणिकर्णिका घाट से राजघाट तक चली मन चंगा तो कठौती में गंगा की मुहिम।

रिपोर्ट-भास्कर राय, वाराणसी

वाराणसी – कोरोना संक्रमण को देखते हुए मणिकर्णिका घाट से राजघाट तक चली मन चंगा तो कठौती में गंगा की मुहिम। प्रशासन के आवाह्न पर राष्ट्रीय ध्वज के साथ नमामि गंगे ने कोरोना से बचाव के लिए घाटों पर भीड़ न करने की अपील की।

कोरोना संक्रमण को देखते हुए प्रशासन के आवाह्न पर गंगा दशहरा के पावन पर्व पर नमामि गंगे ने मन चंगा तो कठौती में गंगा का सूत्र अपनाते हुए घरों में रहकर गंगा दशहरा का पर्व मनाने का आग्रह किया । मणिकर्णिका घाट से राजघाट तक राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा लेकर नमामि गंगे के सदस्यों ने सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए ध्वनि विस्तारक यंत्र के माध्यम से लोगों से दो गज दूरी बनाए रखने और मास्क पहने रखने की अपील की ‌। सूर्योदय की प्रभात बेला में गंगा से कोरोना मुक्त राष्ट्र की कामना की गई । श्री गंगाष्टकम का पाठ कर भारतवर्ष से कोरोनावायरस के जड़ मूल से विनाश की गुहार लगाई गई । गंगा और घाटों की स्वच्छता के लिए भी लोगों को जागरूक किया गया । सामाजिक दूरी का पालन करते हुए नाव के माध्यम से घाटों पर उपस्थित नागरिकों को कोरोना से बचाव की जानकारी दी गई । लोगों को दो गज दूरी बनाने और चेहरे पर मास्क पहनने की अपील की गई । गंगा घाटों पर अनावश्यक भीड़ न लगाने की हिदायत दी गई । संयोजक राजेश शुक्ला ने कहा कि कोरोना महामारी को देखते हुए अबकी बार गंगा दशहरा पर हमें मन चंगा तो कठौती में गंगा का सूत्र अपनाना पड़ेगा । गंगा घाटों पर भीड़ बढ़ने से कोरोनावायरस का प्रभाव फैलने की आशंका के मद्देनजर प्रशासन ने यह व्यवस्था अपनाई है जिसका हमें पूर्णतः पालन करना चाहिए । सदियों से गंगा भारत की जीवन रेखा है । गंगा भारत की सिंचाई, पेयजल धार्मिक, तीर्थाटन सहित कई अन्य आवश्यकताओं की पूर्ति कर रही हैं । गंगा को प्रदूषण मुक्त रखना हमारा संकल्प ही नहीं उत्तरदायित्व होना चाहिए । आयोजन में प्रमुख रूप से नमामि गंगे गंगा विचार मंच काशी प्रांत के संयोजक राजेश शुक्ला, महानगर संयोजक शिवदत्त द्विवेदी, महानगर सहसंयोजक शिवम अग्रहरी एवं सत्यम जयसवाल शामिल रहे ।