Breaking News देश राज्य होम

लोक निर्माण मंत्री राव नरबीर ने किया बादशाहपुर ड्रेन का निरीक्षण।

लोक निर्माण मंत्री राव नरबीर ने किया बादशाहपुर ड्रेन का निरीक्षण।
– 33 मीटर सुप्रीम कोर्ट स्टे के भाग को छोड़कर बाकी ड्रेन पूरी।
– बादशाहपुर ड्रेन की वजह से नहीं  होगी फ्लडिंग- राव नरबीर।

 

रिपोर्टर योगेश गुरूग्राम India Now24

गुरुग्राम  – बरसात का मौसम आने को है और गुरुग्राम में बरसात में होने वाले जलभराव को लेकर राज्य सरकार कितनी गंभीर है, इसका पता इसी बात से चलता है कि अभी 25 जून को उपायुक्त अमित खत्री द्वारा बादशाहपुर ड्रेन का मुआयना किया गया था, उसके बाद आज प्रदेश के लोक निर्माण तथा वन मंत्री राव नरबीर सिंह ने अधिकारियों की टीम के साथ इस ड्रेन का निरीक्षण किया। उन्होंने हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण के अधिकारियों से इस ड्रेन के बारे में पूरी जानकारी ली।
हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण गुरुग्राम के प्रशासक चंद्रशेखर खरे ने लोक निर्माण मंत्री को बताया कि 33 मीटर सुप्रीम कोर्ट के स्टे वाले भाग को छोड़कर बाकी ड्रेन का निर्माण पूरा हो चुका है। उन्होंने बताया कि इस स्टे वाले भाग को खरीदने की कोशिश की जा रही है, क्योंकि सरकार द्वारा अभी जमीन  के अधिग्रहण पर रोक लगी हुई है। इसके बाद  हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण के मुख्य प्रशासक द्वारा इसे मंजूरी दे दी जाएगी और यहां पर निर्माण कार्य  शुरू हो जाएगा। तब तक पानी की निकासी के  वैकल्पिक प्रबंध  किए जा रहे हैं । बताया गया कि  हीरो हौंडा चौक पर  जलभराव के कई कारण होते हैं, जिसमें से एक कारण  बादशाहपुर ड्रेन भी रही है। यह ड्रेन  खांडसा गांव में  मकानों के बीच से गुजरने के कारण  संकरी व तंग हो जाती थी  जिसकी वजह से  बरसात  का पानी  बैक मारता था ।
 निरीक्षण के दौरान मीडिया प्रतिनिधियों से बातचीत करते हुए प्रदेश के लोक निर्माण मंत्री राव नरबीर सिंह ने कहा कि एचएसवीपी प्रशासक श्री खरे ने उन्हें आश्वस्त किया है कि अबकी बार बादशाहपुर ड्रेन की वजह से कहीं भी पानी नहीं भरेगा और यह ड्रेन ओवरफ्लो नहीं करेगी। श्री खरे के हवाले से  लोक निर्माण मंत्री ने  मीडिया को बताया कि अबकी बार बादशाहपुर ड्रैन की क्षमता को 500 क्यूसिक से बढ़ाकर 2100 क्यूसिक कर दिया गया है जिसके बाद उम्मीद है कि जिला में जलभराव की समस्या नही होगी।  पहले इस ड्रैन की क्षमता 500 क्यूसिक थी और वहां पर 150 से 200 क्यूसिक पानी की निकासी के लिए अलग से पंप लगाए जाते थे। एचएसवीपी के अधिकारियों ने लोक निर्माण मंत्री को बताया कि इस बार हमें बादशाहपुर ड्रेन पर सैंड बैग्स लगाने की भी जरूरत नही पड़ेगी क्योंकि पहले से ही ड्रैन की क्षमता अधिक है। राव नरबीर सिंह को बताया गया कि बादशाहपुर ड्रैन में अब पानी की निकासी प्राकृतिक बहाव से अपने आप हो जाएगी और इसके लिए पंपसेट लगाने की आवश्यकता नहीं होगी।
लोक निर्माण मंत्री राव नरबीर सिंह ने मोहम्मदपुर झाड़सा गांव की तरफ से आ रहे गंदे पानी के नाले को भी देखा, जो बादशाहपुर ड्रेन में कनेक्ट होगा। मौके पर उपस्थित नगर निगम गुरुग्राम के अधिकारियों ने लोक निर्माण मंत्री से कहा कि मोहम्मदपुर झाड़सा से आने वाले इस नाले पर सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट लगाकर पानी को शोधित करने के बाद ही बादशाहपुर ड्रेन में डाला जाएगा। राव नरबीर सिंह ने इस पर सहमति जताते हुए कहा कि निगम के अधिकारीगण ऐसी व्यवस्था करें कि गांव मोहम्मदपुर झाड़सा में बरसात में पानी ना भरे। उन्होंने अधिकारियों से रेन वाटर हार्वेस्टिंग सिस्टम आवश्यकतानुसार लगाने और जो लगे हुए हैं उनको सुचारु करने के आदेश भी दिए और कहा कि बरसात का पानी जितना ज्यादा हो सके जमीन में डालने की व्यवस्था करें, इससे भूमिगत जल रिचार्ज होगा।
इस अवसर पर लोक निर्माण मंत्री राव नरबीर सिंह के साथ एचएसवीपी प्रशासक चंद्रशेखर खरे, कार्यकारी अभियंता मेजर श्वेता, नगर निगम के मुख्य अभियंता एन डी वशिष्ठ, कार्यकारी अभियंता राव भोपाल सिंह सहित कई अधिकारी गण उपस्थित थे।