Breaking News देश राजनीती राज्य होम

लखीमपुर खीरी – धारदार हथियार से एक का सर फोड़ा ,मुकदमा लिखे जाने के बाबजूद पुलिस ने अभी तक नहीं भेजा जेल

धारदार हथियार से एक का सर फोड़ा ,मुकदमा लिखे जाने के बाबजूद पुलिस ने अभी तक नहीं भेजा जेल

जसवन्त कुमार वर्मा, निघासन लखीमपुर खीरी,

पलियाकलां नगर के भीरा रोड़ पर स्थित अपनी दुकान पर बैठे पलिया निवासी व्यापारी पंकज बाजपेयी पर एक समाचार पत्र के पत्रकार ने छोटी सी बात पर किसी धारदार हथियार से हमला करते हुए उसे गम्भीर रूप से घायल कर दिया। गम्भीर हालत में पीड़ित कोतवाली में पहुंचा और आरोपी के खिलाफ तहरीर देते हुए कार्रवाई की मांग की। पुलिस ने घायल को सीएचसी में भेजा जहां से उसे जिला अस्पताल के लिये रेफर कर दिया गया। पुलिस ने आरोपी व्यक्ति के खिलाफ हत्या के प्रयास का मुकदमा दर्ज कर लिया है।
पीड़ित के परिजनों का आरोप है कि मुकदमा दर्ज होने के बाद भी पुलिस ने अभी तक आरोपी हरीश श्रीवास्तव को गिरफ्तार नही किया है। पीड़ित पंकज बाजपेई ने बताया कि वह रोजाना की तरह अपनी दुकान के पास में बैठा था। इसी बीच हरीश श्रीवास्तव ने कार निकालते समय उनसे अभद्र भाषा का इस्तेमाल कर वहां से हटने को कहा। जब मैने विरोध किया तो आरोपी व्यक्ति ने गुस्से से आग बबूला होकर पास में स्थित चिकन की दुकान में रखा धारदार हथियार उठाकर उस पर हमला बोल दिया। हमले में पीड़ित गंभीर रुप से घायल हो गया। पुलिस ने आरोपी के खिलाफ हत्या के प्रयास 307 सहित अन्य धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया है। पीड़ित का कहना है कि मुकदमा दर्ज होने के बावजूद भी पुलिस ने अभी तक उक्त आरोपी को गिरफ्तार नही किया है। अगर जल्द ही आरोपी को गिरफ्तार न किया गया तो वह उच्चाधिकारियों के अलावा कोर्ट की शरण लेने पर मजबूर होगा। यहां सोचने वाली बात यह है कि मेडिकल रिर्पोट आने के बाद भी आरोपी पर पुलिस मेहरबान है।
पुलिस के अनुसार जांच करने के बाद आरोपी के खिलाफ़ कार्यवाही की जायेगी। मगर जब पीड़ित की मेडिकल रिर्पोट आ गई तो आखिर पुलिस आरोपी पर इतना क्यों मेहरबान है। जहां एक तरफ पुलिस अन्य 307 आरोपी को तत्काल गिरफ्तार कर लेती है। वहीं उक्त आरोपी पर पुलिस की मेहरबानी को लेकर चर्चाओं का बाजार गर्म होन लगा है।