Breaking News देश राज्य होम

लखनऊ – पूर्वांचल डिस्कॉम के निजीकरण का प्रस्ताव वापस लेने की माँग

प्रकाशनार्थ
लखनऊ 03 अक्टूबर 2020, पूर्वांचल डिस्कॉम के निजीकरण का प्रस्ताव वापस लेने की माँग को लेकर विद्युत मज़दूर संगठन उप्र द्वारा चलाये जा रहे प्रदेश ब्यापी आन्दोलन के तहत आज प्रबंध निदेशक मध्यांचल कार्यालय गोखले मार्ग लखनऊ पर जिलाध्यक्ष जे पी त्रिपाठी की अध्यक्षता मेंसत्याग्रह आंदोलन पांचवे दिन भी जारी रहा।
सभा को संगठन के महामंत्री श्रीचन्द्र के अतिरिक्त जलीलुर्रह्मान, एस के सिंह, पुनीत राय राजीव अवस्थी, शैलेंद्र कुमार,अभिषेक सिंह, अजय भट्टाचार्य, मनीष श्रीवास्तव, राजीव चंद्रा, बसंत लाल, कन्हई राम, सचिन श्रीवास्तव,बबलू शर्मा,अवनीश श्रीवास्तव आदि प्रमुख लोग उपस्थित रहे ।
सभा को संबोधित करते हुए संगठन के संयोजक बरिष्ठ मजदूर नेता आर एस राय ने कहा कि कल 2 अक्टूबर को संगठन प्रतिनिधियों एवं चेयरमैन अरविंद कुमार आईएस, प्रबंध निदेशक यम देवराज आईएएस के अतिरिक्त अन्य अधिकारियों के साथ शक्ति भवन में हुयी लगभग 2 घंटे की वार्ता में चेयरमैन ने निजीकरण के मुद्दे पर अवगत कराया कि किसी भी प्रकार की कार्यवाही अभी तक नहीं की गयी है परन्तु पूर्वांचल डिस्कॉम में सितम्बर माह में 4000 करोड़ रुपये की बिजली आपूर्ति के विरुद्ध ढाई हजार करोड़ का राजस्व प्राप्त हुआ है।15 सौ करोड़ से 2000 करोड़ रुपया प्रतिमाह का घाटा पूर्वांचल डिस्काम में उठाना पड़ रहा है, जिसके लिए जब हम सरकार से पैसा मांगते हैं तो सरकार धनराशि देने में आनाकानी करती है तथा कहती है कि या तो सुधार करिए या पूर्वांचल डिस्कॉम का राजस्व बढ़ाने के लिये कोई दूसरा विकल्प निकालिए।
श्री राय ने यह भी बताया कि चेयरमैन ने अगले 6 महीनों मे केस्को की तरह पूर्वांचल डिस्कॉम का राजस्व बढ़ाने में सुधार करने का सुझाव देते हिये कहा कि निजी करण के विरुद्ध आंदोलन करने का कोई आधार नहीं है और मुझे भरोसा है कि जब लोग प्रयास करेंगे तो राजस्व बढ़ सकता है।
मीडिया प्रभारी विमल चंद्र पांडे ने बताया कि कल दोपहर में केंद्रीय कार्यकारिणी द्वारा वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए चर्चा करने के उपरांत अगले चरण के आंदोलन की घोषणा की जाएगी।
विमल चंद्र पांडे
मीडिया प्रभारी