Breaking News देश राजनीती राज्य होम

मेरठ – हर सनातन धर्मी को नागरिकता संशोधन कानून के समर्थन में खड़ा होना चाहिये-यति माँ चेतनानन्द सरस्वती

हर सनातन धर्मी को नागरिकता संशोधन कानून के समर्थन में खड़ा होना चाहिये-यति माँ चेतनानन्द सरस्वती

रितिक गर्ग
रिपोर्टर मेरठ
इंडिया नाऊ24

“नागरिकता संशोधन कानून वर्तमान
केंद्र सरकार का एक ऐतिहासिक कार्य है जिससे पाकिस्तान,बाग्लादेश और अफगानिस्तान में इस्लाम के जिहाद के जुल्म के शिकार हुए लाखो गैर मुस्लिमो को सहारा मिलेगा।अब पूरी दुनिया जान गयी है की इस्लामिक देशो में गैर मुस्लिमो के साथ कितना अत्याचार और अमानवीयता होती है।ऐसे लोगो को राहत की सांस देकर वर्तमान केंद्र सरकार ने बहुत ही सराहनीय कार्य किया है।”
ये विचार शिवशक्ति धाम डासना की श्री महंत और हिन्दू स्वाभिमान की राष्ट्रीय अध्यक्ष यति माँ चेतनानन्द सरस्वती जी ने आज एक प्रेस वार्ता के द्वारा व्यक्त किये।
उन्होंने कहा की आज जो भी लोग नागरिकता संशोधन कानून का विरोध कर रहे हैं, उन लोगो की मंशा इस देश को इस्लामिक राष्ट्र बनाकर यहाँ के सभी गैर मुस्लिमो को पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान की तरह कत्लों बर्बाद कर देने की है।इसे ये लोग गज़वा ए हिन्द कहते हैं।आज भारत के यशस्वी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह इनके इस लक्ष्य को समझ कर देश को बचाने में लग गए हैं।ऐसे में देश के सभी राष्ट्रभक्त नागरिको को उनका समर्थन करना ही चाहिए।
कुलदीप तोमर व सचिन मित्तल ने संयुक्त रूप से बताया की सांस्कृतिक गौरव संस्थान और संस्कार भारती के संयुक्त तत्वाधान में 16 फरवरी 2020 को चौधरी चरणसिंह विश्वविद्यालय के
नेताजी सुभाषचन्द्र बोस प्रेक्षागृह में नागरिकता संशोधन कानून के समर्थन
में “धर्म संवाद” का आयोजन किया जा रहा है जिसमें केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह सहित अनेक बुद्धिजीवी और मूर्धन्य विद्वान भाग लेंगे।
मुख्य संयोजक कपिल त्यागी व मुख्य समंवयक अमर शर्मा ने प्रबुद्ध जनता से”धर्म संवाद” में भाग लेकर नागरिकता संशोधन कानून का समर्थन करने का आह्वान किया।
प्रेस वार्ता में महिला शक्ति संस्थान की संगीता गुप्ता,कार्यक्रम संयोजक श्वेता मैनी, ,अनुज त्यागी, सनी गर्ग,गोपाल सुधन आशुतोष वत्स,सत्येंद्र तोमर,अनुज बंसलआदि उपस्तिथ रहे ।