Breaking News खेल देश मनोरंजन राज्य होम

मेदान्ता गुरूग्राम स्टेडियम रन 2020 ने कोलोरेक्टल कैंसर पर डाली रोशनी

मेदान्ता गुरूग्राम स्टेडियम रन 2020 ने कोलोरेक्टल कैंसर पर डाली रोशनी

रिपोर्टर योगेश गुरूग्राम India Now24

गुरूग्राम !  मरीज़ों को सक्रिय एवं निवारक चिकित्सा के बारे में शिक्षित करने की प्रतिबद्धता को जारी रखते हुए मेदान्ता  (www.medanta.org)  ने अग्रणी मेडिकल असिस्टेन्स कंपनी  (https://www.broncosservices.com/) ब्रोंकोस सर्विसेज़ प्रा लिमिटेड के सहयोग से एथलेटिक फेडरेशन आॅफ इण्डिया के तत्वावधान में कोलोरेक्टल कैंसर जागरूकता दिवस के मौके पर कोलोरेक्टल कैंसर जागरूकता स्टेडियम रन 2020 का आयोजन किया। अपनी तरह की पहली यह दौड़ 14 घण्टे तक चली जिसमें 200 प्रतिभागियों ने हिस्सा लिया। इन प्रतिभागियों में कोलोरेक्टल कैंसर पर जीत हासिल कर चुके मरीज़  स्कूली छात्र एथलीट्स और कामकाजी पेशेवर शामिल थे। जाने माने भारतीय क्रिकेटर श्री वीरेन्द्र सहवाग और श्री चंदर भान डीसीपी गुरूग्राम ने हरी झंडी दिखाकर दौड़ को रवाना किया।

एक मार्च का दिन दुनिया भर में कोलोरेक्टल कैंसर जागरुकता दिवस के रूप में मनाया जाता है। कोलोरेक्टल कैंसर (कोलन या रेक्टम का कैंसर भारत में कैंसर के कारण होने वाली मौतों के सबसे आम कारणों में से एक है। इस मैराथाॅन के माध्यम से हमने लोगों को बीमारी इसकी रोकथाम और इसके प्रबंधन के बारे में जागरुक बनाने का प्रयास किया। मैराथाॅन के ज़रिए लोगों को यह बताने का प्रयास किया गया कि कैसे सैर करने और दौड़ने से कोलोरेक्टल कैंसर की संभावना को कम किया जा सकता है। मैराथाॅन में टीम रिले, कोलोरेक्टल कैंसर वाॅक तथा सोलो रन भी आयोजित किए गए।

डाॅ नरेश त्रेहन चेयरमैन एवं मैनेजिंग डायरेक्टर मेदान्ता ने कहा लोगों को कोलोरेक्टल कैंसर के बारे में जागरुक बनाना बहुत ज़रूरी है क्योंकि इसकी रोकथाम और उपचार संभव है। मेदान्ता गुरूग्राम स्टेडियम रन 2020 के माध्यम से हमने लोगों को इस जानलेवा लेकिन रोकथाम योग्य बीमारी से लड़ने के लिए पे्ररित करने की दिशा में कदम बढ़ाया है।’’

श्री वीरेन्द्र सहवाग ने कहा शारीरिक सक्रियता जीवनशैली से जुड़ी कई बीमारियों जैसे हाइपरटेंशन मधुमेह दिल की बीमारियों तथा कुछ प्रकार के कैंसर जैसे कोलोरेक्टल कैंसर की रोकथाम में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। अध्ययनों से साफ हो गया है कि सप्ताह में चार दिन तथा एक दिन में 45 मिनट व्यायाम करने से कोलोरेक्टल कैंसर सहित कई बीमारियों की रोकथाम संभव है।’’

चंदर भान डीसीपी गुरूग्राम ने कहा मैं मेदान्ता एवं इसके साझेदारों को बधाई देना चाहूंगा जिन्होंने इतने महत्वपूर्ण विषय पर पहली गुरूग्राम स्टेडियम रन का आयोजन किया है। मुझे विश्वास है कि इस सामुहिक प्रयास के द्वारा हम लोगों को कोलोरेक्टल कैंसर के बारे में जागरुक बना सकेंगे।’’

डा रणधीर सूद चेयरमैन इन्सटीट्यूट आॅफ डाइजेस्टिव साइन्सेज़ मेदान्ता ने कहा कोलोरेक्टल कैंसर के लिए नियमित स्क्रीनिंग पर ज़ोर देने की ज़रूरत है। यूएस में 40 साल की उम्र के बाद मरीज़ों के लिए नियमित जांच अनिवार्य की गई है। भारत में खासतौर पर उच्च जोखिम वाले मरीज़ों के लिए स्क्रीनिंग प्रोटोकाॅल तय करके बीमारी के बोझ को कम किया जा सकता है।’’

डाॅ आदर्श चैधरी चेयरमैन जीआई सर्जरी जीआई ओंकोलोजी एवं बैरिएट्रिक सर्जरी इंस्टीट्यूट आॅफ डाइजेस्टिव एण्ड हेपेटोबाइलरी साइन्सेज़ मेदान्ता ने कहा अन्य कैंसर के विपरीत कोलोरेक्टल कैंसर से बचाव संभव है साथ ही जल्दी निदान होने पर इसका उपचार भी किया जा सकता है। सेहतमंद आहार, सक्रिय जीवनशैली धूम्रपान न करने शराब का सेवन सीमित मात्रा में करने से इस रोग से बचा जा सकता है। इसके अलावा आहार एवं जीवनशैली में बदलाव लाकर तथा नियमित जांच के द्वारा कोलोरेक्टल कैंसर की संभावना को कम किया जा सकता है। हालांकि उपचार सुविधाओं में सुधार हो रहा है किंतु जल्दी निदान के लिए रोकथाम एवं जांच पर ध्यान देने की आवश्यकता है।’’

डाॅ अमनजीत सिंह डायरेक्टर एवं हैड कोलोरेक्टल सर्जरी जीआई सर्जरी विभाग मेदान्ता ने कहा हालाकि कोलोरेक्टल कैंसर पर ज़्यादा चर्चा नहीं की जाती। भारत में इसके मामले तेज़ी से बढ़ रहे हैं, अगर समय पर इस पर नियन्त्रण नहीं किया गया तो यह महामारी का रूप ले सकता है। मेदान्ता गुरूग्राम स्टेडियम रन 2020 इस रोग एवं इसकी रोकथाम के बारे में मरीज़ों को जागरुक बनाने की दिशा में अनूठी पहल है। यह ज़रूरी है कि हम अपनी जीवनशैली के उन कारकों को समझें जो बीमारी का कारण बन सकते हैं। आनुवंशिक कारकों के अलावा अन्य कारकों की वजह से बीमारी की रोकथाम संभव है।’’