Breaking News देश राज्य होम

मां कालका की रसोई से रोज भरता है करीब 45 हजार लोगों का पेट

मां कालका की रसोई से रोज भरता है करीब 45 हजार लोगों का पेट
-गुरुग्राम के न्यू रेलवे रोड पर चल रही है रसोई
-कालका मां सेवा समिति की ओर से किया जा रहा है आयोजन

रिपोर्टर योगेश गुरूग्राम India Now24

 

गुरुग्राम। कोरोना संक्रमण काल मेंं वंचितों, भूखों का पेट भरने को यहां न्यू रेलवे रोड स्थित मां कालका की रसोई से रोज हजारों लोगों का पेट भर रहा है। खास बात यह है कि यहां से कोई भी व्यक्ति कितने भी लोगों का खाना ले जाकर खुद भी आवंटित कर सकता है। जिला प्रशासन से अनुमति के बाद यहां कालका मां सेवा समिति यह जनहित का कार्य कर रही है।
कालका मां सेवा समिति के अध्यक्ष देवेंद्र गोयल, मधु गोयल द्वारा कोरोना संक्रमण काल में 27 मार्च से यह सेवा कार्य चलाया जा रहा है। जैसे ही उन्हें इस बात का आभास हुआ कि लोगों को खाने में दिक्कत आ रही है, वैसे ही उन्होंने निर्णय लिया और शुरू कर दी यह सेवा। उन्होंने अपने समूह में गुडग़ांव टैंट डीलर वेल्फेयर एसोसिएशन के अध्यक्ष कमल सलूजा, दलीप लूथरा, पंकज गुप्ता, योगेश गोयल, पिं्रस मंगला, दीपक मंगला, अमन, विपिन गुप्ता, मानसी गोयल, हर्ष गोयल आदि को साथ लेकर शहर में खाने के अभाव में रह रहे लोगों की सूची तैयार करवाई और फिर यहां खाना बनवाकर वहां पर भेजना शुरू किया। देवेंद्र गोयल के मुताबिक कालका मां की रसोई से रोज करीब 45 हजार लोगों के लिए खाना बनता है। खास बात यह है कि अन्य संस्थाओं के लोग, समाजसेवी भी यहां से खाना ले जाकर शहर में अलग-अलग जगहों पर बांटते हैं। उनका कहना है कि किसी को भी भूखे पेट नहीं रहने दिया जाएगा। जहां से भी सूचना मिलती है, वहां पर संबंधित लोगों से बात करके खाना भिजवाने का काम किया जा रहा है। यहां पर सुबह-शाम दोनों समय ताजा खाना तैयार होता है। खाने में अलग-अलग चीजें शामिल की जाती हैं, ताकि लोगों को हर बार अलग खाना मिल सके। कालका मां की इस रसोई में करीब 35 कारीगर रोजाना काम करते हैं। खाना पैक करके भेजने के अलावा यहां से मंदिरों के बाहर बैठे लोगों, पुलिस नाकों पर पुलिसकर्मियों के लिए भी खाना भेजा जाता है। ताकि हर किसी का पेट भर सके। देवेंद्र गोयल, मधु गोयल का कहना है कि चाहे जितना लंबा लॉकडाउन चले, मां कालका की रसोई से लोगों का पेट भरता रहेगा। गुरुवार को यहां मां कालका रसोई में नगर निगम गुरुग्राम की ओर से सभी काम करने वालों, सेवा करने वालों की स्वास्थ्य जांच की गई।