Breaking News देश राजनीती राज्य होम

मर गई मानवता कुत्ते नोच रहे है असोथर मुख्य मार्ग सड़क के किनारे से मरी गाय को

मर गई मानवता कुत्ते नोच रहे है असोथर मुख्य मार्ग सड़क के किनारे से मरी गाय को

फतेहपुर – जिले के असोथर विकासखंड मुख्यालय से लगभग 1 कि. मी. दूर असोथर विजयीपुर मार्ग संजय मशीनरी स्टोर प्रताप नगर झाल के पास अत्यंत कमजोर होने के कारण भूख व ठंड लगने तड़प तड़प कर गाय मृत हो गयी हैं
मृत गाय 2 दिन से सड़क के किनारे पड़ी है और उसे चील, कौवे, कुत्ते नोच नोच कर खा रहे है जबकि वहाँ पर मुख्य चौराहे के अलावा आस पास कई घर भी बने हुए है मगर किसी संस्था ग्राम पंचायत या जिला प्रशासन को नही है कि सड़क के किनारे पड़े हुए मवेशी को उठाकर सही जगह ले जाकर दफनाने दे जबकि घटना स्थल के महज 500 मीटर की दूरी पर थाना असोथर और 10 मीटर दूर जिला पंचायत सदस्य असोथर सुखराज निषाद का घर है ।
बदबू से परेशान फैल सकती है बीमारी

घटना स्थल के पास कई 20 से 25 घर मौजूद है वह पर रहने वाले लोग घरो तक बदबू पहुच रही लोगों का जीना दूभर ही गया है अगर समय रहते प्रशासन इस मरे हुए मवेशी को नही उठाती तो वहाँ पर रहने वाले लोग कई बीमारियों से ग्रसित हो सकते है जिसका असर आस पास रहने वाले लोगो पर भी पड सकता है
प्रशासन भी नतमस्तक

असोथर कस्बे सहित आस पास के ग्रामो में आवारा पशुओं की भरमार है जगह- जगह सड़क पर सड़क के किनारे बैठे हुए पशु मिल जाएंगे मगर इन्हें वहाँ से हटाने की कार्यवाही न तो ,ग्राम पंचायत, और जिला प्रशासन कोई नही कर पा रही है आये दिन दलदल में फंसने और यमुना में हांक देने से मवेशी की जान तो जाती ही है साथ ही आवरा जानवरों से मार्ग दुर्घटनाओं पर वाहन चालकों को भी इसका दंश झेलना पड़ता है आवारा पशुओं के कारण फतेहपुर जिले में लगातार मौतों का ग्राफ बढ़ता जा रहा है पता नही प्रशासन इन आवारा पशु मालिको के सामने नत मस्तक क्यूँ है ये सोचनीय विषय है

पशु मालिक हो गए व्यवसायिक

पशु मालिक गाय को केवल व्ययसायिक स्तर और पशु को अपने पास रखते है जब तक गाय दूध देती है उस समय तो गाय मालिक के द्वारा पशुओं को घर पर रखा जाता है और दूध को बेचा जाता हैं या घर पर उपयोग किया जाता है लेकिन जैसे ही दूध देना बंद कर देती तो मवेशी को सड़क पर मरने के लिए छोड़ देते है ।