Breaking News देश राज्य होम

टिड्डी दल से बचाव के लिए जिला, उपमंडल व ग्राम स्तरीय कमेटियां गठित: उपायुक्त

रिपोर्टर हुसैन हिसार हरियाणा

हिसार उपायुक्त डॉ. प्रियंका सोनी ने कृषि विभाग व अन्य विभागों के अधिकारियों को फिल्ड में रहने, पड़ोसी राज्यों व जिलों से संपर्क बनाए रखने, मुस्तैदी से टिड्डी दल की गतिविधियों पर निगरानी रखने और किसानों को जागरूक करने के आदेश दिए

जिला में फसलों को टिड्डी दल के प्रकोप से बचाने के लिए उपायुक्त डॉ. प्रियंका सोनी के आदेशानुसार जिला, उपमंडल व ग्राम स्तरीय कमेटियों का गठन किया गया है। जिला स्तरीय कमेटी की चेयरमैन स्वयं उपायुक्त होंगी जबकि उपमंडल स्तरीय कमेटी के चेयरमैन संबंधित एसडीएम होंगे। ग्राम स्तरीय कमेटी पटवारी की देखरेख में कार्य करेंगी।
उपायुक्त डॉ. प्रियंका सोनी ने बताया कि पिछले दिनों पड़ोसी राज्य राजस्थान व हरियाणा के कुछ जिलों में टिड्डी दल की सक्रियता की सूचनाएं प्राप्त हुई हैं। राजस्थान सीमा पर स्थित होने के कारण हिसार जिला में टिड्डी दल के प्रवेश की आशंका से इनकार नहीं किया जा सकता है। इन परिस्थितियों में विभिन्न स्तरों पर टिड्डी दल से बचाव के लिए कमेटियां गठित की गई हैं जो बचाव प्रबंधों की रणनीति बनाते हुए इसका क्रियान्वयन सुनिश्चित करेंगी।
जिला स्तरीय कमेटी में चेयरमैन उपायुक्त के अलावा वाइस चेयरमैन अतिरिक्त उपायुक्त को बनाया गया है। इस कमेटी में सीटीएम, हिसार के एसडीएम, डीआरओ व डीडीपीओ को भी शामिल किया गया है। कृषि उपनिदेशक सदस्य सचिव की भूमिका में होंगे। इसी प्रकार उपमंडल स्तरीय कमेटी में चेयरमैन एसडीएम के अलावा तहसीलदार व बीडीपीओ शामिल होंगे। उपमंडल कृषि अधिकारी या बीएओ इस कमेटी के सदस्य सचिव होंगे। ग्राम स्तरीय कमेटी में पटवारी, ग्राम सचिव, सरपंच, नंबरदार व एडीओ, एटीएम, बीटीएम या वीएलडीए को शामिल किया गया है। यह कमेटियां टिड्डी दल पर नियंत्रण के साथ-साथ हमले की स्थिति में संबंधित स्थानों का निरीक्षण भी करेंगी।
उपायुक्त ने कृषि अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि वे पड़ोसी राज्यों व जिलों के कृषि अधिकारियों के संपर्क में रहें और टिड्डी दल की गतिविधियों की सूचनाएं प्राप्त करते रहें। उन्होंने बताया कि जिला में 6591 लीटर कोलोरोपाइरिफॉस 20 प्रतिशत ईसी दवा की उपलब्धता है। उन्होंने एचएसडीसी, एचएलआरडीसी व हैफेड को कोलोरोपाइरिफॉस 20 प्रतिशत ईसी दवा के आवश्यकता अनुसार पर्याप्त स्टॉक की उपलब्धता सुनिश्चित करने के आदेश दिए हैं। टिड्डी दल के हमले की स्थिति में 100 प्रतिशत अनुदान आधारित कोलोरोपाइरिफॉस 20 प्रतिशत ईसी दवा के सदुपयोग व इसके निरीक्षण के लिए एपीपीओ अरुण कुमार को नियुक्त किया गया है।
उपायुक्त ने कहा कि टिड्डी दल के आने की स्थिति में जिला प्रशासन पूरी तरह से अलर्ट है। उन्होंने कृषि विभाग, बागवानी विभाग, वन विभाग, फायर विभाग, पंचायती राज विभाग, राजस्व विभाग सहित अन्य विभागों को टिड्डी दल से निपटने व इसके आने की स्थिति में नुकसान की मात्रा को कम करने की दिशा में योजना अनुसार कार्य करने की हिदायत दी है। उन्होंने सभी संबंधित विभागों को फिल्ड में रहने व किसानों को जागरूक करने के आदेश दिए हैं।
कृषि उपनिदेशक डॉ. विनोद फोगाट ने बताया कि उपायुक्त के आदेश पर कृषि विभाग द्वारा प्रदेशभर के कृषि अधिकारियों व प्रगतिशील किसानों का व्हाट्सएप गु्रप बनाया गया है जिसमें टिड्डी दल की गतिविधियों की सूचनाओं का तेजी से आदान-प्रदान किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि कृषि अधिकारी पड़ोसी राज्यों व जिलों के कृषि अधिकारियों से लगातार संपर्क बनाए हुए हैं और पल-पल की सूचनाएं ली जा रही हैं। सहायक कृषि अभियंता द्वारा जिला में उपलब्ध स्प्रे पंप की सूची तैयार कर ली गई है।