Breaking News देश राज्य होम

जिला का कृषि विभाग चल रहा है राम भरोसे

जिला का कृषि विभाग चल रहा है राम भरोसे

– कृषि विभाग के लिए 80 स्वीकृत पदों में से 64 पद वर्षों से रिक्त पड़े हैं

रिपोर्टर योगेश गुरूग्राम India Now24

नूंह। सूबे के सर्वाधिक पिछड़े जिला में उद्योग धंधे व कमाई का कोई साधन न होने से यहां के अधिकांश परिवार खेती बाड़ी से ही गुजर बसर कर रहे हैं। लेकिन जिला का कृषि विभाग राम भरोसे चल रहा हैं।
मजेदार बात, यह देखने को मिल रही है कि आधुनिकता के युग में यहां का किसान अभी भी पुराने ढररे पर ही खेती बाडी कर रहा हैं।
उल्लेखनीय है कि, जनपद के 473 गांवों के लिए सरकार द्वारा कृषि विभाग के लिए 80 स्वीकृत पदों में से 64 पद वर्षों से रिक्त पड़े हैं। जिला के किसानों को सरकार से मिलने वाली सुविधाओं के साथ-साथ उन्नत खेती के भी गुर नहीं मिल पा रहे हैं। जिला के 5 विकास खण्डों के बने कार्यालयों के पास कोई भवन तक भी नहीं हैं और कारणवश वह जर्जर हाल भवनों में ही अपने कार्यालय चला रहे हैं। जनपद के कृषि विभाग में उप निदेशक(डीडीए) के अलावा 2 एसडीओ, 5 बीएओ, 47 एडीओ, 5 एसएमएस, 1 क्वालिटी कंट्रोल निरीक्षक, 1 सांख्यिाकी 1 एपीपी, 2 भूमि परिक्षण अधिकारी, 4 तकनीकी सहायक, चतुर्थश्रेणी कर्मियों सहित 80 पद मंजूर हैं। कार्यवाहक डीडीए ने स्थाई तौर से यहां का पदभार संभाल लिया हैं। जबकि 1 एसडीओ, 2 बीएओ, 42 एडीओ, 5 एसएमएस, क्वालिटी कंट्रोल निरीक्षक , 1 सहायक सांख्यिाकी , 1 एपीपी, 1 भूमि परीक्षण अधिकारी, 1 तकनीकी सहायक और चतुर्थश्रैणी के 7 जनपद में कुल 64 पद लम्बे समय से रिक्त हैं। अखिल भारतीय किसान संगठन व अन्य किसान संगठनों से जुड़े हाजी काले खान, नम्बरदार सुरेन्द्र सिंह, सतपाल सहरावत, लीलू प्रधान, ओमप्रकाश, करतार ंिसंह, अख्तर, इलियास, सकील व जाकिर आदि ने बताया कि कृषि प्रधान जनपद नूंह का कृषि विभाग का काम राम भरोसे चल रहा हैं। किसानों को सरकार की किसानों से जुड़ी बातें उन तक न पहुंचने से वह अभी भी पारम्परिक तरीके से खेती बाड़ी कर रहे हैं।
हैरानी की बात यह देखने को मिल रही है कि वर्ष 2005 में जिला बनन के बाद से कृषि विभाग कार्यालय की बदतर हालत  की चींख-चींख कर आवाज बुलंद करने के बावजूद समस्या जस की तस बननी हुई हैं। उन्होंने बताया कि 2 दिन पूर्व विश्व मृदा दिवस व अन्य कृषि संबंधित नई जानकारियों के कार्यक्रम मात्र अब कागजों तक ही सिमट कर रह गये हैं। उन्होंने  आरोप लगाकर कहा कि जिला कृषि विभाग के कार्यक्रमों को महज औपचारिकता के तौर पर आयोजित किये जा रहे हैं। जबकि किसान संगठनों से जुड़े लोगों ने बीएओ से मुलाकात कर इस पर सुधार लाने की फरियाद की हैं।
इस बारे में बीएओ बी.डी.गौतम ने माना कि जिला में कृषि विभाग के पद रिक्त हैं और उच्चाधिकारियों को अवगत कराया जा चुका हैं। लेकिन इसके बावजूद उनका हर सभंव प्रयास रहता है कि किसानों को सररकार की हर तरह की योजनाओ का लाभ मिल सकें।