Breaking News देश राज्य होम

गाजीपुर – 150 बच्चों से अधिक क्षमता वाले विद्यालय ही बनेंगे केंद्र

गाजीपुर : कोरोना को देखते हुए इस बार 150 अधिक परीक्षार्थियों को बैठाने की क्षमता रखने वाले विद्यालय ही परीक्षा केंद्र बनाए जाएंगे। प्रत्येक परीक्षार्थी को 34 वर्ग फीट की जगह चाहिए ताकि शारीरिक दूरी का पालन हो सके। यह कहना था डीआइओएस डा. ओपी राय का। वह शुक्रवार को माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की वर्ष-2021 की हाईस्कूल और इंटरमीडिएट की परीक्षा को लेकर स्वामी सहजानंद पीजी कालेज के सभागार में प्रधानाचार्यों की बैठक ले रहे थे।

जिला विद्यालय निरीक्षक डा. ओपी राय ने कहा कि केंद्र के लिए आनलाइन आवेदन करने वाले विद्यालयों के प्रधानाचार्य अगर गलत आधारभूत सूचनाएं अपलोड करेंगे तो उनके खिलाफ विभागीय कार्रवाई की जाएगी और उनके विद्यालय को केंद्र बनाने से वंचित कर दिया जाएगा। कहा कि जो विद्यालय कम से कम दो बार केंद्र रहे हैं वही फिर केंद्र बनाए जाएंगे। जो विद्यालय केंद्र बनेंगे, उनके पास डबल लाक की दो आलमारी होना अनिवार्य होगा। उन्होंने प्रधानाचार्यों से आधारभूत सूचनाएं पांच दिसंबर तक अपलोड कराने का निर्देश दिया है। आधारभूत सूचनाएं सभी विद्यालयों को अपलोड कराना है। अगर जो विद्यालय सूचना अपलोड नहीं कराता है तो उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि उप जिलाधिकारी की अध्यक्षता में जांच टीम का गठन किया गया है। इस टीम की जांच रिपोर्ट की जांच एडीएम और सीआरओ की टीम द्वारा किया जाएगा। परीक्षा में एक परीक्षार्थी को बैठने के लिए 34 वर्ग फीट जगह चाहिए। इस मानक से परीक्षार्थियों की संख्या आधी हो जाएगी। जिस केंद्र केवल 150 से कम परीक्षार्थी बैठ सकते हैं, वह विद्यालय केंद्र नहीं बन सकेंगे। अधिकतम संख्या 800 से अधिक नहीं होगी। जिला विद्यालय निरीक्षक ने प्रधानाचार्य जियारत हुसैन और गोपाल सिंह से परीक्षा से संबंधित समस्याओं के संबंध मे जानकारी ली। उन्होंने कहा कि जिन विद्यालयों पर पहुंचने के लिए दस फीट चौड़ा रास्ता नहीं होगा, ऐसे विद्यालय परीक्षा केंद्र नहीं बनाए जाएंगे।