Breaking News देश राज्य होम

कोरोना संक्रमित मरीजों की पहचान के लिए रोजाना होने वाली टेस्टिंग बढाई जाएगी

कोरोना संक्रमित मरीजों की पहचान के लिए रोजाना होने वाली टेस्टिंग बढाई जाएगी
गुरूग्राम । गुरूग्राम जिला में कोरोना संक्रमित मरीजों की पहचान के लिए रोजाना होने वाली टेस्टिंग बढाई जाएगी। प्रतिदिन 5 हजार टेस्ट करने की योजना बनाई गई है और इस दिशा में स्वास्थ्य विभाग ने काम करना शुरू कर दिया है।
सिविल सर्जन डा. वीरेंद्र यादव ने बताया कि पिछले कुछ दिनों में कोरोना संक्रमित मरीजांे की संख्या में बढ़ोतरी हुई है जोकि चिंता का विषय है। कोरोना संक्रमित मरीजों की पहचान के लिए सघन टेस्टिंग अभियान चलाया जा रहा है और अब प्रतिदिन टेस्टिंग की संख्या बढ़ाई जाएगी ताकि संक्रमित मरीजों की पहचान शुरूआती तौर पर ही हो सके। उन्होंने बताया कि इसमें कोई दो राय नहीं है कि कोरोना संक्रमित मरीज होम आइसोलेशन में रहकर भी ठीक हो रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग द्वारा होम आइसोलेशन में रह रहे लोगों की लगातार मोनिटरिंग की जाती है ताकि उनके स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं को समय रहते दूर किया जा सके। इतना ही नहीं होम आइसोलेशन में रह रहे लोगोें के लिए मरीजों की काउंसलिंग के लिए भी डाक्टरों की टीमें लगाई गई हैं ताकि लोगों में कोरोना को लेकर भय की स्थिति को दूर किया जा सके।
कोरोना संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए आमजन की भागीदारी अत्यंत आवश्यक है। लोगों को चाहिए कि वे कोरोना संक्रमण को लेकर निर्धारित डुज एण्ड डोंट्स का गंभीरता से पालन करें। यदि किसी व्यक्ति को स्वयं में कोरोना संक्रमण के लक्षण दिखाई दें तो तुरंत अपने नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र पर जाकर निःशुल्क अपने स्वास्थ्य की जांच करवाएं। डा. यादव ने बताया कि हमारा प्रयास है कि लोगों को अधिक से अधिक स्वास्थ्य सुविधाएं दी जाए और कोरोना संक्रमण के बचाव उपायों के बारे में जागरूकता बढे। इसके लिए स्वास्थ्य कर्मियों द्वारा सेवा भाव से कार्य करते हुए लोगों को जरूरत अनुसार उनके घर तक भी स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध करवाई जा रही हैं।
सिविल सर्जन ने बताया कि वर्तमान में कोरोना संक्रमित मरीजों की पहचान के लिए निःशुल्क एंटीजन टेस्टिंग कैंप लगाए जा रहे हैं। एंटीजन टेस्टिंग कैंप के लिए क्षेत्रवार शैड्यूल तैयार किया गया है। जिन लोगों में कोरोना संक्रमण के लक्षण हैं वे इन कैंप में जाकर अपना टेस्ट करवा रहे हैं। इसके अलावा, स्वास्थ्य केंद्रों पर अन्य बीमारियों की जांच के लिए भी ओपीडी की सुविधा शुरू की गई है। उन्होंने बताया कि जिला में कोरोना संक्रमित मरीजों का पाॅजिटिविटी रेट 7.04 प्रतिशत हो गया है। इसके अलावा, मृत्यु दर का आंकड़ा 0.97 प्रतिशत तथा रिकवरी रेट 85.37 प्रतिशत हो गया है।
उन्होंने आमजन से अपील करते हुए कहा कि कोरोना संक्रमण से बचाव का एकमात्र उपाय सोशल डिस्टेंसिंग है। इसलिए लोग एक-दूसरे से उचित दूरी बनाए रखें और फेसमास्क का प्रयोग करें। जहां तक संभव हो लोग घर में रहें और जब तक जरूरी ना हो घर से बाहर ना निकले। लोग अपने हाथों को साबुन से धोते रहें और यदि ऐसा संभव ना हो तो सैनेटाइजर का इस्तेमाल अवश्य करें।