Breaking News देश राजनीती राज्य होम

कानपुर नगर – आम रास्ते में दीवार उठाकर दबंग ने पूरे गांव का रास्ता किया बंद

वैन इन्टरनेशनल न्यूज एजेंसी
रिर्पोट पंकज ब्यूरो चीफ
कानपुर

आम रास्ते में दीवार उठाकर दबंग ने पूरे गांव का रास्ता किया बंद
एसडीएम ने तहसीलदार को जांच करा पुलिस को तत्काल निर्माण रूकवाने के दिए थे निर्देश बावजूद इसके दरोगा ने खडे होकर कराया दीवार का निर्माण
दरोगा ने शिकायतकर्ताओं पर उल्टा की शांतिभंग की कार्यवाही, दंबगो पर सत्तारूढ पार्टी के नेता का हाथ, पुलिस भी दे रही साथ
आम रास्ता हुआ बंद, फरियाद लेकर पूरा गांव जायेगा मुख्यमंत्री से शिकायत करने

कानपुर नगर, जब हालात यह हो जाये कि पीडित पुलिस अधिकारी की चैखट पर चप्पल रगडता रहे। जांच हो, कार्यवाही हो लेकिन पुलिस साथ न दे, दबंग अपने दबदबे से अवैध निर्माण कराने में सफल हो जाये और पीडित बार बार, हर बार अधिकारियों के चक्कर लगाता रहे ऐसे में न्याय की बात छलावा नजर आती है। ऐसे ही एक मामले में एक गांव प्रधान में पूरे गांव का रास्ता ही दीवार खडी कर बंद कर दिया। एसडीएम से शिकायत की गयी, जांच दरोगा को दी गयी तो दरागो ने आरोपितो पर शांति भंग की कार्यवाही कर दी। दरोगा एक ओर अधिकारियों को भ्रमित करता रहा दूसरी हो खडे होकर दीवार बनवा दी।
मामला बिल्हौर क्षेत्र के उत्तरीपूरा ग्राम का है जहां दर्जनों ग्रामीणों ने उनकी पुश्तैनी रास्ते पर हो रहे अवैध निर्माण की शिकायत डीएम कानपुर से की है। पीडित ग्राीण यतेन्द्र कुमार, हरीलाल, सुशीला, अनीता, अंकित, मुन्नीदेवी, आदि दर्जनो लोगों ने बताया कि उनके पुश्तैनी मकानो के सामने निकले वाले मुख्य रास्ता जो हाईवे पर मिलता है। मोती लाल शुक्ला के मकान से जुडे पुराने आम रस्ते पर दबंग अािलेश शुक्ला व उसकी पत्नी ने अपने मकान के निर्माण के बाद रास्ते पर दीवार खडी करा दी जिससे रास्ता बंद हो गया और लोगो को दूसरे दूर के रास्ते से निकला पड रहा है। बताया शुरू में जब अवैध दीवार बनाई जा रही थी तो एसडीएम को शिकायत की गयी, एसडीएम ने तहसीलदार से जांच कराकर पुलिस को तत्काल निर्माण कार्य रूकवाने का निर्देश दिया था लेकिन थाना प्रभारी अधिकारियों को भ्रमित करता रहा और खडे होकर दीवार बनवा दी। दुबारा एसडीएम से शिकायत करने पर इंस्पेक्टर ब्हिौर ज्ञान सिंह को तत्काल निमा्रण कार्य रूकवाकर कार्यवाही के लिए रिपेार्ट मांगी गयी लेकिन उत्तरी चैकी प्रभार ने आरोपितों पर शांति भंग की कार्यवाही कर दी। ग्रामीणों का कहना है कि सत्तारूण विधायक का दबंगो पर हाथ होने के कारण पुलिस भी उनके समर्थन में है ऐसे में उन्हे न्याय नही मिल रहा है। एक बार फिर ग्रामीण जिलाधिकारी से अपनी शिकायत लेकर कलेक्ट्रेट पहुंचे। पीडितों का कहना है कि यदि उनकी सुनवाई नही होती और आम रास्ते की दीवार नही हटायी जाती तो पूरा गांव लखनऊ जाकर मुख्यमंत्री योगी से मिलेगा और पुलिस तथा शामिल लोगो की शिकायत करेगा।