देश राज्य होम

एसटीएफ ने चार जालसाजों को पकड़ा, 74 एटीएम कार्ड बरामद

एसटीएफ ने चार जालसाजों को पकड़ा, 74 एटीएम कार्ड बरामद
– पैसे निकलते थे पर नहीं होती थी मशीन के रिकॉर्ड में एंट्री
– एक हफ्ते बाद दोबारा खाते में जमा होता था पैसा
रिपोर्टर योगेश गुरूग्राम India Now24
गुरुग्राम। एसटीएफ ने तीन ऐसे शातिर जालसाजों को गिरफ्तार करने में सफलता पाई है जो एटीएम हैंग कर पैसा तो निकालते थे लेकिन एटीएम मशीन के रिकॉर्ड में यह एंट्री नहीं हो पाती थी। इसके बाद कस्टमर केयर पर फोन कर खाते से पैसा नहीं निकलने की शिकायत करते थे। एक हफ्ते बाद यही रकम एक बार फिर उनके खाते में आ जाती थी। इस तरह दोहरी कमाई करने वाले आखिरकार पुलिस के हत्थे चढ़ ही गए। एटीएफ स्टाफ के एएसआई संजीव कुमार ने अपनी टीम के साथ तीनों जालसाजों को सदर बाजार के जैन मंदिर के पास से रविवार देर रात गिरफ्तार कर लिया। पकड़े गए अभियुक्तों के पास से पुलिस ने 74 विभिन्न बैंकों के एटीएम कार्ड व क्रेटा कार बरामद किया है। इनके खिलाफ शहर थाना में विभिन्न धाराओं के तहत पुलिस ने केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।
पुलिस के अनुसार पकड़े गए अभियुक्तों की पहचान इकबाल, राहिल, वाहिद और सद्दाम के रुप में की गई है। ये सभी नूंह के रहने वाले हैं। पुलिस के अनुसार पूछताछ में कई खुलासे की संभावना है। पुलिस के मुताबिक एसटीएफ स्टॉफ की टीम गश्त पर थी। इस बीच उन्हें मुखबीर से सूचना मिली कि एटीएम मशीन हैंग कर रकम निकालने वाला गिरोह सदर बाजार स्थित जैन मंदिर के पास कार पार्किंग में सफेद रंग की क्रेटा कार लेकर खड़े हैं। सूचना मिलने के बाद पुलिस टीम तत्काल मौके पर जाकर घेराबंदी कर चारों को दबोच लिया।
तलाशी के दौरान चौंकी पुलिस
मौके पर पहुंची पुलिस ने जब उनकी तलाशी ली तो चौंक गई। पुलिस के मुताबिक इकबाल की तलाशी लेने पर उसके पास से एक्सिस बैंक के 18 एटीएम कार्ड, एचडीएफसी के 2, एसबीआई के 2 और पीएनबी के 4 एटीएम कार्ड बरामद हुए। राहील के पास से विभिन्न बैंकों के 13 एटीएम कार्ड, वाहिद के पास से विभिन्न बैंकों के 21 और सद्दाम के पास से 15 एटीएम कार्ड बरामद हुआ।
एटीएम कार्ड के लिए रिश्तेदारों से खुलवाते थे खाता
पुलिस के अनुसार पकड़े गए सभी अभियुक्त काफी शातिर हैं। एटीएम से धोखाधड़ी कर रकम निकालकर आपस में बांट लेते थे। यही नहीं दूसरे व्यक्तियों का एटीएम कार्ड चुराकर या अपने दोस्त व रिश्तेदारों का बैंक में खाता खुलवा कर उनका एटीएम ले लेते थे। ऐसे में वह उस एटीएम कार्ड की मदद से पैसे निकालते थे।
ऐसे करते थे ठगी
पुलिस के अनुसार ये बड़े शातिर तरीके से वारदात को अंजाम देते थे जिससे किसी को पता भी नहीं चल पाता था। ऐसे में यह बैंक को भी चूना लगाते थे। पुलिस के अनुसार कार्ड को मशीन में डालकर पैसे निकालते समय डी वोल्ट मशीन को स्विच आॅफ कर देते थे। जिससे रकम निकल जाती थी और एटीएम मशीन के रिकार्ड में एंट्री नहीं होती थी। इसके बाद वे कस्टमर केयर को फोन कर यह सूचना देते थे कि पैसे निकालने के लिए उसने अपने एटीएम कार्ड का प्रयोग किया लेकिन मशीन से पैसे नहीं मिले। एक हफ्ते बाद जिस एटीएम से पैसे निकालने की शिकायत की थी, उस एटीएम के बैंक खाते में पैसा आ जाता था। पुलिस के अनुसार पकड़े गए अभियुक्तों ने गुडगांव व फरीदाबाद में ऐसी कई वारदातों को अंजाम दिया है।