देश राजनीती राज्य होम

आमजन से रहे परेशान बैक कर्मचारी रहे हडताल पर

आमजन से रहे परेशान बैक कर्मचारी रहे हडताल पर

फरीदाबाद में सरकारी बैंकों की हड़ताल से स्मार्ट सिटी में करीब 800 करोड़ रुपये का लेन देन प्रभावित रहा। हडताल में जिले के 21 बैंक के करीब ढाई हजार कर्मचारियों ने में हिस्सा लिया। हड़ताल में कर्मचारी 10 बजे से दोपहर बाद तक अपने मांगों के समर्थन में धरने पर बैठे रहे। धरने पर बैठे कर्मचारियों ने सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की और विरोध प्रदर्शन किया। इसके साथ ही रैली भी निकाली गई। तीन सरकारी बैंकों के विलय के विरोध में यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक संघ के आह्वान पर जिले सभी सरकारी बैंक के कर्मचारी हड़ताल पर रहे। इस दौरान जिले के सभी सरकारी क्षेत्र के बैंकों में कामकाज ठप रहा। इससे जिले में करीब 800 करोड़ रुपये का लेन देन नहीं हो सका। जरुरत मंद पैसा निकालने के लिए बैंकों का चक्कर काट रहे थे। बैंकों में कैश का लेनदेन पूरी तरह से ठप रहा। वहीं, लोगों के चेक भी क्लियर नहीं हो सका। लेकिन कुछ बैंको में एनएफटी के माध्यम से पैसा का स्थानांतरण किया गया। खाता खुलवाने का इंतजार करते रहे नए खाते खुलवाने के लिए बैंक खुलने का इंतजार करते रहे। छात्रों को नौकरी के लिए ड्राफ्ट भेजना है, लेकिन बैंक बंद होने के कारण उनका ड्राफ्ट भी नहीं बन रहे हैं। 10 हजार से अधिक रकम निकालने वाले लोग बैंक का चक्कर काटते रहे। हालांकि दोपहर बाद कुछ बैंकों को खोल दिया गया, लेकिन वहां किसी प्रकार का लेनदेन नहीं हुआ। मालूम हो कि इससे पहले भी सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के अधिकारी यूनियन ने मांगों और वेतन को लेकर 21 दिसंबर को हड़ताल की थी। इसके बाद से अबतक मात्र एक दिन ही बैंक खुले हैं। इसके बाद 23, 24 और 25 दिसंबर को अवकाश होने के कारण बैंक बंद रहे। सिर्फ 24 दिसंबर को ही बैंक खुले रहे थे। घरने पर हरियाणा बैंक संघ के प्रधान इश्वर सिंह, सचिव आरएस राधव, कृष्ण राम शर्मा, अजय कुमार राय, कृपा राम शर्मा, ऋषी सहित कई कर्मचारी मौजूद रहे। इसका हो रहा है विरोध: सरकार ने सितंबर में सार्वजनिक क्षेत्र के विजया बैंक, देना बैंक को बैंक ऑफ बड़ौदा में विलय करने की घोषणा की थी। विजया बैंक और देना बैंक कमजोर बैंकों के लिए रिजर्व बैंक की त्वरित सुधारात्मक कार्रवाई (पीसीए) नियमों के तहत कुछ पाबंदी में रखे गए हैं। इसके विरोध में बुधवार को ऑल इंडिया बैंक अधिकारी कंफेडरेशन, आल इंडिया बैंक कर्मचारी संघ और नेशनल आर्गेनाइजेशन ऑफ बैंक काय्र्कर्ता सहित कई अन्य संगठनों ने मिलकर बंद किया था। एटीएम में दो दिन की नगदी: हड़ताल और क्रिसमस की छुट्टी को देखते हुए बैंकों के प्रबंधन ने सोमवार को मंगलवार और बुधवार को एटीएम में कैश भरने वाली एजेंसियों को जिम्मेदारी सौंप दी गई थी। जिससे की उपभोक्ताओं को किसी प्रकार की ज्यादा दिक्कत नहीं हुई।