Breaking News देश राजनीती राज्य होम

अयोध्या – सड़क दुर्घटना में बाइक सवार की मौत

सड़क दुर्घटना में बाइक सवार की मौत
सड़क के किनारे लगभग 10 फिट गहरे गड्ढ़े में गिरा था बाइक सवार

मिल्कीपुर_अयोध्या
इनायतनगर थाना क्षेत्र के गढ़ा गांव के पास अज्ञात वाहन की टक्कर से 38 वर्षीय बाइक सवार युवक की दर्दनाक मौत हो गई है। घटना की जानकारी पाकर मौके पर पहुंचे इनायत नगर थाना प्रभारी निरीक्षक ने युवक का शव कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। पुलिस ने हादसे में मारे गए युवक के भाई की तहरीर पर अज्ञात के विरुद्ध मुकदमा कायम कर लिया है।

इनायत नगर थाना क्षेत्र अंतर्गत गौरवा निवासी 38 वर्षीय गंगाराम चौरसिया पुत्र भगवान भी चौरसिया बीते 6 दिसंबर शुक्रवार की शाम करीब 7ः00 बजे अपनी डिस्कवर बाइक रजिस्ट्रेशन नंबर यूपी 42 यू 4580 से इनायतनगर बाजार के लिए निकला था। बाजार से वह देर शाम अपने घर वापस लौट रहा था। वह इनायतनगर गदुरही मार्ग पर स्थित गढ़ा गांव मोड़ के पास पहुंचा था कि किसी अज्ञात वाहन ने बाइक सवार युवक को टक्कर मार दिया। जिससे युवक बाइक समेत सड़क के किनारे लगभग 10 फीट गहरे गड्ढे में जा गिरा और मौके पर ही उसकी मौत हो गई। रात का समय होने के चलते किसी को घटना की जानकारी तक नहीं हो सकी।
उधर परिवारी जन जी युवक के देर रात तक अपने घर वापस न लौटने पर खोजबीन कर रहे थे। शनिवार को कल सुबह शौच के लिए निकले ग्रामीणों ने सड़क के किनारे गड्ढे में पड़े युवक का शव देख इनायत नगर पुलिस को सूचना दी जानकारी मिलते ही इनायत नगर थाने के प्रभारी निरीक्षक अशोक कुमार सिंह वरिष्ठ उपनिरीक्षक उपेंद्र प्रताप सिंह सहित पुलिस फोर्स लेकर मौके पर पहुंच गए मौके पर पहुंची पुलिस टीम ने गड्ढे में पड़े युवक का शव बाहर निकलवाया और पंचायत नामा कराने के उपरांत पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। मामले में प्राथमिकी कायम किए जाने हेतु मृत युवक के छोटे भाई दिनेश कुमार चौरसिया ने थाने में तहरीर दी जिसके आधार पर प्रभारी निरीक्षक अशोक कुमार सिंह ने अज्ञात वाहन एवं वाहन चालक के विरुद्ध मुकदमा कायम कर घटना की छानबीन शुरू कर दी है। ग्रामीणों ने बताया कि मृत युवक पेशे से राजगीर का काम करता था। वह अपने पीछे चार छोटी संताने छोड़ गया है। घटना के बाद से मृतक के परिवार सहित समूचे गांव में कोहराम मच गया है। हर किसी की जुबान पर बस एक ही सवाल कौंध रहा है कि आखिर आप इन बेसहारा बच्चों की परवरिश और देखरेख कौन करेगा।
अनिल निषाद
अयोध्या