Breaking News देश राजनीती राज्य होम

अयोध्या – प्रधानमंत्री से जिला अस्पताल के लापरवाह डॉक्टर की उच्चस्तरीय जांच व बिभागीय करवाई की मांग

प्रधानमंत्री से जिला अस्पताल के लापरवाह डॉक्टर की उच्चस्तरीय जांच व बिभागीय करवाई की मांग

अयोध्या। जिला अस्पताल में तैनात चिकित्सक की ओर से लावारिश शव के पोस्टमार्टम को लेकर बरती गई घोर लापरवाही की शिकायत प्रधानमंत्री से की गई है।शिकायत की प्रति प्रदेश के राज्यपाल,स्वास्थ्यमंत्री,निदेशक स्वास्थ्य और प्रमुख सचिव स्वास्थ्य को भी भेजी गई है।कहा गया है कि 30 जनवरी को मामले की शिकायत प्रदेश के मुख्यमंत्री समेत आला अधिकारियों से की गई थी,लेकिन अभी तक न तो कोई जांच कराई गई और न ही कोई विभागीय कार्यवाई हुई।
प्रधानमंत्री समेत अन्य को रजिस्टर्ड डाक से भेजी गई शिकायत में शहर क्षेत्र के महाजनी टोला निवासी विनय सिन्हा का कहना है कि 17 जनवरी की सुबह 108 एंबुलेंस पर तैनात ईएमटी राजा बाबू शुक्ला की ओर से एक 28 वर्षीय युवक को उपचार के लिए सुबह 8:55 बजे जिला अस्पताल लाया गया। ड्यूटी पर तैनात चिकित्सक ने युवक को मृत घोषित कर दिया। मामला लावारिस के मौत होने के चलते ड्यूटी पर तैनात चिकित्सक की ओर से शव को मोर्चरी में रखवाया गया और पोस्टमार्टम कराने के लिए मेमो नगर कोतवाली पुलिस को भेजा गया। 21 जनवरी को पुलिस ने मोर्चरी से शव हासिल कर पोस्टमार्टम के लिए भिजवा दिया। लावारिस शव 2:00 बजे पोस्टमार्टम हाउस पहुंचाने के बावजूद पोस्टमार्टम ड्यूटी पर तैनात डॉक्टर की ओर से पोस्टमार्टम नहीं किया गया।
आरोप है कि जिला अस्पताल में तैनात चिकित्सक डॉ विपिन कुमार वर्मा ने लावारिस शव के पोस्टमार्टम को लेकर लापरवाही बरती और 24 घंटे तक लावारिस शव का पोस्टमार्टम नहीं किया।अगले दिन पोस्टमार्टम ड्यूटी पर पहुंचे जिला अस्पताल के ही डॉ आशीष कुमार श्रीवास्तव ने शव का पोस्टमार्टम किया। तब जाकर लावारिस शव का अंतिम संस्कार हो पाया। जो कि मेडिकल पेशे के दायित्व का सरासर अनदेखी और कर्तव्य के प्रति घोर लापरवाही है।
इतना ही नहीं बीते 30 जनवरी को मुख्यमंत्री समेत आला अधिकारियों से शिकायत किये जाने के बावजूद अभी तक कोई जांच व कारवाई नहीं हुई। मांग की गई है कि लापरवाह चिकित्सक के खिलाफ उच्चस्तरीय जांच और दंडात्मक विभागीय कार्रवाई के लिए आदेशित किया जाय।
—————